ज्येष्ठ अमावस्या 2019 – जानें अधिक अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

अमावस्या तिथि को दान पुण्य के लिये, पितरों की शांति के लिये किये जाने वाले पिंड दान, तर्पण आदि के लिये बहुत ही सौभाग्यशाली दिन माना जाता है। साथ अमावस्या एक मास के एक पक्ष के अंत का भी सूचक है। हिंदू पंचांग जो पूर्णिमांत होते हैं उनके लिये यह मास का पंद्रहवां दिन तो जो अमांत होते हैं यानि अमावस्या को जिनका अंत होता है उनके लिये यह मास का आखिरी दिन होता है। इस तरह हिंदू कैलेंडर में मास का निर्धारण करने के लिये भी यह तिथि बहुत महत्वपूर्ण है। अमावस्या के पश्चात चंद्र दर्शन से शुक्ल पक्ष का आरंभ होता है तो पूर्णिमा के पश्चात कृष्ण पक्ष की शुरूआत होती है। कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन जब चंद्रमा बिल्कुल भी दिखाई नहीं देता तो वह दिन अमावस्या का होता है। वैसे तो सभी अमावस्या धर्म कर्म के कार्यों के लिये शुभ होती हैं लेकिन ज्येष्ठ अमावस्या का विशेष महत्व है।

ज्येष्ठ अमावस्या पर शनिदोष निवारण के लिये सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये परामर्श करें देश भर के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों। एस्ट्रोयोगी पर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

क्यों खास है ज्येष्ठ अमावस्या (JYESHTHA AMAVASYA)

दरअसल ज्येष्ठ अमावस्या को न्याय प्रिय ग्रह शनि देव की जयंती के रूप में मनाया जाता है। शनि दोष से बचने के लिये इस दिन शनिदोष निवारण के उपाय विद्वान ज्योतिषाचार्यों के करवा सकते हैं। इस कारण ज्येष्ठ अमावस्या का महत्व बहुत अधिक बढ़ जाता है। इतना ही नहीं शनि जयंती के साथ-साथ महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिये इस दिन वट सावित्री व्रत भी रखती हैं। इसलिये उत्तर भारत में तो ज्येष्ठ अमावस्या विशेष रूप से सौभाग्यशाली एवं पुण्य फलदायी मानी जाती है।

 

ज्येष्ठ अमावस्या व्रत व पूजा विधि (JYESHTHA AMAVASYA VRAT POOJA VIDHI)

ज्येष्ठ अमावस्या को वैसे तो स्त्रियां वट सावित्री का व्रत रखती हैं लेकिन इस दिन स्त्री पुरुष दोनों ही उपवास रख सकते हैं। इसके लिये प्रात:काल उठकर नित्य क्रियाओं से निवृत होकर धार्मिक तीर्थ स्थलों, पवित्र नदियों, सरोवर में स्नान करने की मान्यता है। यदि ऐसा संभव न हो तो घर पर ही स्वच्छ जल में थोड़ा गंगाजल मिलाकर स्नान कर सकते हैं। स्नान के पश्चात सूर्यदेव को अर्घ्य देकर बहते जल में तिल प्रवाहित करने चाहिये। इसके पश्चात पीपल वृक्ष में जल का अर्घ्य दिया जाता है। साथ ही शनि देव की पूजा भी की जाती है। जिसमें शनि चालीसा सहित शनि मंत्र का जाप भी आप कर सकते हैं। वट सावित्री व्रत रखने वाली स्त्रियां इस दिन यम देवता की पूजा करती हैं। पूजा के पश्चात सामर्थ्यनुसार दान-दक्षिणा अवश्य देनी चाहिये।

 

कब है ज्येष्ठ अमावस्या (JYESHTHA AMAVASYA)

ज्येष्ठ मास में अमावस्या को धर्म कर्म, स्नान-दान आदि के लिहाज से यह बहुत ही शुभ व सौभाग्यशाली माना जाता है। 2019 में ज्येष्ठ मास की अमावस्या 3 जून को सोमवार के दिन है। इस दिन को शनि जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।

ज्येष्ठ अमावस्या तिथि आरंभ – 16:39 बजे (2 जून 2019)

ज्येष्ठ अमावस्या तिथि समाप्त – 15:31 बजे (3 जून 2019)

 

 

 

यह भी पढ़ें

अमावस्या 2019 – कब-कब हैं अमावस्या तिथि   |   वैशाख अमावस्या   |   आषाढ़ अमावस्या

सावन अमावस्या   |   अश्विन सर्वपितृ अमावस्या   |   माघ मौनी अमावस्या   |   ज्येष्ठ मास – जानें कौन-कौन से व्रत व त्यौहार हैं ज्येष्ठ माह में   |  

 शनि जयंती 2019 – क्या है महत्व कैसे करें शनिदेव की पूजा   |   गंगा दशहरा – इस दिन गंगा स्नान से कटेंगें दस पाप   |   

वट सावित्री व्रत 2019 - जानिये वट सावित्री व्रतकथा व पूजा विधि   |   गायत्री जयंती – विश्वामित्र ने पंहुचाया सर्वसाधारण तक गायत्री मंत्र   |   

निर्जला एकादशी 2019 – एकादशियों में सबसे श्रेष्ठ है यह उपवास   |   कबीर जयंती 2019 – जात जुलाहा नाम कबीरा

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜