चक्र

आपने शायद सात चक्रों के बारे में बात करते हुए लोगों को सुना होगा। उन्हें अक्सर भावनात्मक उपचार या ध्यान अभ्यास के संदर्भ में संदर्भित किया जाता है। लेकिन आप क्या अभी तक समझ नहीं पाए हैं कि आखिरकार चक्र (Chakra) का हमारे जीवन में क्या स्थान है? यह चक्र हमारे जीवन में क्या भूमिका निभाते हैं और यह कैसे काम करते हैं? तो चलिए इस लेख में हम आपको चक्रा हीलिंग यानि चक्र (Chakra) चिकित्सा के बारे में विस्तार से बताएंगे। अच्छी बात यह है कि सभी लोग चक्रों के साथ काम कर सकते हैं, और यह केवल विशेषज्ञों तक ही सीमित नहीं है।

जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं कि संपूर्ण ब्रह्मांड ऊर्जा से बना है, और आपके शरीर के लिए भी यही है। हमारे शरीर के भीतर सात अलग-अलग ऊर्जा केंद्र हैं और इनमें से प्रत्येक शक्तिशाली ऊर्जा केंद्र एक अद्वितीय कंपन आवृत्ति रखता है। शरीर में चक्रों का एक बुनियादी ज्ञान आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को कई आश्चर्यजनक तरीकों से बढ़ा सकता है।

चक्र क्या है ?

चक्रों की उत्पत्ति का पता प्राचीन हिंदू और बौद्ध परंपराओं से लगाया जा सकता है। चक्र, योगिक दर्शन में, जिसे अक्सर व्हील या सर्कल या डिस्क के रूप में अनुवादित किया जाता है, मानव शरीर के भीतर ऊर्जा केंद्र हैं।

7 चक्र (7 Chakra) आपके पूरे शरीर में स्थित होते हैं, जो आपकी रीढ़ के आधार से शुरू होकर आपके सिर के शीर्ष तक जाते हैं। प्रत्येक चक्र की अपनी कंपन आवृत्ति होती है, रंग को नियंत्रित करता है, और शरीर में विशिष्ट कार्यों को नियंत्रित करता है। ऊर्जा के ये अदृश्य पहिये आपकी शारीरिक प्रणाली के सभी भागों को नियंत्रित करते हैं, जो रोगों के प्रतिरोध से लेकर भावनात्मक प्रसंस्करण तक हर चीज को प्रभावित करते हैं। सभी के सभी, संतुलित चक्र हमें स्वस्थ और जीवंत रखते हैं।

सात चक्र और उनकी मूल बातें

शरीर में सात चक्रों के बारे में पता होना महत्वपूर्ण है। एक बार जब आप अपने 7 चक्रों को खोलने में माहिर हो जाते हैं और रुकावटों के बारे में अंतर्ज्ञान विकसित करते हैं। इसके अलावा, आप पुराने घावों का पता लगा सकते हैं और उन्हें ठीक करने के लिए आवश्यक कार्य कर सकते हैं। संक्षेप में, चक्रों के उचित ज्ञान के माध्यम से, चिकित्सा हो सकती है। यहाँ 7 चक्रों पर एक नज़र डालते हैं और वे ह मारे शरीर और मन के साथ कैसे जुड़े हैं इसके बारे में जानते हैं।

हमारे शरीर के सात चक्र है जिनका नाम

  • मूलाधार चक्र (The Root Chakra)
  • स्वाधिष्ठान चक्र (The Sacral Chakra)
  • मणिपुर चक्र (The Solar Plexus Chakra )
  • अनाहत चक्र (The Heart Chakra )
  • विशुद्ध चक्र (The Throat Chakra)
  • आज्ञा चक्र (The Third Eye Chakra)
  • सहस्त्रार चक्र (The Crown Chakra)


Chat now for Support
Support