RCB vs CSK - रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर vs चेन्नई सुपर किंग्स का मैच प्रेडिक्शन

24 अक्तूबर 2020

IPL 2020 44th मैच की प्रेडिक्शन

  • रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर vs चेन्नई सुपर किंग्स 
  • तिथि – 25 अक्टूबर 2020
  • स्थान – दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम, दुबई
  • समय – दोपहर 3:30 बजे  (भारतीय समयानुसार), दोपहर 2:00  बजे  (यूएई समयानुसार) 
  • रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की नाम राशि - तुला
  • चेन्नई सुपर किंग्स की नाम राशि – मेष

 

एक नजर दोनों टीमों के प्रदर्शन पर

आईपीएल के 13वें सीजन के 39वें मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने कोलकाता नाइट राइडर्स को 8 विकेट से मात दी। वहीं अपनी 5वीं हार के साथ केकेआर अंकतालिका में चौथे स्थान पर बनी हुई है। जबकि दूसरी ओर हमेशा फाइनल और प्ले ऑफ में रहने वाली चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल 2020 के प्ले ऑफ से बाहर हो चुकी है। बीते 23 अक्टूबर को शारजाह में खेले गए मैच में चेन्नई सुपर किंग्स को मुंबई इंडियंस ने 10 विकेट से हराया था। वहीं अब आगामी 25 अक्टूबर को धोनी के धुरंधरों का सामना विराट की सेना से होने जा रहा है। इससे पहले आईपीएल 2020 के 25वें मुकाबले में विराट की सेना ने धोनी के धुरंधरों को 37 रनों से मात दी थी। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या आरसीबी प्ले ऑफ में जगह बना पाती है या सीएसके उसकी जीत में रोड़ा बन जाती है? फिलहाल ज्योतिषीय आकलन के आधार पर हम आपको बताते हैं कि कौन सी टीम के जीतने के आसार अधिक हैं?

 

चेन्नई सुपर किंग्स - महेंद्र सिंह धोनी

बहरहाल एस्ट्रोयोगी ज्योतिषी द्वारा की गई ज्योतिषीय भविष्यवाणी की मदद से जानते हैं कि इस मैच का परिणाम क्या रहने वाला है। दरअसल चेन्नई सुपर किंग्स की नाम राशि मेष है। मेष का स्वामी मंगल गोचर के अनुसार बारहवें स्थान में चला जाना और पराक्रम पर दृष्टि ढालना चेन्नई को जीत की ओर ले जा रहा है। ऐसे में चेन्नई सुपर किंग्स का विजेता बनना उसकी नाम राशि के स्वामी मंगल के गोचर करने से यह तय माना जा सकता है। परंतु जीत के लिए चेन्नई को परिश्रम भी करना होगा। 

वहीं सीएसके के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की जन्म तिथि और जन्म समय(12 बजे) के अनुसार उनकी नाम राशि सिंह है जो कि सूर्य की राशि मानी जाती है। सूर्य राशि के जातक बड़े पराक्रमी भी होते हैं। ये विपरीत परिस्थिति में भी अपने आप को नियंत्रण में रखकर इसका तोड़ निकाल लेते हैं। यही धोनी की खूबी भी है। कैप्टन कूल का खिताब महेन्द्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को इसी के चलते मिला हैं। नाम राशि के हिसाब से धोनी के लिए यह आईपीएल सामान्य रहेगा। 

अंक ज्योतिष के मुताबिक, धोनी का मूलांक 7 बनाता है। जो कि अंक ज्योतिष में केतु का अंक माना जाता है। केतु को वैदिक ज्योतिष में एक छाया ग्रह व क्रूर ग्रह माना जाता है, जो अपने साथ बैठे राशि व अपने स्थान के हिसाब से जातक को परिणाम देता है। केतु का गोचर में धनु राशि यानि कि गुरु के घर में आना गुरु की तरह परिणाम देगा। क्योंकि बृहस्पति गोचर में स्वग्रही है। गुरु का साथ मिलने पर केतु बलवान होकर गुरु का ही फल धोनी को देगा। जिस कारण मूलांक 7 का कारक ग्रह केतु महेंद्र सिंह धोनी व चेन्नई सुपर किंग के लिए फलदायी ही माना जाएगा। भाग्यंक 6 जो कि शुक्र का अंक है। यह भी धोनी के हित में ही रहेगा। कुल मिलाकर धोनी के लिए इंडियन प्रीमियर लीग का 13वां  संस्करण मिला जुला परिणाम देगा।

 

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर - विराट कोहली 

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की नाम राशि तुला है और तुला राशि का स्वामी शुक्र है। राशि स्वामी शुक्र 25अक्टूबर को भाग्य स्थान में नीच के रहेंगे जो टीम के लिए अच्छा नहीं कह सकते। ज्योतिष शास्त्र में लग्न का स्वाम चाहे जैसे भी हो वो शुभफल ही देता है। वहीं कुछ खिलाड़ी जो लंबे वक्त से अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे थे वो इस दिन कर सकते हैं। साथ ही मैच को अपने नाम भी कर सकते हैं। 

वहीं आरसीबी के कप्तान विराट कोहली की चन्द्रराशि कन्या है और कन्या का स्वामी बुध इनकी राशि से वर्तमान में दूसरे घर में विराजमान है। बुध की स्थिति तो वक्री है और नीचे के सूर्य के साथ होने से कमजोर है। किन्तु बुध का दूसरे घर में होने के कारण यह कोहली के लिए अच्छे निर्णय करने और खेल में बेहतरीन प्रदर्शन करने के योग बनाते हैं। कप्तान की स्थिति भी मजबूत रहेगी। जबकि अंक ज्योतिष के मुताबिक, कोहली का मूलांक 5 है और इसका स्वामी बुध है। जो कि ज्ञान, बुद्धि और विवेक का कारक माना जाता है। ऐसे में कोहली सही निर्णय लेने में सफल होंगे। विराट का भाग्यांक 1 है जिसकी वजह से भाग्य का साथ बना रहेगा।

कुल मिलाकर दोनों टीमों के कप्तान एवं गोचर का आकलन करने से चेन्नई सुपर किंग्स के जीतने के प्रबल आसार हैं।  हालांकि क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है, इसलिए ये तो वक्त ही बताएगा कि कौन जीत का स्वाद चखेगा।

कोलकाता में ज्योतिषी । पुणे में ज्योतिषी

एस्ट्रो लेख

पितरों के मोक्ष प्राप्ति के लिए रखें चैत्र अमावस्या व्रत

शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

क्या आप भी जन्मे हैं अप्रैल महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

पापमोचिनी एकादशी 2021 - जानें व्रत तिथि व पूजा विधि

Chat now for Support
Support