Diwali 2022: दिवाली पर इस प्रकार करें पूजा, कभी नहीं होगी धन की कमी!

Mon, Oct 24, 2022
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Mon, Oct 24, 2022
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Diwali 2022: दिवाली पर इस प्रकार करें पूजा, कभी नहीं होगी धन की कमी!

हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक माह की अमावस्या तिथि के दिन दीपावली (दिवाली) का त्योहार मनाया जाता है। दिवाली आने से काफी पहले ही बाजारों में रौनक बढ़ जाती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं। दीपावली के दिन मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। 

दीपावली या दिवाली हिंदूओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या पर दीपावली का त्योहार मनाय़ा जाता है। दिवाली की शाम को माता लक्ष्मी, भगवान गणेश, देवी सरस्वती, धन के देवता कुबेर और मां काली की पूजा की जाती है। माना जाता है कि कार्तिक माह की अमावस्या तिथि पर ही समुद्र मंथन के दौरान मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं। मान्यता है कि दिवाली की रात माता लक्ष्मी पृथ्वी पर भम्रण करती हैं और भक्तों को आशीर्वाद देती हैं। शास्त्रों के अनुसार, कार्तिक अमावस्या की रात देवी लक्ष्मी पृथ्वी पर आती हैं और सभी के घरों में जाती हैं। जिन घरों में साफ-सफाई, रोशनी और विधि-विधान से देवी-देवताओं का पूजन होता है, वे वहां वास करने लगती हैं। ऐसे घरों में कभी धन का अभाव नहीं होता है।

दिवाली के दिन लोग अपने घरों व ऑफिसों को गेंदे के फूल, अशोक, आम व केले के पत्तों से सजाते हैं। घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर मांगलिक कलश को बिना छिलके वाले नारियल से ढक कर रखना शुभ माना जाता है। लोग घरों और ऑफिसों में रंगोली बनाते है। दिवाली की शुरुआत धनतेरस से होती है और इसका अगला दिन रुप चौदस (छोटी दिवाली) या नरक चौदस का होता है। बड़ी दिवाली, इस छोटी दिवाली के अगले दिन होती है। इस बार बड़ी दिवाली 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी। इसके अगले दिन गोवर्धन पूजा होती है। इसके बाद भाईदूज का त्योहार मनाया जाता है। वहीं, इस बार दिवाली के अगले दिन ही सूर्य ग्रहण पड़ रहा है। 

दिवाली की तिथि और शुभ मुहूर्त

मान्यता है कि माता लक्ष्मी की पूजा प्रदोष काल में की जानी चाहिए। सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल का प्रारम्भ होता है और यह काल लगभग 2 घण्टे 24 मिनट तक रहता है। वहीं, विद्वानों का मानना है कि महानिशिता काल तांत्रिकों और विशेष पूजा करने वालों के लिए होता है। सामान्य लोगों के लिए प्रदोष काल मुहूर्त में ही पूजा करनी चाहिए।

माता लक्ष्मी की पूजा करने के लिए चौघड़िया मुहूर्त नहीं देखे जाते हैं, क्योंकि माना जाता है कि ये मुहूर्त यात्रा के लिए सही होते हैं। माता लक्ष्मी की पूजा के लिए सबसे अच्छा समय प्रदोष काल ही होता है। ऐसी मान्यता है कि अगर स्थिर लग्न के दौरान लक्ष्मी पूजा की जाए तो लक्ष्मी जी घर में ठहर जाती हैं। इस कारण लक्ष्मी पूजा के लिए यह समय सबसे अच्छा माना जाता है। वहीं, वृषभ लग्न को स्थिर माना जाता है और दीवाली के त्योहार के दौरान यह अधिकतर प्रदोष काल के साथ ही होता है। अनेक समुदाय, विशेष रूप से गुजराती व्यापारी लोग, दीपावली की पूजा के दौरान चोपड़ा पूजन करते हैं। चोपड़ा पूजा के दौरान देवी लक्ष्मीजी की उपस्थिति में नए खाते की पुस्तकों का शुभारम्भ किया जाता है और अगले वित्तीय वर्ष के लिए उनसे आशीर्वाद की प्रार्थना की जाती है। दीपावली की पूजा को लक्ष्मी-गणेश पूजन के नाम से भी जाना जाता है।  

साल 2022 में कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 24 अक्टूबर से शुरू होकर 25 अक्टूबर तक रहेगी। 25 अक्टूबर को प्रदोष काल से पहले ही अमावस्या तिथि समाप्त हो जायेगी। वहीं, 24 अक्टूबर को प्रदोष काल में अमावस्या तिथि रहेगी। उसी दिन निशित काल में भी अमावस्या तिथि रहेगी। इस कारण 24 अक्टूबर को ही पूरे देश में दीपावली का पर्व मनाया जाएगा।

दीपावली पर पूजन मूहुर्त

24 अक्टूबर 2022 को छोटी दिवाली और बड़ी दिवाली साथ मनाई जाएगी। रात में माता लक्ष्मी की पूजा के लिए शाम 06:53 से शाम 08:16 तक और निशिता मुहूर्त रात 11.46 से 12.37 तक शुभ मुहूर्त है। रविवार के दिन त्रयोदशी तिथि शाम 06ः04 तक रहेगी। उसके बाद चतुर्दशी तिथि लग जाएगी। 24 अक्टूबर को शाम 05ः28 पर चतुर्दशी तिथि समाप्त होगी और अमावस्या तिथि आरंभ होगी। अमावस्या तिथि 25 अक्टूबर को शाम 04ः19 मिनट तक रहेगी। मान्यता है कि दिवाली पूजन प्रदोष काल में किया जाता है।

 प्रदोष काल मुहूर्त

  • दिवाली पर लक्ष्मी पूजा सोमवार, 24 अक्टूबर 2022
  • लक्ष्मी पूजा मुहूर्त- शाम 06:53 से शाम 08:16 तक
  • अवधि - 01 घंटा 23 मिनट
  • प्रदोष काल - शाम 05:43 से 08:16 तक
  • वृषभ काल - शाम 06:53 से शाम 08:48 तक
  • अमावस्या तिथि प्रारम्भ - अक्टूबर 24, 2022 की शाम 05:27 से
  • अमावस्या तिथि समाप्त - अक्टूबर 25, 2022 को शाम 04:18 तक

निशिता काल मुहूर्त

  • लक्ष्मी पूजा मुहूर्त - रात्रि 11:40 से रात्रि 12:31 तक
  • अवधि - 51 मिनट्स
  • निशिता काल - रात्रि 11:40 से रात्रि 12:31 तक
  • सिंह लग्न - 25 अक्टूबर सुबह 01:23 से सुबह 03:41तक

            स्थिर लग्न के बिना लक्ष्मी पूजा मुहूर्त 

चौघड़िया पूजा मुहूर्त

दिवाली पर लक्ष्मी पूजा के लिये शुभ चौघड़िया मुहूर्त

  • दोपहर मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - शाम 05:27 से शाम 05:43 तक
  • शाम मुहूर्त (चर) - शाम 05:43 से शाम 07:18 तक
  • रात्रि मुहूर्त (लाभ) - रात 10:30  से रात 12:05 तक
  • उषाकाल मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 25 अक्टूबर की सुबह 01:41 से सुबह 06:28 

क्यों मनाई जाती है दिवाली

दीपावली बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान श्रीराम ने लंकापति रावण को परास्त कर लंका पर विजय प्राप्त की थी और दिवाली के दिन वे 14 साल का वनवास पूरा कर अयोध्या वापस लौटे थे। कहा जाता है कि जब भगवान श्रीराम, लक्ष्मण और माता सीता अयोध्या आए थे तो उनका स्वागत लोगों ने दीप जलाकर किया था। उस दिन भगवान श्रीराम के वापस आने की खुशी में प्रकाश का पर्व दीपावली मनाया गया था।उस दिन से प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को दिवाली का त्योहार मनाया जाने लगा। पूरे भारत में इस पर्व को अलग ही हर्ष और उल्लास से मनाया जाता है। 

इसके साथ ही धार्मिक मान्यता है कि समुद्र मंथन के दौरान इस दिन मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं, तब से वे दिवाली के दिन अपने भक्तों के घर पर आती हैं और उन्हें धन-धान्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं। माना जाता है कि भगवान व‍िष्‍णु ने दैत्‍यराज बलि की कैद से देवताओं को छुड़वाया था। इसके साथ ही उनका सारा धन-धान्‍य, राजपाठ वैभव लक्ष्‍मी जी की कृपा से पुन: पर‍िपूर्ण हुआ था। इस कारण दीपावली के द‍िन लक्ष्‍मी पूजन क‍िया जाता है। मां लक्ष्‍मी भोग की अध‍िष्‍ठात्री देवी हैं, इनके प्रसन्न होने से जीवन में भौत‍िक सुख-सुव‍िधाएं प्राप्‍त होती हैं। 

दिवाली पर कैसे करें पूजन

  • दिवाली पर शुभ मुहूर्त में लक्ष्मी-गणेश की विधिपूर्वक पूजा की जाती है। 
  • दिवाली के दिन घर को अच्छे से सजाएं और मुख्य द्वार पर रंगोली बना लें। दिवाली पर पूजन की तैयारी शाम से शुरू की जाती है। एक चौकी पर माता लक्ष्‍मी और भगवान गणेश जी की मूर्तियां इस प्रकार रखें क‍ि लक्ष्‍मी जी के बायीं ओर गणेश जी रहें और उनका मुख पूर्व द‍िशा की ओर रहे। 
  • उनके सामने बैठकर चावल के ढेर पर कलश की स्‍थापना करें। वरुण के प्रतीक इस कलश पर एक नार‍ियल लाल वस्‍त्र में लपेटकर इस प्रकार रखें क‍ि उसका केवल आगे का भाग ही द‍िखाई दे।
  •  दो बड़े दीपक लेकर एक में घी और दूसरे में तेल भरकर रखें। एक को मूर्तियों के चरणों में और दूसरे को चौकी की दाई तरफ रखें।
  • चौकी पर रखें गणेशजी के सामने एक छोटा सा दीपक रखें। इसके बाद शुभ मुहूर्त के समय जल, मौली, अबीर, चंदन, गुलाल, चावल, धूपबत्‍ती, गुड़, फूल, नैवेद्य आद‍ि लेकर सबसे पहले पव‍ित्रीकरण करें। इसके बाद सारे दीपकों को जलाकर उन्‍हें नमस्‍कार करें। 
  • फूल  हाथ में फूल और चावल लेकर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश का ध्यान करें। ध्यान के बाद भगवान श्रीगणेश और मां लक्ष्मी की प्रतिमा पर अक्षत अर्पित करें। 
  • दोनों प्रतिमाओं को चौकी से उठाकर एक थाली में रखें और  दूध, दही, शहद, तुलसी और गंगाजल के मिश्रण से स्नान कराएं। इसके बाद स्वच्छ जल से स्नान कराकर वापस चौकी पर विराजित कर दें।
  • स्नान कराने के बाद लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमा को टीका लगाएं। माता लक्ष्मी और गणेश जी को फूलों की माला पहनाएं। इसके साथ ही भगवान कुबेर, माता सरस्वती का भी ध्यान करें। इसके बाद लक्ष्मी-गणेश जी के सामने बताशे, मिठाइयां, फल, पैसे और सोने के आभूषण रखें। फिर पूरा परिवार मिलकर कथा सुनें और फिर मां लक्ष्मी की आरती उतारें।
  • मां लक्ष्मी जी का मंत्र- ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद, ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:॥
  • सौभाग्य प्राप्ति का मंत्र- ऊं श्रीं ल्कीं महालक्ष्मी महालक्ष्मी एह्येहि सर्व सौभाग्यं देहि मे स्वाहा।।
  • कुबेर जी का मंत्र-ऊं यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्यसमृद्धिं में देहि दापय स्वाहा।
  • पहले घर के पुरुष और बाद में स्त्रियां गणेशजी, लक्ष्‍मीजी व अन्‍य देवी-देवताओं का व‍िध‍िवत् षोडशोपचार पूजन, श्रीसूक्‍त, लक्ष्‍मी सूक्‍त का पाठ करें और आरती उतारें।
  • इसके अलावा बही खातों की पूजा करने के बाद ल‍िखने की नयी शुरुआत करें। तेल के अनेक दीपक जलाकर घर के हर कमरे में, त‍िजोरी के पास, आंगन और गैलरी आद‍ि जगह पर रखें। ताकि क‍िसी जगह पर अंधेरा न रह जाए। 
  • खांड की म‍िठाइयां, पकवान और खीर आद‍ि का भगवान को भोग लगाकर सबको प्रसाद बांटे।

दिवाली के दिन क्या करें क्या न करें

  • दिवाली पर लक्ष्मी पूजन की तैयारी से पहले स्नान कर लें। घर को आम के पत्तों, फूल, रंगोली आदि से सजाएं। घर के गेट पर दीया जलाना चाहिए। कहा जाता है कि इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।
  • मान्यता है दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के बाद घर के सभी कमरों में शंख और घंटी बजाना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार ऐसा करने से धन-धान्य में बरकत होती है।
  • दिवाली के दिन जरुरतमंद या गरीबों को कपड़े, धन या मिठाई दान करें। मान्यता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और सुख-समृद्धि का वास होता है।
  • दीपावली पर घर में मिट्टी से बने दीपक जलाना चाहिए। ऐसा करने से वास्तु दोष दूर होते हैं।

इन कामों को न करें

  • दिवाली  के दिन देर तक न सोएं।
  • दिवाली के दिन नाखून न काटें और न ही शेविंग करें।
  • दिवाली के दिन घर को अव्यवस्थित न रखें, ऐसा करने से देवी लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं।
  • लक्ष्मी जी की पूजा अकेले न करें। भगवान विष्णु के बिना उनकी पूजा अधूरी मानी जाती है।

दीपावली पर माता लक्ष्मी जी की कथा

दीपावली के दिन माता लक्ष्मी की यह कथा काफी प्रचलित है। एक बार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को माता लक्ष्मी विचरण कर रहीं थीं, तभी वह रास्ता भूल गईं। हर ओर घोर अंधेरा था। पृथ्वी लोक पर हर कोई सो रहा था, सभी के घर के दरवाजे बंद थे। माता लक्ष्मी जी भ्रमण करते हुए एक वृद्ध महिला के घर पहुंचीं, जो चरखा चला रही थी। उन्होंने माता लक्ष्मी को विश्राम करने के लिए बिस्तर आदि की व्यवस्था की, जहां पर माता लक्ष्मी ने विश्राम किया। इस दौरान वह वृदा अपने काम में व्यस्त रही। काम करते-करते वह सो गईं। जब उनकी आंख खुली तो उनकी कुटिया की जगह महल बन गया था। उनके घर में धन-धान्य के अलावा और भी सभी चीजें मौजूद थीं। किसी चीज की कमी नहीं थी। माता लक्ष्मी वहां से ​कब चली गई थीं, यह उस वृद्ध महिला को पता ही नहीं चल पाया था। माता लक्ष्मी जी ने उस महिला की सेवा से प्रसन्न होकर उस पर कृपा की थी। उसके बाद से हर वर्ष कार्तिक अमावस्या को रात्रि में प्रकाशोत्सव करने की परंपरा शुरू हो गई। इस दिन माता लक्ष्मी के आगमन के लिए लोग अपने घरों के द्वार खोलकर रखने लगे।

क्यों की जाती है दिवाली पर माता लक्ष्मी के साथ भगवान गणेश की पूजा ?

पौराणिक कथा के अनुसार बैकुंठ में मां लक्ष्मी और विष्णु जी आपस में बात कर रहे थे, तभी माता लक्ष्मी ने कहा कि मैं धन-धान्य, ऐश्वर्य, सौभाग्य, सौहाद्र देती हूं, मेरी कृपा से भक्त को सर्व सुख प्राप्त होता है। ऐसे में मेरी ही पूजा सर्वश्रेष्ठ है। मां लक्ष्मी के इस अहंकार को भगवान विष्णु ने तोड़ने का फैसला किया। विष्णु जी ने कहा कि देवी आप श्रेष्ठ हैं, लेकिन संपूर्ण नारीत्व आपके पास नहीं है, क्योंकि जब तक किसी स्त्री को मातृत्व का सुख न मिले वो उसका नारीत्व अधूरा रहता है। मां लक्ष्मी श्रीहरि की बात सुनकर निराश हो गईं। इसके लिए वे देवी मां पार्वती के पास पहुंचीं और उन्हें सारी बात बतायी। जगत जननी मां पार्वती ने लक्ष्मी जी की पीड़ा देखते हुए अपने एक पुत्र गणेश को उन्हें दत्तक पुत्र के रूप में सौंप दिया। देवी लक्ष्मी अति प्रसन्न हुईं और उन्होंने भगवान गणेश को अपनी सिद्धियां, धन, संपत्ति, सुख, प्रदान करने की बात कही। देवी ने कहा कि साधक को धन, दौलत, ऐश्वर्य की प्राप्ति तभी होगी लक्ष्मी के साथ गणेश जी की उपासना की जाएगी, तब से ही दिवाली पर भगवान गणेश की आराधना की जाती है। गणपति हमेशा लक्ष्मी जी के बाईं ओर विराजमान होते हैं, ऐसे में देवी की मूर्ति या तस्वीर लेते वक्त इस बात का ध्यान जरूर रखें।

व्यक्तिगत रूप से दिवाली पूजन पर परामर्श के लिए अभी बात करें बेस्ट ज्योतिषियों से केवल एस्ट्रोयोगी पर

✍️ By- टीम एस्ट्रोयोगी

Pooja Performance
Diwali
Festival

आपके पसंदीदा लेख

नये लेख


Pooja Performance
Diwali
Festival
आपका अनुभव कैसा रहा
facebook whatsapp twitter
ट्रेंडिंग लेख

यह भी देखें!

chat Support Chat now for Support