Skip Navigation Links
कुबेर के लिये जलायें 13 दीप होगा धन लाभ


कुबेर के लिये जलायें 13 दीप होगा धन लाभ

वैसे तो कुछ धर्मों में 13 की संख्या अशुभ की प्रतीक होती है। वास्तु के अनुसार भी इस संख्या को अशुभ बताया जाता है लेकिन एक दिन ऐसा होता है जो इस संख्या को बहुत शुभ बना देता है। यह दिन है कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी यानि तेरस का जिसे हम धनतेरस के नाम से जानते हैं। धन के देवता कुबेर हैं इसलिये तेरस के दिन तेरह दीपक धन देवता के नाम के जलाये जाते हैं। मान्यता है कि इससे धनादि देव कुबेर प्रसन्न होते हैं।

धन की चाह तो सभी को होती है। सभी चाहते हैं कि उनका घर धन-धान्य से परिपूर्ण रहे। धनतेरस के तो नाम में भी धन है इसलिये इस दिन कुछ विशेष प्रयास आपकी मनोकामना को पूर्ण कर सकते हैं। आपके धन भंडार को समृद्ध कर सकते हैं।


कैसे करें कुबेर पूजा


धनतेरस के देवता धन्वंतरी तो हैं ही उनकी पूजा के साथ-साथ ऐश्वर्य के देवता कुबेर की पूजा करना भी बहुत जरूरी होता है। कुबेर देवता की पूजा चंदन, धूप, दीप, नैवेद्य आदि से विधिपूर्वक करनी चाहिये और साथ ही कुबेर मंत्र का जाप करना चाहिये।


कुबेर मंत्र

यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये 

धन-धान्य समृद्धि में देहि दापय स्वाहा।’ 

मंत्र का उच्चारण भी सही और विधिपूर्वक किया जाना चाहिये। अन्यथा अपेक्षाकृत परिणाम मिलने की संभावना कम हो जाती हैं। साथ ही जाने-अंजाने हुई भूल के लिये क्षमा याचना भी कुबेर देवता से करनी चाहिये।


संबंधित लेख

धनतेरस पर पाना है धन तो करें ये जतन   |   इस दिवाली कौनसे रंगों से बढ़ेगी घर की शोभा   |   दिवाली पर यह पकवान न खाया तो क्या त्यौहार मनाया   |   

 दिवाली पूजा मंत्र   |  दीपावली –  पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र   । धनतेरस 2016 – धनतेरस पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

नरक चतुर्दशी - क्यों कहते हैं छोटी दिवाली को नरक रूप या यम चतुदर्शी   |   दिवाली की खरीददारी में दिखाएं समझदारी   |    दिवाली 2016   |   

गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...