ध्यान - Meditation

ध्यान (Meditation) न केवल आध्यात्मिक महत्व बल्कि इसका चिकित्सीय व धार्मिक महत्व भी है। ध्यान का हमारे शरीर व व्यक्तित्व पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इस भाग में हम ध्यान के कई रहस्यों को जानेंगे। इस लेख में हम विशेषकर ध्यान क्या है?, इसकी परिभाषा क्या है?, ध्यान का इतिहास क्या है?, इसका पौराणिक महत्व क्या है?, ध्यान व शोध तथा ध्यान के क्या लाभ (meditation benefits) हैं? तो आइये जानते हैं ध्यान के बारे में-

ध्यान क्या है?

ध्यान (मैडिटेशन) एक ऐसा प्रक्रिया जिसमें अभ्यासकर्ता अपने ध्यान, श्वास व चिक को साधने का प्रयास करता है। यह ध्यान का सबसे सरल परिभाषा है। ध्यान का अभ्यास करते समय जातक केवल अपने श्वास पर ध्यान नहीं लगाता है बल्कि शरीर के प्रत्येक अंग व चक्र पर को भी साधने की दिशा में आगे बढ़ता है। मानव शरीर में सात चक्रों का उल्लेख है परंतु इसके अलावा भी कई चक्र होते हैं। जिनका जागृत होना हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। इन सबको जगाने के लिए ध्यान सबसे प्रभावी मार्ग है।

ध्यान की परिभाषा

मूल लैटिन अर्थ सोचना है केवल एक चीज़ पर ध्यान देना, या तो एक धार्मिक गतिविधि के रूप में या शांत और तनाव मुक्त होने के तरीके के रूप में, और" मानसिक व्यायाम में संलग्न होने के लिए आध्यात्मिक जागरूकता का एक ऊंचा स्तर पर पहुँचना।

योग का इतिहास

इस क्रिया का अभ्यास कई वर्षों से भारत में किया जा रहा है। केवल हिंदू ही नहीं अपितु कई धार्मिक परंपराओं में यह प्राचीन काल से प्रचलित है। आदिकाल से ध्यान का अभ्यास हमारे ऋषि मुनि करते आ रहे हैं, मान्याताओं की माने तो ध्यान ज्ञान और आत्म प्राप्ति का मार्ग है। इस पर मनुष्य चलकर अपने आप को पाता है। ध्यान (Meditation) के शुरुआती वर्णन, वेदांतवाद की हिंदू परंपराओं में मिलते हैं। जो कि दस हजार साल पहते लिखे गए थे। 19 वीं शताब्दी के बाद से, एशियाई ध्यान प्रक्रिया व तकनीक अन्य संस्कृतियों में फैल गई है, जहां उन्हें गैर-आध्यात्मिक संदर्भों जैसे व्यवसाय और स्वास्थ्य में जगह मिला है।

गायत्री मंत्र का अर्थ निकाला जाए तो इससे काफी कुछ साफ हो जाता है। हम दिव्य सावित्रि के उस प्रकाश पर ध्यान साधने की कोशिश करते हैं, जो हमारे संस्कारों व व्यक्तित्व को प्रभावित करता है। यह अनुवाद बेहद सामान्य है। साक्ष्य के मुताबिक 5 वीं से 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास, चीन में कन्फ्यूशीवाद और ताओवाद के साथ-साथ हिंदू धर्म, जैन धर्म और प्रारंभिक बौद्ध धर्म के माध्यम से ध्यान के अन्य रूपों का विकास हुआ ऐसे तथ्य मिलते हैं।

ध्यान का पौराणिक महत्व

हिंदू धर्म के भीतर मेडिटेशन की कई शैलियाँ हैं। पूर्व-आधुनिक और पारंपरिक हिंदू धर्म में, योग और ध्यान एक व्यक्ति के स्वयं या आत्मा, एक व्यक्ति के मिलन का एहसास करने के लिए किया जाता है। अद्वैत वेदांत में यह सर्वव्यापी और गैर-दोहरे ब्राह्मण के साथ समानता है। द्वैतवादी योग विद्यालय में, आत्म को पुरुष से, शुद्ध चेतना को पदार्थ से अलग कहा जाता है। परंपरा के आधार पर, मुक्ति घटना को मोक्ष, विमुक्ति या कैवल्य नाम दिया गया है।

हिंदू साहित्य में ध्यान (Meditation) का सबसे पहला स्पष्ट उल्लेख मध्य उपनिषदों और महाभारत (भगवद गीता सहित) में है। गैविन फ्लड के अनुसार, पूर्ववर्ती बृहदारण्यक उपनिषद में ध्यान का वर्णन है जो यह बताता है कि "शांत और एकाग्र होने से व्यक्ति स्वयं के भीतर आत्म (आत्मान) को मानता है।

ध्यान व शोध

ध्यान की प्रक्रियाओं और प्रभावों पर शोध, न्यूरोलॉजिकल शोध का एक उपक्षेत्र है। आधुनिक वैज्ञानिक तकनीकों, जैसे कि एफएमआरआई और ईईजी, का उपयोग ध्यान के दौरान न्यूरोलॉजिकल प्रतिक्रियाओं का निरीक्षण करने के लिए किया गया था। ध्यान अनुसंधान की गुणवत्ता पर चिंताएं जताई गई हैं, इसमें उन व्यक्तियों की विशेष विशेषताएं शामिल हैं जो भाग लेते हैं।

70 के दशक से, नैदानिक ​​मनोविज्ञान और मनोचिकित्सा ने कई मनोवैज्ञानिक स्थितियों के लिए ध्यान तकनीक विकसित की है। माइंडफुलनेस अभ्यास मानसिक और शारीरिक स्थितियों को कम करने के लिए मनोविज्ञान में नियोजित किया जाता है, जैसे कि अवसाद, तनाव और चिंता को कम करना। अध्ययन बताते हैं कि दर्द को कम करने के लिए मेडिटेशन (Meditation) का एक मध्यम प्रभावी है।

ध्यान के प्रकार(Types of Meditation)

ध्यान तीन प्रकार के स्वभावोंवाला होता है-

  • सहज (यथा धमाके की आवाज पर)
  • बलात्- (यथा, नक्शे में ढूंढने की स्थिति में)
  • अर्जित (यथा, ताजे अखबार के शीर्ष कों में)

ध्यान से लाभ

मेडिटेशन के दर्जनों वैज्ञानिक रूप से सिद्ध लाभ हैं। अध्ययनों से लाखों चिकित्सकों के अनुभव की पुष्टि होती है कि ध्यान आभ्यासकर्ता को स्वस्थ रखेगा, कई बीमारियों को रोकने में मदद करेगा, आपको भावनात्मक रूप से अच्छा करेगा और मूल रूप से किसी भी कार्य, शारीरिक या मानसिक रूप से आपके प्रदर्शन में सुधार करेगा। दैनिक अभ्यास के 8 सप्ताह के साथ ही कुछ लाभ आते हैं; अन्य लाभ परिपक्व होने में अधिक समय लेते हैं, और यह आपके अभ्यास की तीव्रता पर निर्भर करेगा। ध्यान (Meditation)कई चीजों के लिए अच्छा है, और यह अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग चीजें हैं। हालाँकि, यह आमतौर पर इन तीन चीजों में से एक है जो लोगों को अभ्यास करने के लिए प्रेरित करती है।



Chat now for Support
Support