वैदिक ध्यान

वैदिक ध्यान (Vedic Meditation), ध्यान की एक ऐसी क्रिया जिसे प्राचीन काल से किया जा रहा है। जो हमारे मन व तन को संरेखित करने में हमारा सहयोग करता है। हमारे ऋषी-मुनि कालांतर से ही इसका अभ्यास कर रहे हैं जिससे वे अपने मन व शरिर पर पूरी तरह से नियंत्रण करने में सफल होते हैं। यही इन्हें सिद्धि दिलाती है। ये सुखद जीवनयापन करते हैं। इस लेख में हम आपको वैदिक ध्यान क्या है?, इसके कैसे करते हैं? और इसे करने का आपको क्या लाभ होगा? तो आइये जानते हैं वैदिक ध्यान के बारे में जाने –


वैदिक ध्यान क्या है?



वैदिक ध्यान, ध्यान का एक रूप है जो मन को शांत करने के लिए एक सुखदायक ध्वनि पर केंद्रित है। जब हम सपने देखते हैं तब भी हमारा दिमाग हमेशा किसी न किसी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करता है। वैदिक ध्यान भारत से ज्ञान के प्राचीन निकाय वेद से आता है। वेद योग, ध्यान और आयुर्वेदिक चिकित्सा का स्रोत है और सभी पूर्वी दर्शन का आधार है। इसमें आप एक मंत्र सीखते हैं - एक सरल अर्थहीन ध्वनि - जिसे आप चुपचाप दोहराते हैं। मंत्र मन को शांत करता है और आपको एक व्यवस्थित स्थिति में ले जाता है। जैसे ही आपका दिमाग शांत होता है, आपका शरीर नींद से अधिक गहराई से आराम करना शुरू करता है। आप ध्यान से शुद्ध, तरोताजा और स्वयं से जुड़ने के लिए तैयार होते हैं। वैदिक ध्यान सहज और स्वाभाविक है।


वैदिक ध्यान का इतिहास


वैदिक शब्द का अर्थ है "वेद" से लिया गया है। वेद प्राचीन ग्रंथ हैं और भारत से उत्पन्न ज्ञान का एक प्राचीन निकाय है। हालांकि, उन्हें सार्वभौमिक ज्ञान माना जाता है क्योंकि इसी जानकारी को पूरी दुनिया में मान्यता दी गई है। यह ज्ञान का एक ही शरीर है जो योग और आयुर्वेद से उपजा है। वेद 5,000 वर्ष से अधिक पुराने हैं और वैदिक ध्यान (Vedic Meditation) शैली के प्रमुख घटक उनमें पाए जा सकते हैं। कई अलग-अलग ध्यान तकनीकें हैं जिन्हें भारत में वैदिक ध्यान कहा जाता है जिसमें आइसोमेट्रिक अभ्यासों की एक प्रणाली शामिल है जो एकीकरण के लिए अग्रणी है। हालाँकि, इस लेख में, हम वैदिक ध्यान को संबोधित कर हैं जैसा कि स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती, ज्योतिर मठ के शंकराचार्य द्वारा स्थापित किया गया था।


वैदिक ध्यान का अभ्यास कैसे करें?


वैदिक ध्यान करना बड़ा ही आसान है। नाम भले ही इसका गंभीर व जटिल प्रतीत हो रहा परंतु इसे कोई भी कर सकता है। वैसे इसके कई आयाम है लेकिन हम यहां वर्तमान में व्यवहारिक सिद्धांत के बारे में जानेंगे। जिसका आपको लाभ होगा।


  • पहले चरण में आपको स्थान का चयन करना होगा। ध्यान रहें कि स्थान प्रकृति से काफी करीब हो। यानी की आपके आस पास अधिक हरियाली हो।
  • दूसरे चरण में आपको आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए और मेैट बिछा लें।
  • तीसरे चरण में आपको एक आसन चुनना होता है जिसमें आप सुविधाजनक महसूस करें। ऐसा इसलिए ताकि आपका ध्यान भंग न हो।
  • चौथे चरण में वैदिक ध्यान का कितने समय तक अभ्यास करना है यह आपको तय करना चाहिए। आप इसे दिन में दो बार कर सकते हैं, प्रत्येक सत्र को 20 मिनट तक।
  • पांचवें चरण में अब आप बैठ जाएं। आप कुछ सहज हो सकते हैं और अपनी आँखें बंद कर सकते हैं। आप कुछ देर गहरी सांस लेते हुए खुद को आराम दें।
  • छठें चरण में आप एक मंत्र दोहराते हैं। शांति से आपने मन में। आपके मन में गैर विचार आते रहेंगे, लेकिन धीरे अपने मन को वापस मंत्र के लिए मार्गदर्शन करें हैं और सांस को साधने की कोशिश करें। बीस मिनट के सेशन के दौरान आपका मन जो भी कर रहा है, उसके साथ पूरी तरह से तटस्थ रहें।

 वैदिक ध्यान करने से होने वाले लाभ


वैदिक ध्यान (Vedic Meditation) करने के कई लाभ हैं जिनमें से कुछ के बारे में हम यहां जानकारी देने जा रहे हैं जो इस प्रकार हैं –


  • वैदिक ध्यान का उपयोग करने से आपको विषाक्त या आदत बनाने वाली दवाओं का उपयोग किए बिना सोने में मदद मिलती है।
  • यह चिंता, तनाव और अवसाद को कम कर सकता है, और यह आपको वास्तव में काम करने के लिए तत्पर कर सकता है।
  • वैदिक ध्यान हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाने में हमारी मदद करता है।
  • वैदिक ध्यान का उपयोग तनाव को कम करने में मदद कर सकता है, जो बदले में मुँहासे, एक्जिमा, सोरायसिस या किसी अन्य त्वचा की समस्याओं से राहत देने में सहायक है।
  • यहाँ तक कि हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी प्रभावित करता है, जिसके कारण हम बिमारी से लड़ने में सक्षम बनते हैं।
  • वैदिक ध्यान आपको अपने रचनात्मक पक्ष को निखारने में सहयोग करता है। यह आपको और अधिक वर्तमान में बनने वाले पल में जीने में मदद करता है। यह पिछले दर्द या आघात को ठीक करने में भी सहायता करता है।




एस्ट्रो लेख

धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र

दही हांडी - किशन कन्हैया को समर्पित है ये उत्सव

Janmashtami Puja - कैसे करें जन्माष्टमी की पूजा, जानिए राशिनुसार ?

कृष्ण जन्माष्टमी: कृष्ण भगवान की भक्ति का त्यौहार

Chat now for Support
Support