स्वाधिष्ठान चक्र

जब हम इस स्वप्न की दुनिया में खुद को फंसा हुआ महसूस करते हैं तो हम इस दुनिया से अलग होने की कोशिश करने लगते हैं और इस कोशिश में हम खुदको दुनिया से अलग और स्वयं को अकेला कर लेते हैं। त्रिक चक्र यानि स्वाधिष्ठान चक्र (Svadhishthana Chakra) हमें दूसरों के साथ जुड़ने और हमारे जीवन में आनंद का अनुभव करने की हमारी आवश्यकता के बारे में सिखाता है। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

 

स्वाधिष्ठान चक्र

सप्तचक्र में यह दूसरा चक्र है, जो भावनात्मक शरीर, कामुकता और रचनात्मकता से जुड़ा हुआ है। इसे त्रिक चक्र भी कहा जाता है, यह वह स्थान है जहां हमारे कर्मों का भंडराग्रह है और इस चक्र में सुस्ती, भावहीनता और खतरा छिपा होता है। इसलिए जब इस चक्र को जागृत करते हैं तो हम अधिक सर्तक हो जाते हैं और थकान की आशंका भी कम होती है। 

यह आपकी रचनात्मक जीवन शक्ति है जो आपको अपने श्रम के फल का आनंद लेने के लिए प्रेरित करती है, जिसमें सेक्स और अंतरंगता जैसी आनंददायक गतिविधियों का आनंद लेना शामिल है। त्रिक चक्र पर काम करके आप अपनी रचनात्मकता में बढ़ोत्तरी करते हैं। 

एक मजबूत स्वाधिष्ठान यानि त्रिक चक्र वाला व्यक्ति आर्थिक और शारीरिक रूप से अपने दम पर और दूसरों के साथ एक सामंजस्यपूर्ण संबंध बना सकता है। एक संतुलित त्रिक चक्र में जोखिम लेने की क्षमता होती है और चीजों के गलत होने पर उससे उबरने के लिए लचीलापन होता है। 

त्रिक चक्र आपकी नाभि से कुछ इंच की दूरी पर स्थित है। यह आपके बारे में सब कुछ से संबंधित है जो निर्माण से बंधा हुआ है। इसका मतलब है कि आपके कलात्मक उत्पादन से लेकर सेक्स ड्राइव, कल्पना और व्यक्तिगत विकास की क्षमता तक के मुद्दों से जुड़ा हुआ है।

चक्रमूलाधार चक्र➔  मणिपुर चक्र➔  अनाहत चक्र➔  विशुद्धि चक्र➔  अजना चक्र सहस्र चक्र

 

आइए एक नजर डालते हैं त्रिक चक्र की मूल बातों पर:

  • स्थान - शरीर के निचले हिस्से में, नाभि के नीचे रहता है।
  • नियंत्रण - रचनात्मकता, आनंद, प्रचुरता और यौन ड्राइव की भावना
  • रंग - नारंगी
  • तत्व - पानी
  • बीज मंत्र - वं

 

संकेत असंतुलन / अवरुद्ध, अति सक्रिय, सक्रिय त्रिक चक्र:

त्रिक चक्र जब असंतुलित या ठीक से संरेखित नहीं होता है, तो आप भावनात्मक और शारीरिक रूप से अस्थिर महसूस करते हैं। सबसे सामान्य त्रिक चक्र समस्याओं और लक्षणों में से कुछ नीचे दिए गए हैं:

  • उदासी

  • आसानी से आहत होना

  • रचनात्मक प्रेरणा का अभाव

  • ईर्ष्या द्वेष

  • बदलाव का डर

  • अतीत के बारे में अपराध बोध

  • आत्म सम्मान में कमी

व्यसनी व्यवहार (जैसे ड्रग्स या अल्कोहल का उपयोग, अत्यधिक खर्च, अधिक भोजन, जुआ और विवादित यौन इच्छाओं / यौन शोषण)

एक असंतुलित त्रिक चक्र नीचे दी गई सूची के शारीरिक लक्षणों का भी संकेत दे सकता है:

  1. कम ऊर्जा

  2. मूत्राशय की तकलीफ

  3. कामेच्छा में कमी

  4. एलर्जी के लक्षणों में वृद्धि

यह पता लगाने के लिए कि आपका त्रिक चक्र किस कारण से अवरुद्ध किया गया है इस बात का पता लगाना काफी मुश्किल होता है। हालांकि आप अपनी रचनात्मक और कामुकता क्षमता में आए परिवर्तन को देखकर पता लगा सकते हैं। जब एक बार आप स्वाधिष्ठान चक्र (Svadhishthana Chakra) को जागृत करने की कला सीख जाते हैं तो आप इस चक्र में आने वाले अवरुद्ध के बारे में भी नोटिस करना शुरू कर देते हैं। हालांकि नीचे बताई गई तकनीकों के माध्यम से आप त्रिक चक्र को जागृत कर सकते हैं। 

 

त्रिक चक्र को जागृत करना

यदि आप त्रिक चक्र को खोलने और सक्रिय बनाने की तकनीक सीख लेते हैं तो आप अपनी रचनात्मकता और जीवटता पर ध्यान देने लगेंगे और उसे बेहतर बना पाएंगे। आप अपने आत्मसम्मान को बढ़ा सकते हैं, परिवर्तन को गले लगा सकते हैं, अतीत से दोषों को त्याग सकते हैं, दूसरों के साथ जुड़ने में अधिक सक्षम महसूस कर सकते हैं और अपनी भावनाओं को विनियमित करने के स्वस्थ तरीके विकसित कर सकते हैं। यह संभव है कि आप अपनी समस्या-सुलझाने के कौशल में और अधिक सुधार महसूस करें।

 

ध्यान करें

किसी भी शांत और शुद्ध वातावरण में बैठें। फिर दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में रखें और आँखें बंद करें और रीढ़ को सीधा करके बैठें। इसके बाद अपनी धीमी, गहरी और लंबी सांस लेते और छोड़ते रहें। फिर अपने शरीर को पूरी तरह से आराम दें इसके बाद त्रिक चक्र के स्थान पर ध्यान  केंद्रित करते हुए नारंगी रंग के प्रकाश की कल्पना करें। 

जैसा कि आप जानते हैं कि पानी त्रिक चक्र का तत्व है। अब नारंगी रंग की रोशनी को तरंगित तरंगों में फैलते हुए देखें और महसूस करें कि इसने आपके शरीर को ढक लिया है। 

इस प्रक्रिया के दौरान आपको प्रसन्नता, निष्ठा, आत्मविश्वास और ऊर्जा महसूस होने लगेगी। तत्पश्चात 3-5 मिनट के लिए इस उत्तेजना में ध्यान केंद्रित करें और फिर आराम करें।

योगध्यान ➔

 

योगाभ्यास करें

योग का अभ्यास आपके चक्रा हीलिंग को बहुत अच्छी तरह से परिपूर्ण कर सकता है। कई ऐसे योग  हैं जो त्रिक चक्र को लक्षित करते हैं। जैसे- द्विपदा पिथम, मलमलासन योग, धनुरासन, बद्ध कोणासन आदि। ये योगासन स्वाधिष्ठान चक्र (Svadhishthana Chakra) के लिए ऊर्जा के एक संतुलित प्रवाह को बनाने में मदद करने के लिए और त्रिक चक्र चिकित्सा को सक्रिय करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

 

त्रिक चक्र दृढ़वचन

अंत में त्रिक चक्र चिकित्सा के लिए आप दिन में कई बार स्वाधिष्ठान चक्र के दृढ़वचन को सकारात्मक ऊर्जा के लिए दोहरा सकते हैं या किसी भी समय आपको लगता है कि आपका चक्र अवरुद्ध हो सकता है। आप दिन के शुरू होने से पहले या ध्यान करने के पहले या बाद में इनमें से एक या एक से अधिक को दोहरा सकते हैं।

  • मैं असीमित क्षमता वाला एक रचनात्मक व्यक्ति हूं।

  • मैं उस पवित्र शरीर का सम्मान करता हूं जिसमें मेरी आत्मा निवास करती है।

  • मैं प्रेरणा और सृजन की क्षमता से परिपूर्ण हूं।

  • मैं एक मजबूत रचनात्मक व्यक्ति हूं और मुझे वही पसंद है जो मैं बनाता हूं।

  • मैं सकारात्मक बदलाव और गहरी व्यक्तिगत विकास के लिए तैयार हूं।

  • मुझे पता है कि मैं बदलाव को अपना सकता हूं और अपने भविष्य का सर्वश्रेष्ठ बना सकता हूं।

 

लाभाकारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

आप जो भी खाते हैं उसका सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव चक्र पर पड़ता है। इसलिए पारंपरिक तौर पर त्रिक चक्र को अनब्लॉकर करने के लिए इस चक्र से जुड़े खाद्य पदार्थों का सेवन करें। अपने आहार में संतरे, आम, पपीता और आड़ू जैसे फलों को शामिल करें। आप कद्दू, सूरजमुखी, खसखस, और भांग के बीज को भी खा सकते हैं। यदि कोई व्यक्ति त्रिक चक्र को जागृत करने में परेशानी महसूस कर रहा है तो उसे अपने आहार में नारियल शामिल करना चाहिए। यह हृदय के लिए अच्छा है और ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देता है और आपके अंदर रचनात्मक क्षमता को जागृत करता है। 

इसके अलावा आप त्रिक चक्र को जागृत करने के लिए तरल पदार्थों का भी सेवन कर सकते हैं। जैसे स्वादिष्ट सब्जी शोरबा, सूप या फलों की चाय आदि। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!



एस्ट्रो लेख

कब से शुरू 2021 में श्राद्ध? जानिए किस तिथि में कौन सा श्राद्ध

गणेश रूद्राक्ष से मिलती है सदबुद्धि

भाद्रपद अमावस्या 2021 – जानें भाद्रपद अमावस्या का महत्व

तुला राशि में शुक्र का परिवर्तन - जानें अपना राशिफल

Chat now for Support
Support