अनाहत चक्र

यदि आप विशेष रूप से अपने भावनात्मक जीवन को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो अपनी भावनाओं को बेहतर ढंग से समझें, और खुश रहें और फिर अपने हृदय चक्र (अनाहत) पर ध्यान केंद्रित करें। अनाहत चक्र (Anahata Chakra) प्रेम, सौहार्द, करुणा और आनंद का प्रतीक है। लेकिन क्या होगा अगर आपके अनाहत चक्र की ऊर्जा जागृत ना हो और संतुलित ना हो? तो आपके अंदर क्रोध, दुख, घृणा, अलगाव और ईर्ष्या की नकारात्मक भावना पैदा हो सकती है। इस मामले में, आपको अपने हृदय चक्र यानि अनाहत चक्र को ठीक करने और संरेखित करने की आवश्यकता है।

इस चक्र के भीतर की गुप्त शक्तियों को खोजने के लिए आइए हम हृदय चक्र या अनाहत चक्र के बारे में विस्तार से जानते हैं:

हृदय चक्र क्या है?

हृदय चक्र को संस्कृत में अनाहत चक्र (Anahata Chakra) कहा जाता है। अनाहत का मतलब है कि शाश्वत ध्वनि ऊँ ध्वनि। हमारे शरीर के प्रमुख ऊर्जा केंद्रों में से एक है। यह कुल सात चक्रों में से चौथा है। हृदय चक्र सीधे हृदय के ऊपर स्थित होता है, छाती के केंद्र में थोड़ा बाईं ओर। यह सभी चक्रों में से एक है और यह उच्च चक्रों (स्वर्ग) को निम्न चक्रों (शारीरिक अवस्था) से जोड़ता है।

अनाहत अन्य प्राणियों के साथ आपकी दूसरों के प्रति देखभाल, दयालुता, आत्मप्रेम, उदारता, दया और सम्मान की भावनाओं के साथ गहरे संबंधों का केंद्र है। साथ ही यह चक्र प्यार, स्नेह और करुणा के लिए अपनी क्षमता को आकार देने में मदद करता है। इसके अलावा, यह दिल, फेफड़े, थाइमस ग्रंथियों और कार्डियक प्लेक्सस से मेल खाती है।

हृदय चक्र या अनाहत चक्र का प्राकृतिक तत्व हवा है और हवा चारों तरफ फैल सकती है। यह चक्र प्रेम, करूणा, दया और आध्यात्मिक समझ को एकीकृत करता है और हवा की तरह चारों तरफ इसे फैलाता है। एक अनब्लॉक और संतुलित अनाहत चक्र वाले व्यक्ति गहरे प्रेम, सहानुभूति और क्षमाशीलता को प्राप्त करते हैं। दूसरी ओर जब चक्र अवरुद्ध होता है, तो व्यक्ति दु: ख, क्रोध, घृणा और ईर्ष्या को प्रकट करेगा। 

आइए हृदय चक्र की मूल बातों पर एक नज़र डालें:

  • स्थान: छाती के बीच में, हृदय के ठीक ऊपर

  • तत्व: वायु

  • रंग: हरा

  • बीज मंत्र: यं

  • हृदय चक्र क्या नियंत्रित करता है?: प्यार, खुशी और आत्मिक शांति

गलत / अवरुद्ध हृदय चक्र के संकेत:

एक अवरुद्ध हृदय चक्र में निम्नलिखित लक्षण शामिल हैं:

  • बेचैनी

  • दूसरों पर भरोसा करने में कठिनाई

  • अधीरता और चिड़चिड़ापन

  • सहानुभूति की कमी

  • माफ ना करने की आदत

  • स्वयं और दूसरों की अत्यधिक आलोचना

एक गलत हृदय चक्र के शारीरिक लक्षण अनिद्रा, रक्तचाप में वृद्धि और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली हो सकते हैं। यदि आपको किसी प्रकार की दुख और तकलीफ है तो आप को अनाहत चक्र को जागृत करने की आवश्यकता है। इसके अलावा यदि आप अपने बारे में किसी सच्चाई को स्वीकार करने में संघर्ष कर रहे हैं तो यह आपके हृदय चक्र के संतुलन को खराब कर देता है। 

अपने हृदय चक्र को कैसे खोलें और संतुलित करें?

एक जागृत हृदय चक्र का अतिरिक्त लाभ यह है कि यह सभी प्रकार के चक्र चिकित्सा में सहायता करता है। आपके दिल के खुलने से अनंत संभावनाओं के द्वार खुलेंगे। तो अपने अनाहत चक्र को अनब्लॉक और संतुलित करने के लिए आप निम्नलिखित तरीकों को आजमा सकते हैं।

ध्यान करें

अपने अनाहत चक्र (Anahata Chakra) को संतुलित करने के लिए आप एक ध्यान तकनीक का अभ्यास कर सकते हैं। एक विशिष्ट ध्यान तकनीक का पालन तब करें जब आपको एहसास हो कि आपके हृदय चक्र की ऊर्जा में अवरुद्ध पैदा हो रहा है। निम्नलिखित दिशा-निर्देशों का पालन करें। 

सबसे पहले एक साफ-सुथरा और शांत वातावरण चुनें। फिर दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में रखें और आँखें बंद करें और रीढ़ को सीधा करके बैठें। इसके बाद धीमी, गहरी और लंबी सांस लेते और छोड़ते रहें। फिर अपने शरीर को पूरी तरह से आराम दें इसके बाद अनाहत चक्र के स्थान पर ध्यान केंद्रित करते हुए हरे रंग के प्रकाश की कल्पना करें। साथ ही श्वास के आवागमन के साथ इस हरे रंग के प्रकाश को लगातार बढ़ते हुए महसूस करें। ऐसा करने से आपके अंदर परमानंद, शांति, सुव्यवस्था, प्रेम, संज्ञान, स्पष्टता, शुद्धता, एकता, अनुकंपा, दयालुता, क्षमा की भावना जागृत होने लगेगी। तत्पश्चात 3-5 मिनट के लिए इस उत्तेजना में ध्यान केंद्रित करें और फिर आराम करें।

योगाभ्यास करें

सप्तचक्र के चौथे ऊर्जा चक्र यानि अनाहत चक्र को जागृत करने और संतुलित करने में योगासनों का काफी महत्व है। कई ऐसे विशिष्ट योग हैं जो हृदय चक्र को लक्षित करते हैं। जैसे- भुजंगासन, उष्ट्रासन, सुप्त बद्ध कोणासन और मत्स्यासन आदि। इन योगों का अभ्यास करने से हृदय खुलेगा और हृदय के चक्र को सक्रिया और संतुलित करने में मदद मिलेगी। 

अनाहत चक्र दृढ़वचन

जब अनाहत चक्र अति सक्रिय होता है तो व्यक्ति अपनी भावनाओं के बेकाबू होने का एहसास करता है, तो वह कई बार इस चक्र के दृढ़वचन को दोहरा सकते हैं या किसी भी समय आपको लगता है कि आपका चक्र अवरुद्ध हो सकता है। आप दिन के शुरू होने से पहले या ध्यान करने के पहले या बाद में इनमें से एक या एक से अधिक को दोहरा सकते हैं।

  • मैं खुले दिल से रहता हूं।

  • मैं प्यार, खुशी और करुणा का चुनाव करता हूं।

  • मैं अन्य सभी प्राणियों के साथ सामंजस्य बिठाता हूं।

  • मैं व्यक्त करता हूं और सभी की नाराजगी दूर करता हूं।

  • मैं खुद को बिना शर्त प्यार करता हूं, और दूसरों को भी यही प्यार देता हूं।

लाभाकारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

अनाहत चक्र (Anahata Chakra) को खोलने के लिए हरे रंग के फल, सब्जियों का सेवन करें। आप अपने आहार में पालक, ब्रोकोली, गोभी, मटर, तोरी और हरी मिर्च जैसी हरी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं और हरे फलों में हरा सेब, कीवी, अमरूद, हरा नींबू, और एवोकैडो भी आपकी मदद करेगा। इसके अलावा आप हृदय चक्र को संतुलित करने के लिए ग्रीन टी या गर्म सूप पी सकते हैं। वैकल्पिक तौर पर आप तुलसी, अजवायन, मेंहदी, सेज और अजवायन के फूल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

यदि आप डाइटिंग पर हैं तो आप ताजा ग्रीन जूस पी सकते हैं और हरा सलाद खा सकते हैं। अपने दिन की शुरुआत स्वस्थ हरी स्मूदी से कर सकते हैं। 



एस्ट्रो लेख

जानें श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत की कथा व पूजा विधि

मेष राशि में बुध ! शुभ या अशुभ? जानिए

गणगौर पूजा - गणगौर व्रत कथा व पूजा विधि

मेष संक्रांति - मेष राशि में सूर्य का गोचर जानें अपना राशिफल

Chat now for Support
Support