बच्चों को कैसे करवाएं ध्यान

यदि हम कम उम्र से ही ध्यान साधना करने में सक्षम हो, तो दुनिया कैसी दिखेगी? यहाँ हमें अपने बच्चों को एक नियमित ध्यान (Meditation for Kids) अभ्यास में ढालने की आवश्यकता है। बच्चा ध्यान जैसी श्रमसाध्य प्रथाओं के बजाय, ध्यान के माध्यम से वर्तमान क्षण में रहते हुए अपने समग्र विकास को प्राप्त करता है। यानी की उसका शारीरिक व मानसिक विकास। इस लेख में हम आपको आपके संतान के लिए ध्यान बताने जा रहे जिसका अभ्यास करना बेहद लाभकारी होगा।


बच्चों के लिए ध्यान क्या है?


एक ऐसी प्रक्रिया जिसमें बच्चा ध्यान लगाता है और अपने मन व मस्तिष्क को साधने का प्रयास करता है। यह क्रिया सांस को साधने की है। बच्चों के लिए ध्यान (Meditation for Kids) उनके समग्र विकास का एक मार्ग है। जिस पर चलकर वे अपने आप को एक नये स्वरूप व व्यक्तित्व में ढालते हैं।


ध्यान कैसे करें


हम चाहते हैं कि बच्चे स्वस्थ और खुश रहें, न केवल अब बल्कि उनके जीवन के लिए भी और उन्हें ध्यान के बारे में जल्दी सिखाने से उन्हें ऐसा करने में मदद मिलेगी। इसीलिए हमने यहां कुछ सरल क्रिया बताने जा रहे हैं जिसका अनुसरण कर आप अपने बच्चों से इसका पालन करवा सकते हैं।
बच्चे स्वाभाविक रूप से माइंडफुलनेस का अभ्यास करते हैं - ध्यान का एक प्रमुख घटक - क्योंकि उनके पास कम मानसिक बाधाएं, पूर्वाग्रह और पूर्व-निर्धारित मान्यताएं हैं जो उन्हें ध्यान की शुद्ध स्थिति का अनुभव करने की अनुमति देती हैं।


  • पहले चरण में आपको पार्क में किसी साफ जगह का चयन कर आप बच्चे के साथ चौकड़ी मारकर बैठ जाएं।
  • दूसरे चरण में बच्चे को आंखे बंद करने का निर्देश दें, साथ ही बच्चे को बताए की वह रिलैक्स होकर कमर सीधी करके बैठे और किसी भी चीज के बारे में कुछ ना सोचे। साथ ही बच्चों को धीरे-धीरे लंबी सांसे लेने के लिए कहें। आप चाहें तो शुरूआत में रिलैक्सेशन म्यूजिक भी लगा सकते हैं ताकि बच्चों का इधर उधर ध्या‍न ना भटके।
  • तीसरे चरण में अब आपको अपने बच्चे को सांस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहना है। ध्यान रहे इसके लिए बच्चा सहज हो व सांस आराम से व समान अनुपात में ले रहा हो।
  • चौथे चरण में आपको इसकी पुनरावृत्ति करवानी है। परंतु इसके लिए आप बच्चे पर किसी भी तरह का दबाव न बनाएं। शुरूआत में हो सकता है वह कम रूचि लें, समय दें इसमें सुधार होगा।
  •  पांचवें चरण में आप अपने बच्चे के लिए इस प्रकिया का समय तय करें।

ध्यान करने के लाभ है


ध्यान करने के कई लाभ हैं परंतु हम यहां हम कुछ लाभ दे रहे हैं। जिनके बारे में जानकर आप इसकी अनिवार्यता को समझ करेंगे। जो इस प्रकार हैं -


एकाग्रता को बढ़ाता है
सिर्फ एक या दो पीढ़ी में, चीजें इतनी बदल गई हैं कि हमारा ध्यान नहीं बढ़ सका है। सोशल मीडिया और तकनीकी उपकरणों के बीच, बच्चे - और वयस्क - लगातार इंटरनेट पर सर्फिंग कर रहे हैं, सोशल मीडिया के माध्यम से बातचीत कर रहे हैं और किताब पढ़ने के बजाय घर के अंदर वीडियो गेम खेल रहे हैं। जो बच्चे अपने उपकरणों के साथ बड़े होते हैं, उन्हें अक्सर ध्यान केंद्रित करना और चौकस रहना मुश्किल हो जाता है। ध्यान उन्हें सिखाता है कि एक समय में एक चीज़ पर उनका ध्यान कैसे केंद्रित करना संभव है, और यह वास्तव में यह बहुत जरूरी है कि विचलित न हो। क्योंकि उन्हें अपना समग्र विकास करना है।


करुणा और आत्मसम्मान को बढ़ावा देना


अच्छी खबर यह है कि ध्यान बच्चों की सुरक्षा, सहानुभूति और आंतरिक स्थिरता की भावनाओं को प्रभावित कर सकता है, और यह बदले में, करुणा, आनंद और आत्म-सम्मान का निर्माण करता है। ध्यान बच्चों को सिखाता है कि किस तरह किस महौल में बरताव करना है।


आत्मविश्वास को बढ़ाता है


बच्चों के लिए ध्यान (Meditation for Kids) बच्चों को आत्म-जागरूकता हासिल करने और अधिक आत्मविश्वास बनने में मदद करता है। आत्मविश्वास स्वाभाविक रूप से विकसित होता है जब बच्चे अपने ध्यान अभ्यास से सीखते हैं कि उन्हें अपने सभी विचारों और भावनाओं पर प्रतिक्रिया नहीं करनी है - वे चुन सकते हैं कि कौन से लोग उनके ध्यान और प्रतिक्रिया का गुण रखते हैं। अपरिचित परिस्थितियों से निपटने के लिए आत्मविश्वास से भरपूर बच्चे बेहतर होते हैं।


सहानुभूति और खुशी का निर्माण


ध्यान बच्चों को सीखने में मदद करता है कि वे अपने प्यार को दूसरे बच्चों के साथ कैसे साझा करें। वे अधिक धैर्यवान और समझदार बनते हैं, दूसरों की अधिक तत्परता से सुनते हैं और उनके साथ सहानुभूति रखते हैं। इसके साथ ही उनका व्यक्तित्व भी निखरता है। कुछ मिलाकर ध्यान का बच्चों पर व्यापाक असर पड़ता है।




एस्ट्रो लेख

धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र

दही हांडी - किशन कन्हैया को समर्पित है ये उत्सव

Janmashtami Puja - कैसे करें जन्माष्टमी की पूजा, जानिए राशिनुसार ?

कृष्ण जन्माष्टमी: कृष्ण भगवान की भक्ति का त्यौहार

Chat now for Support
Support