शांभवी महामुद्रा

शांभवी महामुद्रा (Shambhavi Mahamudra) योग की एक तकनीक है। अगर आप अपने भावनाओं व क्रोध के साथ शरीर पर नियंत्रण रखना चाहते हैं या मन को अपने काबू में रखना चाहते हैं तो वाकई यह योग व ध्यान तकनीक आपके लिए एक दम उपयुक्त हैं। इसका अभ्यास आपको जरूर करना चाहिए। इस लेख में हम आपको शांभवी महामुद्रा क्या है?, मुद्रा की शक्ति क्या है? इसे कैसे करते हैं और शांभवी महामुद्रा को करने से हमें क्या लाभ होगा। तो आइये जानते हैं शांभवी महामुद्रा के बारे में -


शांभवी महामुद्रा क्या है?


शांभवी महामुद्रा कई श्वास तकनीकों की एक एकीकृत प्रणाली है जिसमें पारंपरिक राज योग के कई अंग या योग सूत्र में पतंजलि द्वारा वर्णित योग शामिल हैं। यह श्वास लेने की क्षमता में सुधार करने से साथ ही सांस को साधने में साधक की सहायता करता है। इस ध्यान तकनीक से जातक अपने ज्ञानेंद्रियों को सक्रिय करने में सक्षम बनता है। कई तरह की परेशानियों से निजात पाता है।


 शांभवी महामुद्रा की शक्ति


शांभवी महामुद्रा (Shambhavi Mahamudra) के रूप में शायद ही कोई प्रथा लोगों को पहले दिन से ऊर्जावान बनाती है। यह केवल इसलिए है क्योंकि यदि आप महामुद्रा को सही तरीके से लागू करते हैं, तो आपकी खुद की ऊर्जा एक ऐसी दिशा में बदल रही है जो आमतौर पर कभी नहीं बदलती है। अन्यथा, आपकी ऊर्जा विभिन्न संवेदी प्रतिक्रिया में फैल जाती है। यह ऐसा है जैसे आप किसी चीज को देखते रहते हैं, आप कुछ समय बाद थक जाते हैं। सिर्फ आंखें ही नहीं – पूरा शरीर थक जाता है।
क्योंकि हर बार जब आप किसी चीज पर ध्यान देते हैं, तो आप ऊर्जा खोते हैं। यदि प्रकाश की एक किरण आप पर आती है, तो आपको इसे देखने के लिए, ऊर्जा का नुकसान होता है। यदि कोई आवाज़ आप पर आती है, तो आपको उसे सुनने के लिए भी ऊर्जा का उपयोग करना पड़ता है। इस क्रिया से हम इसे इस तरह से मोड़ सकते हैं कि हमें  इससे लाभ हो।
ध्यान व शोध
कई अध्ययनों ने योग और ध्यान-आधारित प्रथाओं को नैदानिक ​​और गैर-नैदानिक​ दोनों में सकारात्मक मनोवैज्ञानिक और शारीरिक परिणामों के साथ जोड़ा है। बढ़ते प्रमाण बताते हैं कि मध्यस्थता और योग प्रथाओं का हाइपोथैलेमिक-पिट्यूटरी-अधिवृक्क अक्ष के विनियमन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि योग और अन्य चिंतन पद्धतियां भी उतनी ही प्रभावी हो सकती हैं, जितनी कि चिंता और अवसाद जैसे मूड विकारों के उपचार में फार्माकोथेरेपी।


शांभवी महामुद्रा कैसे करें?


शांभवी महामुद्रा को कैसे करें इसके लिए हम यहां आपको चरण बद्ध तरीके से बताने जा रहे हैं जिसका आपको लाभ होगा। तो आइये जानते हैं -


  • पहले चरण में आपको एक स्थान तय करना होगा। इसके बाद आप समय निर्धारीत करें की किस समय इसे आप अभ्यास करेंगे।
  • दूसरे चऱण में पद्मासन, सिद्धासन, सुखासन या स्वस्तिकासन जैसे किसी भी ध्यान आसन में बैठें, जिसमें आप सहज हों। अब उंगलियां ज्ञान मुद्रा या चिन मुद्रा ले आएं और हथेलियाँ घुटनों पर रख दें।
  • तीसरे चरण में आपको इस मुद्रा में अपने भौं केंद्र पर ध्यान लगाए रहने के अलावा और कुछ नहीं करना है। अपनी आँखों से हम वास्तव में उस जगह को नहीं देख सकते जहाँ दो भौंहें मिलती हैं। लेकिन भौंहों के बीच दृष्टि को केंद्रित करने का प्रयास किया जाता है। दोनों आँखों को ऊपर की ओर रोल करें और आइब्रो सेंटर पर ध्यान लगाने की कोशिश करें।
  • चौथे चरण में अब आप दो भौंहों को केंद्र में मिलने वाली दो घुमावदार रेखाओं के रूप में देख पाएंगे। यह केंद्र में एक प्रकार की वी-आकार की रेखा बनाता है। वी-आकार की रेखा के निचले केंद्र क्षेत्र में इस बिंदु पर आंखों को एकाग्र करें। जब तक आप कर सकते हैं तब तक इस स्थिति को बनाए रखें।
  • पांचवें चरण, प्रारंभ में, आंख की मांसपेशियों को कुछ सेकंड या मिनटों के भीतर दर्द शुरू हो जाएगा। आंखों को आराम दें और इसे सामान्य स्थिति में वापस लाएं। कुछ समय के लिए आराम करें और फिर से प्रयास करें। अभ्यास के साथ व्यक्ति अधिक समय तक इस ध्यान को बनाए रख सकता है।
  • ध्यान रखें अभ्यास के दौरान सामान्य रूप से सांस लें। जैसे ही आप ध्यान तकनीक के साथ आगे बढ़ते हैं, आपकी सांस धीमी हो जाएगी और अधिक सूक्ष्म हो जाएगी। शांभवी महामुद्रा (Shambhavi Mahamudra) एक गहरी अवस्था में ले जा सकती है ध्यान मुद्रा अजना चक्र को सक्रिय करती है।

शांभवी महामुद्रा से लाभ


इस मुद्रा को करने से साधक को कई तरह के लाभ मिलते हैं, जिनमें से कुछ के बारे में हम आपको यहां बताने जा रहे हैं।


  • शांभवी मुद्रा आज्ञा चक्र को जगाने वाली एक शक्तिशाली क्रिया मानी जाती है। आपको बता दें कि आज्ञा चक्र निम्न और उच्च चेतना को जोड़ने वाला केंद्र है। इससे आप अपने ध्यान को नियंत्रण कर सकते हैं
  • इस मुद्रा से आपको शारीरिक लाभ तो हासिल होगा ही इसके अलावा यह मुद्र आपकी आंखों के स्नायुओं को भी मजबूत बनाता है। एकाग्रता को बढ़ाने का करता है।
  • शांभवी महामुद्रा (Shambhavi Mahamudra) आपके मन और मस्तिष्क को शांत रखता है। अर्थात यदि आप किसी बात से तनाव महसूस करें तो इस मुद्र का मदद से अपने तनाव को कम कर सकती हैं।
  • यह आपके प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत करता है। जिससे आप कई रोगों से लड़ने में सक्षम बनते हैं।
  • आपके शरीर में संतुलन बनाने में आपकी सहायता करता है। जिससे आप अपने ऊर्जा का बेहतर तरीके से उपयोग कर पाते हैं।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!


एस्ट्रो लेख

CSK vs KKR - चेन्नई सुपर किंग्स vs कोलकाता नाइट राइडर्स का मैच प्रेडिक्शन

शरद पूर्णिमा 2020 – शरद पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि

शरद पूर्णिमा 2020 - वरदान है शरद पूर्णिमा की अमृत खीर

MI vs RCB - मुंबई इंडियंस vs रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का मैच प्रेडिक्शन

Chat now for Support
Support