मूलाधार चक्र

शरीर में उपस्थित सप्तचक्रों में से मूलाधार चक्र (Muladhara Chakra) में ऊर्जा शक्ति सुप्त अवस्था में रहती है। यह चक्र जानवर और मानव चेतन के बीच सीमा को निर्धारित करता है। इसका संबंध अवचेतन मन से होता है, जिसमें हमारे पूर्व जन्म के कर्म और अनुभव संग्रहीत होते हैं। जब मूलाधार चक्र संतुलित होता है, तो आपको खुशी, संतोष और आंतरिक शांति प्राप्त होती है।

मूलाधार चक्र क्या है?

मूल चक्र का संस्कृत नाम मूलाधार है, जो मूल और आधार से मिलकर बना है यानि मूल मतलब जड़ और आधार मतलब नींव। जैसा कि नाम से पता चलता है कि मूलाधार संपूर्ण चक्र प्रणाली का आधार है। इस नींव पर ही सभी चक्र स्थित हैं। इसलिए अपनी पूरी क्षमता को विकसित करने के लिए इस चक्र को सबसे पहले जागृत करने की आवश्यकता है। मूलाधार भोजन, नींद, सेक्स और आत्म-संरक्षण सहित चार मौलिक आग्रह करता है। साथ ही यह हमारी भावनात्मक जरूरतों और कार्यों को नियंत्रित करता है।

जब मूल चक्र स्वस्थ और अच्छी तरह से संतुलित होता है, तो आप वास्तव में स्वयं को शांत, सुरक्षित और शक्तिशाली महसूस करते हैं। आप नई चुनौतियों का साहसपूर्वक और आत्मविश्वास से सामना करने में सक्षम होते हैं। जब भी आप कुछ नया करने या एक महत्वपूर्ण जीवन लक्ष्य का पीछा करने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह चक्र काफी महत्वपूर्ण है।

मूलाधार चक्र हमारे शरीर में कहां स्थित है?

मूलाधार चक्र ज्ञानेन्द्रियों और गुदा के मध्य स्थित होता है।

मूलाधार चक्र नियंत्रण क्या है?

आत्मविश्वास, शक्ति और पाचन स्वास्थ्य

मूलाधार का तत्व - पृथ्वी

मूलाधार का रंग - लाल

मूलाधार को जागृत करने में अवरोध

  • भावनात्मक लक्षण

  • चिंता के स्तर में वृद्धि

  • असुरक्षित या खतरा महसूस करना

  • अस्थिरता

  • अपने और दूसरों के प्रति नकारात्मकता

  • एकाग्रता में कठिनाई

  • अस्वास्थ्यकर भोजन

  • आत्मविश्वास में कमी

  • निर्णय लेने में परेशानी

  • हाइपोकॉन्ड्रिया

 शारीरिक लक्ष्ण

  • पाचन विकार

  • सुस्ती

  • पैर दर्द

  • ठंडे हाथ और पैर

इसके अलावा, कुछ भी जो आपकी सुरक्षा की भावना को अस्थिर कर देता है, मूल चक्र को अवरुद्ध कर सकता है। उदाहरण के लिए जब आप नौकरी खो देते हैं, तो आपका रिश्ता भी खत्म हो सकता है। वित्तीय कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, परिवार के सदस्यों के साथ संघर्ष, सेहत का खराब होना, कुछ भयावह देखना।

अपने मूल चक्र को कैस खोलें और संतुलित करें?

मूल चक्र को खोलना काफी सरल और सीधा है, लेकिन इसका प्रभाव आप पर गहरा हो सकता है। संतुलित मूल चक्र के साथ, आप अपने आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं। परेशानियों का सामना करने के लिए खुद को तैयार कर सकते हैं। विश्राम की गहरी भावना का अनुभव कर सकते हैं और बातचीत में स्वयं को सहज महसूस कर सकते हैं। आपका मन स्थिर रहेगा और मन में सकारात्मक भावनाएं जागृत होंगी, जिससे जीवन के सभी पहलुओं में आपको सकारात्मकता ही दिखाई देगी।

मूलाधार च्रक ध्यान का अभ्यास

समग्र उपचार के लिए, मूल चक्र ध्यान आपकी मदद कर सकता है। चक्र ध्यान तकनीक नियमित ध्यान तकनीकों के समान है, लेकिन यह शरीर के एक विशिष्ट क्षेत्र पर केंद्रित है। आप नीचे दिए गए सरल लेकिन प्रभावी मूल चक्र ध्यान विधि को आजमा सकते हैं:

सबसे पहले अपने कंधों के साथ एक सीध में बैठें और अपनी पीठ को सीधा रखें। अपनी सभी मांसपेशियों को आराम दें। अपनी आँखें बंद करें और गहरी सांस लें।

इसके बाद नासिका से श्वास लें और जितना हो सके पेट से सांस खींचें और मुंह से सांस छोड़ें। फिर अपना ध्यान उस स्थान पर लें जाए जहां मूल चक्र है यानि कि टेलबोन के ठीक नीचे। जैसा कि मूल चक्र का रंग तत्व लाल है, अपनी रीढ़ के आधार पर लाल प्रकाश के चमक की कल्पना करने का प्रयास करें। इस चमक को धीरे-धीरे बढ़ते हुए महसूस करें, जिससे पूरे शरीर में स्फूर्ति, ऊर्जा का संचार हो और मानसिक तनाव दूर हो जाए। तत्पश्चात 3-5 मिनट के लिए इस उत्तेजना में ध्यान केंद्रित करें और फिर आराम करें।

योग तकनीक का पालन करें

अपने मूलाधार चक्र (Muladhara Chakra) को जागृत करने और संतुलित करने के लिए आप कुछ विशेष योगासनों का अभ्यास कर सकते हैं। कुछ अच्छे उदाहरण हैं जैसे स्वाष्तिकासन, पश्चिमोत्तानासन, कपालभाति, उत्तानासन, मलासन योग, सुखासन, जानू सिरसाना और बलासन।

मूल चक्र वाक्यांश का उपयोग करें

अंत में मूलाधार चक्र चिकित्सा के लिए आप दिन में कई बार मूल चक्र के दृढ़वचन को सकारात्मक ऊर्जा के लिए दोहरा सकते हैं या किसी भी समय आपको लगता है कि आपका चक्र अवरुद्ध हो सकता है। आप दिन के शुरू होने से पहले या ध्यान करने के पहले या बाद में इनमें से एक या एक से अधिक को दोहरा सकते हैं।

  • "मैं सुरक्षित और सुदृढ़ हूँ।"

  • "मुझे खुद पर भरोसा है।"

  • "मैं इस समय स्थिर और तनावमुक्त हूं।"

  • "मैं खुद का पालन-पोषण और देखभाल करती हूं।"

  • "मैं धरती माता द्वारा पोषित और समर्थित हूं।"

  • "मैं किसी भी संदेह और भय को दूर करता हूं।"

  • "मैं प्रचुरता में डूबा हुआ हूं।"

लाभाकारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

मूल चक्र से जुड़े विशिष्ट खाद्य पदार्थ कुछ भी जैविक हो सकते हैं। मूल चक्र को जड़ों से जुड़ी किसी भी चीज द्वारा खोला जाता है। इसके अलावा, प्रोटीन युक्त भोजन आपको शारीरिक शक्ति देने में मदद करता है। बीन्स, पालक, टोफू, हरी मटर, बादाम आदि जैसे खाद्य पदार्थ प्रोटीन का अच्छा स्रोत हैं।

लाल रंग के खाद्य पदार्थ भी रंग लाल होने के कारण आपके मूल चक्र को स्वचालित रूप से प्रभावित करते हैं। सेब, चेरी, स्ट्रॉबेरी, चुकंदर, लाल मिर्च और टमाटर इत्यादि। 

मूल चक्र को संतुलित करने के लिए एक अन्य खाद्य पदार्थ में लहसुन, आलू जैसी जड़ वाली सब्जियां शामिल हैं, ये मिट्टी में बढ़ते हैं। कुल मिलाकर ये खाद्य पदार्थ असंतुलित मूलाधार चक्र (Muladhara Chakra) को पुन: संतुलित करने में भी मदद कर सकते हैं।



एस्ट्रो लेख

Number 13 क्यों माना जाता है शुभ - अशुभ? जानें ज्योतिषीय महत्व

मूलांक से जाने कौन है आपके लिए बेहतर साथी

अंक ज्योतिष से जानें गाड़ी का कौनसा रंग रहेगा शुभ

मूलांक से जानें कौनसा ग्रह और कौनसा वार आपके लिये है शुभ

Chat now for Support
Support