कुंडलिनी ध्यान

यदि आप अपने जीवन को अधिक सजगता और इरादे के साथ जीना चाहते हैं, तो कुंडलिनी (Kundalini) ध्यान की इस अवस्था में प्रवेश करने का एक मात्र तरीका ध्यान का अभ्यास करना है। कुंडलिनी ध्यान, ध्यान का एक विशिष्ट रूप है जो विशेष रूप से सहायक हो सकता है, वह कुंडलिनी ही है, जो प्राण ऊर्जा पर केंद्रित है। कुंडलिनी ध्यान आपकी ऊर्जा को प्रसारित करने और अपने आप को तनाव से मुक्त करने का एक तरीका है। इस लेख में हम आपको कुंडलिनी ध्यान क्या है? इके कैसे करते हैं? और इसका अभ्यास करने से क्या लाभ होता है। इसके बारे में जानकारी दे रहे हैं जो आपके लिए बेहद फायदेमंद होगा। तो आइये जानते हैं कुंडलिनी ध्यान के बारे में –


कुंडलिनी ध्यान क्या है?


यह बस एक तकनीक है - सरल तकनीकों का एक सेट जो आपके और आपके मन के बीच और आपके मन और आपके शरीर के बीच एक संचार बनाने के लिए आपके मन, इंद्रियों और शरीर का उपयोग करता है।
ध्यान स्वयं के साथ रहने का समय है। ध्यान अपनी सांस से जुड़ने का एक समय है, आपके शरीर में प्राण शक्ति के लिए उपस्थित होने का समय, अपनी खुद की लय को फिर से स्थापित करने का समय, अपने आत्मा से बात करने का समय है। कुंडलिनी ध्यान (Kundalini Meditation) आपके और आपके मन के बीच एक सेतु है।


कुंडलिनी ध्यान का इतिहास


कुंडलिनी ध्यान की सटीक उत्पत्ति ज्ञात नहीं है, हालांकि इसकी परंपराएं लगभग 1,000 ईसा पूर्व से 500 ईसा पूर्व तक की है ऐसा माना जाता है। हिंदू संस्कृत में, कुंडलिनी का अर्थ है "कुंडलित सांप" और प्राचीन मान्यता के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति रीढ़ के आधार पर "दिव्य" ऊर्जा वहन करता है। यह सिद्धांत इस ऊर्जा को जगाने, जारी करने और दोहन करने का प्रयास करती है।


कुंडलिनी ध्यान का उद्देश्य


कुंडलिनी ध्यान कुंडलिनी योग का हिस्सा है और शरीर के माध्यम से ऊर्जा को स्थानांतरित करने के लिए है। यह इस अवधारणा पर आधारित है कि रीढ़ के आधार पर ऊर्जा (जिसे रूट चक्र भी कहा जाता है) को शरीर के सात चक्रों के माध्यम से और फिर सिर के ऊपर मुकुट चक्र के माध्यम से बाहर निकालने की आवश्यकता होती है।
शरीर से ऊर्जा जारी करने की इस प्रक्रिया का उद्देश्य मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक समस्याओं से राहत पाने के लिए आपके मन और शरीर के बीच संचार की एक प्रणाली तैयार करना है। अपनी सांस के साथ जुड़कर अपने शरीर में जागरूकता लाने की इस प्रणाली का उद्देश्य एक नई लय स्थापित करने और खुद के उच्च संस्करण के साथ संवाद करने की सुविधा प्रदान करना है।


कुंडलिनी ध्यान का अभ्यास कैसे करें?


इसा अभ्यास करने के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। जिसके बारे में हम यहां जानकारी देने जा रहें, जो इस प्रकार हैं -


  • कुंडलिनी (Kundalini) ध्यान का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले आपको स्थान का चयन करना होगा। अपने सुविधा से हिसाब से जगह चुन लें।
  • इसके बाद अभ्यासकर्ता को अपने लिए वस्त्र का चुनाव करना होगा, आप सूती वस्त्र धारण कर सकते हैं। जिसमें आप खुद को खुला व आरामदेह महसूस करें।
  • तीसरे चरण में आपको अभ्यास का समय तय करना होगा। आप इसे सुबह व शाम में कर सकते हैं परंतु माना जाता है कि ब्रह्म मुहूर्त में इसका अभ्यास करना सबसे अधिक प्रभावी होता है। ऐसे में आपको इसे सुबह ही करना चाहिए।
  • चौथे चरण में ऐसी स्थिति चुनें जो आपके लिए आरामदायक हो जहाँ आप सीधी रीढ़ के साथ सीधे बैठ सकें। अपनी आँखें धीरे से बंद करें। आप आसन मेट का भी उपयोग बैठने के लिए कर सकते हैं।
  • पांचवे चरण में आपको तय करना है कि आप अभ्यान कितने समय तक करेंगे। इसका सेशन आप 30 से 45 मिनट का रख सकते हैं।
  • कुंडलिनी ध्यान के छठवें चरण में आपको ध्यान के लिए एक मंत्र का चुनाव कर लें और इसका जाप ध्यान के वक्त करें।
  • इस चरण में आपको अपने सांस पर ध्यान लगाना होता है। सांस को साधने की पूरी कोशिश करें।
  • आसन समाप्त करने के बाद दिनचर्या शरू करें।

 कुंडलिनी ध्यान करने का लाभ


यहां मन कुंडलिनी ध्यान का अभ्यास करने के कुछ लाभ के बारे में जानकारी दे रहे हैं। जो इस प्रकार हैं –


  • कुंडलिनी ध्यान से आपको तनाव से मुक्ति मिलती है और यह शांति की भावना को खोजने में साधक की मदद करता है।
  •  यह आपको सांस लेने का उचित तरीका सिखाता है और आपके फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाता है।
  •  कुंडलिनी (Kundalini) ध्यान एकाग्रता का समर्थन करता और मन के गलत विचारों को बाहर निकालता है।
  • यह शरीर के संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली में सुधार लाने में मदद करता है।
  • शरीर के प्रति जागरूकता पैदा करता है।
  • अपनी स्वचालित दैनिक दिनचर्या को बदलकर अपने मानसिक स्थिति में सुधार लाने में यह आपकी सहायता करता है।




एस्ट्रो लेख

धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र

दही हांडी - किशन कन्हैया को समर्पित है ये उत्सव

Janmashtami Puja - कैसे करें जन्माष्टमी की पूजा, जानिए राशिनुसार ?

कृष्ण जन्माष्टमी: कृष्ण भगवान की भक्ति का त्यौहार

Chat now for Support
Support