Skip Navigation Links
मांगलिक दोष - मांगलिक योग है या दोष?


मांगलिक दोष - मांगलिक योग है या दोष?

मांगलिक यह शब्द सुनते ही विवाह का लड्डू किरकिरा नज़र आने लगता है। जिसके साथ विवाह होना है यदि उसकी कुंडली में यह दशा मौजूद हो तो वह जीवनसाथी नहीं जीवनघाती लगने लगता है। लेकिन बहुत बार जैसा ऊपरी तौर पर नज़र आता है वैसा असल में नहीं होता। ज्योतिषशास्त्री भी कहते हैं कि सिर्फ मांगलिक दोष के कारक भाव में मंगल के होने से ही मांगलिक दोष प्रभावी नहीं हो जाती बल्कि उसे घातक अन्य परिस्थितियां भी बनाती हैं। यह हानिकारक तभी होता है जब मंगल निकृष्ट राशि का व पापी भाव का हो। कहने का तात्पर्य है कि मांगलिक मात्र कुंडली का दोष नहीं है बल्कि यह कुछ परिस्थितियों में विशेष शुभ योग भी बन जाता है। कैसे? इसी पर चर्चा करेंगें इस लेख में।

क्या है मांगलिक दोष (MANGLIK DOSH)

जब कुंडली में लग्न की दृष्टि से मंगल पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें, या बारहवें स्थान पर हो तो ज्योतिषशास्त्री इसे मांगलिक दोष मानते हैं।

सतमंगली दोष (SATMANGLI DOSH)

वैसे तो लग्न कुंडली में पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें, या बारहवें स्थान पर मंगल ग्रह हो तो मांगलिक दोष होता है लेकिन ज्योतिषाचार्य इनमें से सबसे हानिकारक सातवें भाव में मंगल को बताते हैं। इसलिये इस दोष को सतमंगली कहा जाता है। यह जीवनसाथी के लिये घातक माना जाता है।

मांगलिक दोष कब बनता है योग 

वो कहावत तो आपने सुनी होगी या पढ़ी होगी कि लोहे को लोहा काटता है या फिर ज़हर को ज़हर मारता है। इसी तर्ज़ पर यदि दो मांगलिक जातकों का आपस में विवाह करवा दिया जाये तो यही मांगलिक दोष एक बहुत ही शुभ योग बन जाता है।

इसी तरह यदि चंद्रमां, राहु, शनि में से कोई भी ग्रह प्रथम, द्वितीय, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम, एवं द्वादश भाव में मंगल के साथ मौजूद हो तो मांगलिक दोष समाप्त हो जाता है और जातक का वैवाहिक जीवन बहुत ही हंसी-खुशी के साथ व्यतीत होता है।

यदि विवाह के लिये जातकों की कुंडलियों का मिलान करने पर दोनों कुंडलियों में 27 गुण एक दूसरे से मिल जाते हैं तो भी मांगलिक दोष पर ज्योतिषाचार्य विचार नहीं करते यानि इस अवस्था में भी मंगल दोष समाप्त हो जाता है।

यदि कुंडली में मंगल स्वराशि का हो या फिर उच्च का होकर मित्र घर में विराजमान हो तो भी मांगलिक दोष निष्प्रभावी रहता है।

इतना ही नहीं मंगल जिस भी राशि में बैठा हो यदि उस राशि का स्वामी उच्च होकर त्रिकोण या केंद्र में बैठा हो तो वह भी मंगल दोष की काट करता है।

वृष, मिथुन, सिंह, व वृश्चिक लग्न की कुंडली में भी मंगल दोष नहीं होता।

कुल मिलाकर ऐसी बहुत सी परिस्थितियां हैं जिनका विचार किये बिना ही मांगलिक दोष से जातक घबरा जाते हैं। आपकी कुंडली में मांगलिक दोष है या योग इसका सटीक आकलन आप एस्ट्रोयोगी पर देशभर के जाने-माने ज्योतिषियों से करवा सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

मांगलिक दोष   |   कुंडली में विवाह योग   |   गुरु चाण्डाल दोष   |   शनि दोष   |   चंद्र दोष   |   पितृदोष

कुंडली में संतान योग   |   कुंडली में प्रेम योग   |   कुंडली में कालसर्प दोष   




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...