विशुद्धि चक्र

क्या आप जानते हैं कि कंठ चक्र( विशुद्धि) को अनब्लॉक करने से आपकी संवाद करने और खुद को अभिव्यक्त करने की क्षमता बेहतर हो सकती है?

यदि आप अपने संवाद करने की क्षमता में सुधार करना चाहते हैं तो आपको कंठ चक्र पर काम करने की जरूरत है। चाहे आप कमजोर संवाद, दूसरों की बातें सुनने में असक्षम, बात करते वक्त हकलाना, कमजोर आवाज और ऐंठ कर बातें करना  जैसी समस्याएं आपको कंठ चक्र संतुलित करने की ओर इशारा कर रही हैं। अपने कंठ चक्र को कैसे सक्रिय करें और अपने आप को ईमानदारी से सुनने और व्यक्त करने की क्षमता को बहाल करने के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करें। 

कंठ चक्र यानि विशुद्धि चक्र क्या है?

कंठ चक्र को संस्कृत में विशुद्धि कहा जाता है। विष का मतलब जहर और शुद्धि का मतलब निकालना है। सामान्य अर्थ है शुद्ध करना। अपने नाम के अनुरूप, यह पाँचवाँ चक्र आपके व्यक्तिगत सत्य को एक आवाज़ देता है। यह मुंह, जीभ, गर्दन और गले को नियंत्रित करता है। जब यह चक्र अपनी पूरी क्षमता से कार्य कर रहा होता है, तो यह आपको अपने आप को स्पष्टता के साथ व्यक्त करने की अनुमति देता है।

सप्तचक्रों की सीढ़ी पर विशुद्धि उच्च या आध्यात्मिक चक्रों में से पहला चक्र है। जब आपक गला संतुलन से बाहर हो जाता है, तो आपकी अपनी आवश्यकताओं, इच्छाओं और दूसरों के साथ राय व्यक्त करने में कठिनाई होती होगी। कई बार आप अपनी बात को सही तरह से व्यक्त करने में खुद को असमर्थ महसूस करते होंगे लेकिन जब कंठ चक्र संतुलन में होता है, तो आप बोलते, सुनते और स्वयं की अभिव्यक्ति प्रामाणिक तरीक से कर पाते हैं। 

आइए एक नजर डालते हैं कंठ चक्र की मूल बातों पर:

  • स्थान - कंठ में स्थित होता है।

  • नियंत्रण - संचार, आत्म अभिव्यक्ति, और सत्यता

  • तत्व - आकाश

  • रंग - नीला

  • बीज मंत्र - हं

अवरुद्ध कंठ चक्र के लक्षण -

विशुद्धि चक्र (Vishuddha Chakra) की समस्याएं आम और अक्सर होती हैं। यहां तक कि अगर आप अपने चक्रों को संतुलित करने में एक विशेषज्ञ बन जाते हैं, तब भी आप हर बार रुकावट का अनुभव करेंगे। कंठ चक्र में निम्नलिखित लक्षण शामिल हैं:

  • आप क्या चाहते हैं, यह कहने में परेशानी?

  • अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सही शब्द खोजने में कठिनाई

  • ऐसा महसूस करें कि आप कई रहस्य अपने अंदर छिपाए हुए हैं 

  • ऐसा एहसास कि लोग आपको असलीयत में पहचानते ही नहीं हैं।

एक गलत हृदय चक्र के शारीरिक लक्षण गले में खराश, अप्रसन्नता और अनियमित हार्मोनल उतार-चढ़ाव आदि हो सकते हैं। अवरुद्ध कंठ चक्र के मुख्य उदाहरण में संचार का दर्दनाक अनुभव शामिल है। हो सकता है आपकी कठोर बातें किसी को दिल दुखा दें या खुद की भावनाओं को रखने में आपको रुकावट आ जाए।

कैसे खोलें कंठ चक्र और कैसे करें संतुलित?

ध्यान करें

चक्र ध्यान कोई भी कर सकता है। यदि आपने पहले कभी ध्यान नहीं किया है तो आप किसी योग विशेषज्ञ की मदद ले सकते हैं। आदर्श रूप से, आपको कम से कम 10 मिनट के लिए एक बार कंठ चक्र चिकित्सा ध्यान का अभ्यास करना चाहिए। निम्नलिखित दिशा-निर्देशों का पालन करें। 

सबसे पहले एक साफ-सुथरा और शांत वातावरण चुनें। फिर दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में रखें और आँखें बंद करें और रीढ़ को सीधा करके बैठें। इसके बाद धीमी, गहरी और लंबी सांस लेते और छोड़ते रहें। फिर अपने शरीर को पूरी तरह से आराम दें इसके बाद विशुद्धि चक्र (Vishuddha Chakra) के स्थान पर ध्यान केंद्रित करते हुए नीले रंग के प्रकाश की कल्पना करें। साथ ही श्वास के आवागमन के साथ इस नीले प्रकाश को लगातार बढ़ते हुए पूरे शरीर में महसूस करें। ऐसा करने से आपको कंठ में स्वतंत्रता और विश्राम की भावना महसूस होगी। 

नोट - यदि आप ध्यान खुले आसमान के नीचे या समुद्र, नदी जैसे नीले रंग के पानी के पास बैठकर करते हैं तो काफी जल्दी कंठ चक्र जागृत हो सकता है। 

योगाभ्यास करें

सबसे अच्छे कंठ चक्र योगासन में सलंब सर्वांगासन, मत्स्यासन, भुजंगासन शामिल हैं। ये योग आसन विशुद्ध या कंठ के चक्र को खोलने में मदद करेंगे। एक हेल्थकेयर प्रोफेशनल की सलाह लेना सबसे अच्छा होता है यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको किस प्रकार के योग करने से बचना चाहिए, खासकर अगर आपको पहले से ही गर्दन में चोट या गर्दन में दर्द की शिकायत है।

कंठ चक्र दृढ़वचन

ईमानदारी और सटीक होने की बात को कहकर एक स्वस्थ कंठ चक्र को बढ़ावा दें। इन वाक्याशों को किसी भी समय कहा जा सकता है और दैनिक इसका अभ्यास आपके लिए लाभकारी होगा। हालाँकि, चिकित्सक सलाह देते हैं कि आप अपने अभ्यास में लक्षित कंठ चक्र वाक्यांश या दृढ़वचन का पालन करें, जो इस प्रकार है:

  • मैं अपनी असली आवाज का सम्मान करता हूं, और मैं इसे बोलने देता हूं।

  • मुझे सभी स्थितियों में सही शब्द मिल सकते हैं।

  • मैं अपनी सच्चाई बोलता हूं।

  • मैं खुद को स्पष्ट और स्वस्थ तरीके से व्यक्त करता हूं।

  • दूसरों को मेरी आवाज सुनाई देती है।

  • इस दुनिया में मेरी आवाज महत्वपूर्ण है।

लाभाकारी खाद्य पदार्थों का सेवन करें

जैसा कि कंठ चक्र को नीले रंग से दर्शाया गया है, तो आपको खाद्य पदार्थों में नीले और बैंगनी का सेवन करना चाहिए। ब्लूबेरी और ब्लैकबेरी जैसे फल आपके कंठ चक्र के उपचार के लिए बहुत पौष्टिक हो सकते हैं। इसके अलावा अदरक, लेमनग्रास, नमक जैसे साधारण मसाले जोड़ने से कंठ चक्र को ठीक करने में मदद मिल सकती है। ये खाद्य पदार्थ आत्म-अभिव्यक्ति को बढ़ावा देते हैं।



एस्ट्रो लेख

Kumbh Mela 2021 - इस बार 12 नहीं 11 साल बाद मनाया जा रहा है कुंभ मेला

Pongal - दक्षिण भारत में कैसे मनाया जाता है पोंगल का पर्व? जानिए

Vivekananda Jayanti: स्वामी विवेकानंद जयंती के दिन क्यों मनाते हैं युवा दिवस?

कुम्भ मेले का ज्योतिषीय महत्व

Chat now for Support
Support