बृहस्पति महादशा

बृहस्पति की महादशा, वैदिक ज्योतिष में गुरू बृहस्पति का काफी महत्व है। इस ग्रहों को ज्योतिष में ज्ञान व संबंध का कारक माना है। बृहस्पति की ही कृपा से जातक शिक्षा को प्राप्त करता है साथ ही उसका वैवाहिक जीवन सुखमय होता है। ऐसे में कुंडली में गुरू की महादशा का चलना काफी महत्व रखता है। ऐसे में अगर इसके साथ अन्य किसी ग्रह का अंतर्दशा दशा चलें तो यह हमारे लिए अलग – अलग परिणाम लेकर आता है। इस लेख में हम आपके बृहस्पति के महादशा में अन्य ग्रहों अंतर्दशा के प्रभाव को बताएंगे। तो आइये जानते हैं बृहस्पति की महादशा के बारे में -

आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति की महादशा

बृहस्पति की महादशा की अवधि 16 वर्ष है। बृहस्पति ग्रह धन, धन, भाग्य, आध्यात्मिकता और दांपत्य जीवन में भी खुशियों से जुड़ा ग्रह है। यह लिवर का भी प्रतिनिधित्व करता है। चार्ट में बृहस्पति के लाभकारी स्थान का मतलब है, मूल निवासी एक समृद्ध जीवन जीएगा। बृहस्पति उस क्षेत्र के पहलुओं को बढ़ाता है और विस्तारित करता है जहां वह कुंडली में बैठता है। बृहस्पति के महादशा के तहत लोगों को शिक्षण, बैंकिंग, व्याख्यान, शिक्षा, वित्त, गहने, विवाह परामर्श, ऋण प्रसंस्करण, मनोविज्ञान, आध्यात्मिकता, राजनीति, प्रशासन आदि में सफलता मिलती है।

जब बृहस्पति महादशा चल रही हो तो बच्चे भी अच्छा प्रदर्शन करते हैं। इस अवधि के दौरान, बृहस्पति जातक को बेहतर निर्णय और ज्ञान के साथ आशीर्वाद देता है। करियर में महान ऊंचाइयों को प्राप्त करने की इच्छा रखता है। यह महादशा अध्यात्म और धर्म के प्रति आपका झुकाव भी बढ़ाती है।

कुंडली कुंडली मिलान कुंडली दोष  ➔ कुंडली के योग  ➔ कुंडली में लगन भाव

 

बृहस्पति की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा

यहां हम आपको बृहस्पति की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा में जातक पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जो आपके लिए काफी लाभप्रद होगा। तो आइये जानते है बृहस्पति की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा क्या परिणाम दे सकती है।

 

बृहस्पति की महादशा में बृहस्पति की अंतर्दशा का फल

आध्यात्मिक खोज और पूजा करने से बहुत सारी धन, वाहन और भौतिक सुख-सुविधाएं मिलती हैं। यदि दृढ़ विश्वास के साथ किया जाता है, तो व्यक्ति समाज में बहुत नाम और प्रसिद्धि प्राप्त कर सकता है और बृहस्पति का आशीर्वाद प्राप्त कर सकता है। यह आध्यात्मिकता का अभ्यास करने के संदर्भ में एक ऐतिहासिक अवधि है। बहुत सारी धार्मिक यात्राएँ और पुण्य कार्य होते हैं। बच्चे भी खुशहाल जीवन जीते हैं। मूल निवासी बहुत ज्ञान और ज्ञान प्राप्त करता है और कैरियर में बेहतर स्थिति प्राप्त करता है। यदि पीड़ित हैं, तो यह दासा जीवनसाथी से अलगाव का कारण भी बन सकता है। संतान के साथ भी समस्या संभव है। स्वास्थ्य के मुद्दे हड़ताल कर सकते हैं, विशेष रूप से जिगर से संबंधित। शत्रुता से धन हानि और बदनामी भी हो सकती है।

 

बृहस्पति की महादशा में शनि की अंतर्दशा का फल

बृहस्पति की महादशा में शनि अंतर्दशा होने से ऋण और संपत्ति के मामलों में लाभ देता है। इस अवधि में लोग समाज में होने के कारण बहुत अधिक धन और लाभ प्राप्त करते हैं। यह अवधि किसी की व्यावसायिक स्थिति को बढ़ावा देती है। ज्योतिष के मुताबिक जातक सफलता पाने के लिए बहुत प्रयास करता है। कानून, न्याय और प्रबंधन के क्षेत्र में सफल होने के लिए यह एक अच्छी अवधि है। इस अवधि में आप जितना अधिक परिश्रम करेंगे, सफलता की संभावना उतनी ही बेहतर होगी। यदि दुःख होता है, तो जातक कार्य व जीवन में परेशानी का सामना कर सकता है। नकारात्मक प्रभाव के कारण इस अवधि में कुछ स्वास्थ्य जटिलताएँ भी पैदा हो सकती हैं। बृहस्पति महादशा में शनि अंतर्दशा समाज में बदनामी और विपत्ति की स्थिति में धन हानि का कारण बन सकता है।

 

बृहस्पति की महादशा में बुध की अंतर्दशा का फल

ज्योतिष के अनुसार दोनों ग्रह ज्ञान और बुद्धिमत्ता के कारक हैं। इसलिए इस अवधि के दौरान, जातक अच्छा ज्ञान और सीखने की शक्ति प्राप्त करता है। उनकी बौद्धिक क्षमता में बहुत सुधार होता है। मूल निवासी अपनी बुद्धि से बहुत नाम और शोहरत कमाते हैं। बॉस इस दौरान आपकी कीमत भी पहचानता है। शिक्षा के विषय में भी यह एक अच्छी अवधि है। इस दशा के दौरान परिणाम अक्सर सकारात्मक होते हैं। पंडितजी की माने तो जातक भी व्यावसायिक प्रयासों में सफलता प्राप्त करता है और समाज में बहुत सम्मान अर्जित करता है। इस दशा के दौरान, घर में शांति और अच्छे संबंध बनाए रखने के लिए जातक जाना जाता है। यदि दुःख होता है, तो अपने प्रयासों और परीक्षाओं में कड़ी मेहनत के वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए जातक संघर्ष करता है। इस मामले में त्वचा की समस्याएं भी होने की संभावना है। इसके अलावा, स्मृति के मुद्दे और मानसिक अस्थिरता भी बनी रह सकती है।

 

बृहस्पति की महादशा में केतु की अंतर्दशा का फल

यह दशा जातकों को आध्यात्मिक झुकाव और धार्मिक यात्राओं में रुचि देता है। हालांकि, इस अवधि के दौरान, केतु करियर के मामलों में बहुत सारी समस्याओं और भ्रम का कारण बनता है। ज्योतिष की माने तो कारावास की संभावना भी मौजूद रहती है। जातक स्वास्थ्य के मुद्दों और बहुत अधिक मानसिक समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। इस दौरान कुछ अनावश्यक यात्राएं भी हो सकती हैं। आप रिश्तों में एक तरह की दूरी भी देख सकते हैं। खर्च भी बढ़ जाता है।

 

बृहस्पति की महादशा में शुक्र की अन्तर्दशा का फल

यह दशा बहुत सारे सकारात्मक परिणाम लाता है, बशर्ते आप पर्याप्त प्रयास करें। इस अवधि में भगवान और आपके आध्यात्मिक मार्गदर्शक के प्रति आपका विश्वास मजबूत होता है। ज्योतिष के अनुसार शुक्र बहुत सारी भौतिक सुख-सुविधाएं भी देता है। संगीत और गायन में भी आपकी रुचि बढ़ती है। आप अपने दांपत्य जीवन में बहुत स्नेह और प्रेम रखते हैं। दोनों ग्रह लाभकारी हैं और धन और भाग्य को दर्शाते हैं। यह अवधि इस प्रकार जातक के लिए समृद्धि और वित्तीय स्थिरता लाती है। आप लक्जरी कपड़ों और वाहनों जैसे भौतिक सुख-सुविधाओं का भरपूर आनंद लेते हैं। सकारात्मक प्रभाव के कारण आपका ज्ञान भी बढ़ता है।

 

बृहस्पति की महादशा में शुक्र की अन्तर्दशा का फल

यह दशा बहुत सारे सकारात्मक परिणाम लाता है, बशर्ते आप पर्याप्त प्रयास करें। इस अवधि में भगवान और आपके आध्यात्मिक मार्गदर्शक के प्रति आपका विश्वास मजबूत होता है। शुक्र बहुत सारी भौतिक सुख-सुविधाएं भी देता है। संगीत और गायन में भी आपकी रुचि बढ़ती है। आप अपने दांपत्य जीवन में बहुत स्नेह और प्रेम रखते हैं। दोनों ग्रह लाभकारी हैं और धन और भाग्य को दर्शाते हैं। यह अवधि इस प्रकार मूल निवासी के लिए समृद्धि और वित्तीय स्थिरता लाती है। आप लक्जरी कपड़ों और वाहनों जैसे भौतिक सुख-सुविधाओं का भरपूर आनंद लेते हैं। सकारात्मक प्रभाव के कारण आपका ज्ञान भी बढ़ता है।

 

बृहस्पति की महादशा में सूर्य की अन्तर्दशा का फल

यह दशा आपकी वित्तीय स्थिति पर सकारात्मक प्रभाव डालती है। स्थिति ऊँची हो जाती है और कुल मिलाकर धन भी बढ़ जाता है। ग्रहों का प्रभाव जातक के लिए बहुत नाम और प्रसिद्धि लाता है। ये दोनों ग्रह सर्वोच्च और शक्तिशाली हैं इसलिए पेशेवर प्रयासों में सफलता संभव है। पदोन्नति के अवसर भी मौजूद हैं। जातक शिक्षा और ज्ञान में भी वृद्धि करते हैं। पारिवारिक और रिश्ते के मामलों में भी खुशी बनी रहती है। यदि मेन्फ़िक उपस्थिति है, तो मूल निवासी शरीर में दर्द, बुखार, तंत्रिका संबंधी विकार, सिरदर्द और मन की शांति की कमी से पीड़ित हो सकता है।

 

बृहस्पति की महादशा में चंद्रमा की अंतर्दशा का फल

इस अंतर्दशा के दौरान पार्टनर और बच्चों से आराम मिलता है। चंद्रमा और बृहस्पति के संबंधों का प्रभाव आय की संभावनाओं को बढ़ाता है। देशी डेयरी उत्पादों के लिए एक रूचि विकसित करता है। यह अवधि कैरियर के मोर्चे पर भी प्रगति लाती है। जातक को समाज से बहुत समर्थन मिलता है और भौतिक सुख, विलासिता और जीवन के सुखों का आनंद लेता है। यह मूल निवासी के लिए जीवन का एक सुंदर चरण है। जीवनसाथी और बच्चों के साथ भी संबंध सौहार्दपूर्ण रहते हैं। व्यक्ति आध्यात्मिक यात्राएं भी करता है। यदि पुरुष प्रभाव के तहत, इस अंतर्दशा रिश्तों में दूरी पैदा कर सकता है। धन की हानि और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी संभव हैं।

 

बृहस्पति की महादशा में मंगल की अन्तर्दशा का फल

इस दशा में जातक के ज्ञान और सीखने की क्षमता को बढ़ाता है। जातक भूमि स्रोतों से लाभ कमाते हैं। पारिवारिक मामलों और दांपत्य जीवन में भी बहुत खुशी बनी हुई रहती है। भाई-बहनों के साथ संबंध भी सुधरते हैं। मूल प्रकृति में थोड़ा हावी हो जाता है, हालांकि कुछ विवाद और दूसरों के साथ बहस संभव है। बहरहाल, यह समाज में सम्मान और प्रसिद्धि का आनंद लेने का दौर होता है। यदि पुरुष प्रभाव के तहत, यह अवधि आंखों से संबंधित मुद्दों और बुखार का कारण बनती है। मानसिक शांति का अभाव भी देशी को परेशान रखता है। संपत्ति के मामलों के संबंध में भी समस्याएँ आ सकती हैं। इसके अलावा, धन की हानि भी संभव है।

 

बृहस्पति की महादशा में राहु की अन्तर्दशा का फल

यह दशा जीवन में बहुत सारे भ्रम और समस्याएं लाती है। यह व्यक्ति को अहंकारी और दबंग बनाता है। व्यक्ति अनावश्यक तर्कों और झगड़ों में लिप्त होने लगता है। इसके कारण पारिवारिक रिश्ते भी खराब होते हैं। इस अवधि के दौरान जातक करियर में गिरावट का अवलोकन करता है। बढ़ते खर्च के कारण वित्तीय समस्याएं भी संभव हैं। यह अवधि दवा और इससे संबंधित संक्रमणों से बढ़े हुए भय से भी चिह्नित है। व्यक्ति शारीरिक कष्ट, सिरदर्द और यकृत से संबंधित समस्याओं से भी पीड़ित हो सकता है। इस दशा के दौरान अधिक शांतिपूर्ण जीवन बिताने के लिए,  धार्मिक यात्रा करना चाहिए और पवित्र जल में डुबकी लगानी चाहिए। ध्यान का अभ्यास भी इस संबंध में मदद करता है।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support