दशहरा - बुराई पर अच्छाई का दिन है विजय दशमी

25 अक्तूबर 2020

हिन्दू धर्म में दशहरा अथवा विजय दशमी का बहुत ही महत्व है| यह दिन बुराई पर अच्छाई, झूठ पर सच्चाई की विजय का प्रतीक है| प्रत्येक वर्ष आश्विन मास की दशमी तिथि पर यह अत्यंत शुभ पर्व पूरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास से मनाया जाता है| इस वर्ष यह उत्साहपूर्ण पर्व 25 अक्तूबर 2020 को धूमधाम से मनाया जाएगा| दशहरा नाम संस्कृत भाषा से उत्पन्न हुआ है जिसे विच्छेद करने से बनता है ‘दशा’ यानि दस एवं ‘हारा’ यानी हार जिसका अर्थ है दस सर वाले रावण की हार| विजय दशमी का अर्थ है हिन्दू पंचांग की दशमी तिथि पर बुराई पर अच्छाई की विजय के पर्व के रूप में मनाया जाता है।

 

दशहरा की पौराणिक कथा

पंडितजी का कहना है कि पौराणिक कथाओं के अनुसार जब श्रीराम 14 वर्षों के वनवास में अपना जीवन यापन कर रहे थे तो लंकापति रावण ने उनकी पत्नी माता सीता का अपहरण कर उन्हें लंका की अशोक वाटिका में बंदी बना कर रख लिया था| श्रीराम ने अपने अनुज लक्ष्मण, भक्त हनुमान और सुग्रीव, जामवंत आदि से संपन्न वानर सेना के साथ रावण की सेना से लंका में ही पूरे नौ दिनों तक युद्ध लड़ा| मान्यता है कि उस समय प्रभु राम ने देवी माँ की उपासना की और उनके आशीर्वाद से आश्विन मास की दशमी तिथि पर अहंकारी रावण का वध किया|

 

एक और कथा के अनुसार असुरों के राजा महिषासुर ने देवों को पराजित कर इन्द्रलोक और समस्त पृथ्वी पर अपना वर्चस्व कायम कर दिया था| चूंकि ब्रह्मदेव के वरदान से महिषासुर को ना ही कोई पुरुष, ना कोई देव, यहाँ तक कि स्वयं त्रिदेव यानि ब्रह्मा, विष्णु, महेश भी उसका वध नहीं कर सकते थे| ऐसे में त्रिदेवोंं के साथ मिलकर सभी देवों ने अपनी शक्तियों से देवी भगवती की उत्पत्ति की| तत्पश्चात देवी माँ ने महिषासुर के साथ उसकी सेना का वध कर देवों को पुनः स्वर्गलोक का अधिकार दिलवाया और समस्त विश्व को महिषासुर के आतंक से मुक्त करवाया| माँ की इस विजय को ही विजय दशमी के रुप में मनाया जाता है| 

 

विजयदशमी पर आपको कैसे मिल सकती है विजय जानें अपनी कुंडली के अनुसार ज्योतिषाचार्यों से सरल उपाय। अभी परामर्श करें। 

 

दशहरा शुभ मुहूर्त

दशहरा / विजय दशमी तिथि - 25 अक्तूबर 2020, रविवार

विजय मुहूर्त - 13:57 से 14:42 बजे तक

अपराह्न पूजा मुहूर्त - 13:12 से 15:27 बजे तक

दशमी तिथि प्रारंभ  - सुबह 7 बजकर 41 मिनट (25 अक्तूबर 2020) से

दशमी तिथि समाप्त - सुबह 09:00 बजे (26 अक्तूबर 2020) तक
 

संबंधित लेख

दिवाली 2020  |     दिवाली पूजा मंत्र   |    दीपावली –  पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   दिवाली पर यह पकवान न खाया तो क्या त्यौहार मनाया   |  

लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र   ।   गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   

छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |

एस्ट्रो लेख

क्या आप भी जन्मे हैं मार्च महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

Shubh Muhurat March 2021 - मार्च माह में शुभ मुहूर्त और प्रमुख तीज-त्योहार

फागुन – फाल्गुन मास के व्रत व त्यौहार

सत्यनारायण भगवान की व्रत कथा व पूजन विधि

Chat now for Support
Support