जया एकादशी 2022 – क्या है माघ शुक्ल एकादशी व्रत की पूजा विधि

Wed, Dec 22, 2021
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Wed, Dec 22, 2021
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
जया एकादशी 2022 – क्या है माघ शुक्ल एकादशी व्रत की पूजा विधि

हिंदूओं में एकादशी व्रत की बहुत मान्यता है। वर्ष के प्रत्येक मास की दोनों एकादशियों को बहुत ही शुभ माना जाता है। माघ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी भी अपना विशेष महत्व रखती है। मान्यता है कि इस एकादशी के उपवास से पिशाचों सा जीवन व्यतीत करने वाले पापी से पापी व्यक्ति भी मोक्ष को पा लेते हैं। माघ शुक्ल एकादशी को जया एकादशी कहा जाता है। आइये जानते हैं जया एकादशी की व्रत कथा व पूजा विधि के बारे में।

 

2022 में जया एकादशी तिथि व मुहूर्त

जया एकादशी तिथि –  12 फरवरी 2022, शनिवार

पारण का समय – प्रातः 07:01 बजे से 09:15 बजे तक (13 फरवरी 2022)

एकादशी तिथि प्रारम्भ - फरवरी 11, 2022 को  दोपहर 13:52 बजे से
एकादशी तिथि समाप्त - फरवरी 12, 2022 को दोपहर 16:27 बजे तक

 

जया एकादशी पौराणिक कथा

बात बहुत समय पहले की है नंदन वन में उत्सव का आयोजन हो रहा था। देवता, सिद्ध संत, दिव्य पुरूष सभी उत्सव में मौजूद थे। उस समय गंधर्व गा रहे थे, गंधर्व कन्याएं नृत्य कर रही थी। इन्हीं गंधर्वों में एक माल्यवान नाम का गंधर्व भी था जो बहुत ही सुरीला गाता था। जितनी सुरीली उसकी आवाज़ थी उतना ही सुंदर रूप भी उसने पाया था। उधर गंधर्व कन्याओं में एक पुष्यवती नामक नृत्यांगना भी थी। बहुत ही अच्छा समां बंधा हुआ था कि पुष्यवती की नज़र माल्यवान पर पड़ती है और फिर नज़र है कि वहां से हटने का नाम नहीं लेती। पुष्यवती के नृत्य को देखकर माल्यवान भी सुध बुध खो देता है और वह गाते-गाते लय सुर से भटक जाता है। उनके इस कृत्य से इंद्र नाराज़ हो जाते हैं और उन्हें श्राप देते हैं कि स्वर्ग से वंचित होकर मृत्यु लोक में पिशाचों सा जीवन भोगो। फिर क्या था श्राप का प्रभाव तुरंत पड़ा और दोनों धड़ाम से धरती पर आ गिरे वो भी हिमालय पर्वत के पास के जंगलों में। अब दोनों एक वृक्ष पर रहने लगे। पिशाची जीवन बहुत ही कष्टदायक था। दोनों बहुत दुखी थे।

 

जया एकादशी पर सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

एक बार माघ मास में शुक्ल पक्ष की एकादशी का दिन था पूरे दिन में उन्होंने केवल एक बार ही फलाहार किया था। जैसे जैसे दिन ढलने की ओर बढ़ रहा था ठंड भी बढ़ती जा रही थी। देखते ही देखते रात घिर आयी और ठंड और भी बढ़ गई थी, ठंड के मारे दोनों रात्रि भर जागते रहे और भगवान से अपने किये पर पश्चाताप भी कर रहे थे। सुबह तक दोनों की मृत्यु हो गई। जैसे तैसे अंजाने में ही सही उन्होंनें एकादशी का उपवास किया था। भगवान के नाम का जागरण भी हो चुका था इसी का फल था कि मृत्युपर्यन्त उन्होंने पुन: खुद को स्वर्ग लोक में पाया। देवराज इंद्र उन्हें स्वर्ग में देखकर अचंभित हुए और पूछा कि वे श्राप से कैसे मुक्त हुए। तब उन्होंने बताया कि भगवान विष्णु की उन पर कृपा हुई। हमसे अंजाने में माघ शुक्ल एकादशी यानि जया एकादशी का उपवास हो गया जिसके प्रताप से भगवान विष्णु ने हमें पिशाची जीवन से मुक्त किया। इस प्रकार सभी ने जया एकादशी के महत्व को जाना।

कुछ कथाओं में नंदन वनोत्सव के स्थान पर इंद्र सभा का जिक्र भी है जिनके अनुसार माल्यवान व पुष्यवती एकादशी का उपवास विधि विधान से करते हैं और उपवास संपन्न कर श्राप से मुक्त होते हैं।

 

जया एकादशी व्रत व पूजा विधि

जया एकादशी के व्रत के लिये उपासक को पहले दिन यानि दशमी के दिन एक बार ही सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिये। अपनी मनोवृति को भी सात्विक ही रखना चाहिये। व्रती को ब्रह्मचर्य का पालन भी करना चाहिये। एकादशी के दिन व्रत का संकल्प करके धूप, दीप, फल, पंचामृत आदि से भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण की पूजा करनी चाहिये। रात्रि में श्री हरि के नाम का ही भजन कीर्तन भी करना चाहिये। फिर द्वादशी के दिन किसी पात्र ब्राह्मण अथवा जरुरतमंद को भोजन कराकर और क्षमतानुसार दान दक्षिणा देकर व्रत का पारण करना चाहिये।

 

टैरो रीडर । अंक ज्योतिषी । वास्तु सलाहकार । फेंगशुई एक्सपर्ट । करियर एस्ट्रोलॉजर । लव एस्ट्रोलॉजर । फाइनेंशियल एस्ट्रोलॉजर । मैरिज एस्ट्रोलॉजर । मनी एस्ट्रोलॉजर । स्पेशलिस्ट एस्ट्रोलॉजर 

 

संबंधित लेख

योगिनी एकादशी   |   निर्जला एकादशी   |   कामदा एकादशी   |   पापमोचिनी एकादशी   |   कामिका एकादशी का व्रत   |   इंदिरा एकादशी 

मोक्षदा एकादशी   |   विजया एकादशी   |   रमा एकादशी   |  सफला एकादशी   |   पौष पुत्रदा एकादशी

उत्पन्ना एकादशी   |      ।   आमलकी एकादशी   |   वरुथिनी एकादशी   |   मोहिनी एकादशी   |   देवशयनी एकादशी

श्रावण शुक्ल एकादशी   |   अजा एकादशी   |   परिवर्तिनी एकादशी   |   षटतिला एकादशी

Hindu Astrology
Spirituality
Vedic astrology

आपके पसंदीदा लेख

नये लेख


Hindu Astrology
Spirituality
Vedic astrology
आपका अनुभव कैसा रहा
facebook whatsapp twitter
ट्रेंडिंग लेख

यह भी देखें!

chat Support Chat now for Support