मणिपुर चक्र

क्या आप जानते हैं कि आपका तीसरा ऊर्जा चक्र या सौर जाल चक्र (मणिपुर) कहाँ स्थित है?

लेकिन उससे पहले एक प्रश्न पूछें। क्या आप कभी ऐसी स्थिति में रहे हैं जहां आपको महसूस हुआ हो कि यह आपके लिए सही नहीं है? आमतौर पर हम इस तरह के संकेतों के गट फीलिंग या आंतरिक भावना कहते हैं। आप शारीरिक रूप से उस क्षेत्र में आत्मविश्वास और ज्ञान महसूस कर सकते हैं, जहां सौर जाल चक्र यानि मणिपुर चक्र (Manipura Chakra) स्थित है। यह चक्र आपके आत्मविश्वास से संबंधित है। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

 

मणिपुर चक्र क्या है?

सौर जाल चक्र को संस्कृत में मणिपुर कहा जाता है, जिसका अर्थ है चमकदार और उज्जवल रत्न। कभी-कभी नाभि चक्र के रूप में भी जाना जाता है। यह वह जगह है जहां आपक आत्मविश्वास, पहचान, जुनून और व्यक्तिगत शक्ति पैदा होती है। इस चक्र की ऊर्जा से हमारे अंदर आत्मविश्वास, एक शक्तिपुंज और स्फूर्ति पैदा करती है। 

जब आपका मणिपुर चक्र (Manipura Chakra) संतुलित होता है, तो आपके अंदर बुद्धिमता, निर्णायक क्षमता और व्यक्तिगत शक्ति का संचार होता है। अक्सर इसे व्यक्तिगत शक्ति चक्र या योद्धा चक्र भी कहा जाता है, क्योंकि जो भावना उत्पन्न होती है वह युद्ध में जाने वाले एक बुद्धिमान योद्धा के समान है। इसके विपरीत जब सौर जाल चक्र असंतुलित होता है तो हम आत्मविश्वास में कमी महसूस कर सकते हैं, भ्रमित हो सकते हैं और इस बारे में सोचकर चिंतित होते हैं कि दूसरे हमारे बारे में क्या सोचते हैं। इसके अलावा इस चक्र का संतुलन बिगड़ने पर यह पाचन में खराबियां, परिसंचारी रोग, मधुमेह और रक्तचाप में उतार-चढ़ाव से संबंधित शारीरिक समस्याओं को भी जन्म दे सकता है।

 

आइए जानें सौर जाल चक्र की मूल बातें

मणिपुर चक्र क्या नियंत्रित करता है - आत्म-मूल्य, आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान को नियंत्रित करता है।

स्थान - नाभि क्षेत्र के ठीक ऊपर आपके पेट पर स्थित है।

तत्व: अग्नि

रंग: पीला

बीज मंत्र: रं

संकेत असंतुलन / अवरुद्ध, सौर जाल चक्र:

एक अति सक्रिय सौर जाल चक्र के परिणाम यह हो सकते हैं।

  • तुनुकमिज़ाज

  • शासन करना 

  • छोटी छोटी चीजों का प्रबंधन

  • लालच

  • करुणा या सहानुभूति का अभाव

एक निष्क्रिय मणिपुर चक्र (Manipura Chakra) के परिणाम अनिश्चितता, असुरक्षा, आत्मविश्वास में कमी और खुद को जरूरतमंद समझना हो सकता है। एक गलत सौर जाल चक्र के शारीरिक लक्षण थकान, तंत्रिका तंत्र में समस्याएं, पाचन तंत्र में विकार और पेट में दर्द हो सकता है। 

चक्रमूलाधार चक्र स्वाधिष्ठान चक्र➔  अनाहत चक्र➔  विशुद्धि चक्र➔  अजना चक्र सहस्र चक्र

 

सौर जाल चक्र यानि मणिपुर चक्र को कैसे करें जागृत

सौर जाल चक्र को एक चमकीले सुनहरे पीले रंग द्वारा दर्शाया गया है। इसलिए आप अपने आहार में पीले फल या सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। इस चक्र को जागृत करने के लिए आप योग और ध्यान की मदद भी ले सकते हैं। नीचे कुछ तरीके दिए गए हैं जिन्हें आप अपने जीवन में सौर जाल चक्र को संतुलित करने के लिए शामिल कर सकते हैं। 

 

ध्यान करें

अपने सौर जाल के चक्र (मणिपुर चक्र) को संतुलित करने के लिए, ध्यान का अभ्यास करें। शुरू करने के लिए आप इन सरल चरणों का पालन कर सकते हैं। 

किसी भी शांत और शुद्ध वातावरण में बैठें। फिर दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में रखें और आँखें बंद करें और रीढ़ को सीधा करके बैठें। इसके बाद अपनी धीमी, गहरी और लंबी सांस लेते और छोड़ते रहें। फिर अपने शरीर को पूरी तरह से आराम दें इसके बाद मणिपुर चक्र के स्थान पर ध्यान केंद्रित करते हुए पीले रंग के प्रकाश की कल्पना करें। इस पीले रंग की चमक को धीरे-धीरे महसूस करें, जिससे आपको स्पष्टता, आत्मविश्वास, आनन्द, आत्म भरोसा, ज्ञान, बुद्धि और सही निर्णय लेने की क्षमता का एहसास होगा। तत्पश्चात 3-5 मिनट के लिए इस उत्तेजना में ध्यान केंद्रित करें और फिर आराम करें।

योगध्यान ➔

 

योग का अभ्यास करें

सप्तचक्र के तीसरे ऊर्जा चक्र सौर जाल चक्र को जागृत करने और संतुलित करने में योगासनों का काफी महत्व है। कई ऐसे विशिष्ट योग हैं जो मणिपुर चक्र (Manipura Chakra) को लक्षित करते हैं। जैसे - वीरभद्रासन का अभ्यास करने से आत्मविश्वास का निर्माण होता है और सौर जाल चक्र संरेखित हो सकता है।इस चक्र के लिए सूर्य नमस्कार फायदेमंद है। यह  शरीर को फुर्तीला और ऊर्जा से भरपूर बना देता है। पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने, पाचन को संतुलित करने और व्यक्तिगत सशक्तिकरण की भावना लाने के लिए नाव मुद्रा या नवासना एक और शानदार आसन है, जो तीसरे चक्र से संबंधित हैं। 

मणिपुर चक्र दृढ़वचन

अंत में सौर जाल चक्र की ऊर्जा को संरेखित करने के लिए कई बार इस चक्र के दृढ़वचन को सकारात्मक ऊर्जा के लिए दोहरा सकते हैं या किसी भी समय आपको लगता है कि आपका चक्र अवरुद्ध हो सकता है। आप दिन के शुरू होने से पहले या ध्यान करने के पहले या बाद में इनमें से एक या एक से अधिक को दोहरा सकते हैं।

  • मैं मजबूत और साहसी हूं

  • मेरी शक्ति भीतर से आती है

  • मैं कुछ भी कर सकता हूँ

  • मैं महत्वाकांक्षी और सक्षम हूं

  • मैं अपने उद्देश्य का पीछा करने के लिए प्रेरित महसूस करता हूं

  • मैं सशक्त हूं और मैं दूसरों को सशक्त बनाता हूं

  • मैं अपने लिए खड़ा हूं

  • मुझे अपनी उपलब्धियों पर गर्व है

  • केवल एक चीज जिसे मुझे नियंत्रित करने की आवश्यकता है वह यह है कि मैं किसी स्थिति पर कैसे प्रतिक्रिया देता हूं।

 

लाभाकारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

एक संतुलित सौर जाल चक्र हमारे अंदर आंतरिक शांति, आत्मविश्वास और आत्मनियंत्रण की भावना पैदा करता है। इसलिए तीसरे चक्र को जागृत करने के लिए हमें पीले रंग के खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। जैसे- अनानास, पीले मिर्च, केला, मक्का, नींबू, और पीली करी आदि। इसके अलावा आप भोजन में ब्राउन राइस, जई, राई, अंकुरित अनाज, बीन्स, सब्जियां, कार्बोहाइड्रेट से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!



एस्ट्रो लेख

गीता जयंती तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व एवं पूजा विधि, जानें

क्या है दिसंबर 2021 के व्रत,पर्व व त्यौहार? जानें मासिक शुभ मुहूर्त

वृश्चिक में मंगल और केतु की युति का, इन राशियों पर होगा शुभ प्रभाव

मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर कैसे करें भगवान विष्णु का पूजन? जानें तिथि, महत्व व मुहूर्त

Chat now for Support
Support