राहु महादशा

वैदिक ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह माना जाता है। जिसका परिणाम अधिकतर नकारात्मक ही होता है, परंतु ज्योतिषाचार्यों की माने तो राहु जिस स्थान व ग्रह के साथ बैठता है वह उसके अनुरूप ही फल देता है। यानी की पाप के साथ अशुभ व शुभ के साथ सकारात्मक फल देता है राहु। कई मत है कि यह एक (न्यूट्रल) निष्पक्ष ग्रह है। ऐसे में राहु की महदशा चलना कई मायनों में शुभ व अशुभ परिणाम देने वाला बन जाता है। इसके साथ यदि किसी अन्य ग्रह की अंतर्दशा चलें तो परिणाम उसी के अनुरूप मिलेंगे। तो आइये जानते हैं राहु की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर का क्या परिणाम हो सकता है?

वैदिक ज्योतिष में राहु की महादशा

राहु की महादशा केतु की तरह ही, राहु महादशा 18 वर्ष तक चलती है। राहु एक छाया ग्रह है और इसे नकारात्मक माना जाता है। हालाँकि, इसकी दशा जीवन में सकारात्मक बदलाव भी लाती है। ज्योतिषाचार्य के मुताबिक आत्म-निर्भर होने के लिए ऊर्जा और उत्साह का अनुभव करते हैं, अपने स्वयं के पैरों पर खड़े होते हैं और स्वयं के प्रयासों से एक छवि बनाते हैं। राहु निर्णय लेने की एक नई क्षमता देता है। हालाँकि, यह भ्रम का ग्रह भी है। दशा के दौरान, यह आपकी कल्पना के साथ खेलता है और जीवन के प्रमुख क्षेत्रों जैसे करियर, विवाह और परिवार में बहुत भ्रम पैदा करता है। इस अवधि के दौरान जीवन में एक प्रकार की बेचैनी बनी रहती है। स्वास्थ्य मुद्दे भी पैदा करता है, ज्यादातर अपने कार्यों के परिणामस्वरूप। सकारात्मक स्तर पर, राहु महादशा जातक को अधिकार और शक्ति भी दे सकती है। सरकारी क्षेत्र में लाभ और वृद्धि भी संभव है लेकिन पत्रिका में इसके स्थान पर बहुत कुछ निर्भर करता है। यहाँ राहु महादशा के अंतर्गत विभिन्न ग्रहों के अन्तर्दशा का प्रभाव है।

राहु की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा

यहां हम आपको राहु की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा में जातक पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जो आपके लिए काफी लाभप्रद होगा। तो आइये जानते है राहु की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा क्या परिणाम दे सकती है।

राहु की महादशा में राहु की अन्तर्दशा का फल

यह अंतर्दशा करियर और व्यवसाय में अचानक वृद्धि और मुनाफा देता है। जीवन में खुशी के आने का रास्ता भी बनाता है। इस अवधि के दौरान जातक में आध्यात्मिक गतिविधियों के प्रति झुकाव भी बढ़ता है। इस अवधि में जातक को विदेश जाने का मौका मिल सकता है। इच्छाशक्ति और साहस को भी बढ़ावा मिलता है और आपको विपक्ष को हराने की शक्ति मिलती है। दशा नकारात्मक है, तो यह भ्रम, अभद्रता, धन हानि और करियर में गिरावट का कारण बन सकता है। पारिवारिक मामलों में समस्याएं और जीवन में असफलताएं जातक को दुःख दे सकती है।

राहु की महादशा में बृहस्पति की अन्तर्दशा का फल

 

यह दशा समय स्वास्थ्य के मामलों में थोड़ा सुधार लाता है। बृहस्पति की लाभकारी उपस्थिति के कारण इस अवधि के दौरान जातक को बहुत प्रसिद्धि और स्थिति मिलती है। एक नई ऊर्जा मूल भावना को पराजित करने और प्रयासों में सफल होने के लिए आपकी आत्मा में प्रवेश करती है। ज्योतिष की माने तो करियर में वृद्धि, पदोन्नति और रिश्तों में वृद्धि का कारण बन सकता है। आध्यात्मिक यात्रा करने के लिए भी यह एक अच्छी अवधि है। अगर इस अंर्तदशा के दौरान शादी हो रही है, तो जातक दूसरी जाति के व्यक्ति को चुनता है। विदेशों में रहने वाले लोग भी इस अवधि के दौरान अपनी जन्मभूमि में वापस आ जाते हैं। यदि नकारात्मक है, तो यह दशा कानूनी समस्याओं, जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, धन की हानि, करियर में गिरावट और जीवनसाथी से अलगाव की ओर ले जाती है।

राहु की महादशा में शनि की अंतर्दशा का फल

वैदिक ज्योतिष में इन दोनों ग्रहों को क्रूर माना जाता है इसलिए इस अंतर्दशा के दौरान जीवन में नकारात्मकता और चुनौतियां बनी रहती हैं। इस अवधि के दौरान करियर में बाधाएं भी महसूस की जा सकती हैं। जातक अपनी स्थिति खो सकता है, धन हानि और बदनामी झेल सकता है। यह दशा रिश्तों और स्वास्थ्य के मुद्दों, दिल की समस्या या दुर्घटनाओं का भी योग बनाता है। इस अवधि के दौरान पति-पत्नी के संबंध भी कमजोर हो जाते हैं।

राहु की महादशा में बुध की अंतर्दशा का फल

यह अपेक्षाकृत सकारात्मक अवधि है क्योंकि जातक करियर के मोर्चे पर अच्छा करता है। कार्य के मामले में पदोन्नति और व्यावसायिक मामलों में वृद्धि की संभावना बहुत अधिक है। दाम्पत्य जीवन में खुशियाँ बनी रहती हैं। जातक इस अवधि के दौरान अपने वाहन के आराम का आनंद लेते हैं। यह शिक्षा के साथ-साथ अन्य मामलों के लिए भी एक सकारात्मक दशा है। बुद्धि में सुधार होता है जो जीवन में सही चुनाव करने में मदद करता है। बुध की उपस्थिति मुसीबतों से बाहर आने में मदद करती है। इस अवधि के दौरान स्वास्थ्य और वित्तीय स्थिति में भी सुधार होता है।

राहु की महादशा में केतु की अन्तर्दशा का फल

दोनों ही छाया ग्रह हैं इसलिए इस दशा को ज्योतिष में सकारात्मक नहीं माना जाता है, खासकर मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए। एक स्वास्थ्य जटिलता के निदान के साथ समस्या जातक को परेशान रखती हैं। वित्तीय स्थिति भी इस अवधि के दौरान अस्थितर रहती है। पंडितजी की माने तो ये ग्रह रिश्तों में परेशानी भी पैदा करते हैं। जातक प्रियजनों से अलग होने की भावना का अनुभव करते हैं। इस दशा के दौरान, जातक को आग, जहर, संक्रमण से बचना चाहिए। हथियार से स्वयं को दूर रखना चाहिए। यह अवधि करियर के मामलों में बदनामी और नुकसान भी ला सकती है।

 

राहु की महादशा में शुक्र की अंतर्दशा का फल

शुक्र अंतर्दशा के नकारात्मक प्रभाव को कम करने में मदद करता है। मूल रूप से अंत में बाधाओं और कठिनाइयों से उबरता है। हालाँकि, कुछ चुनौतियाँ अभी भी जीवन में बनी हुई रह सकती हैं। जातक विवाहित जीवन में कुछ सुधार का अनुभव कर सकता है। शुक्र यहाँ जातक को भौतिक सुख-सुविधाओं, वाहन, और विलासिता के सामानों से संपन्न करता है। जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए जातक जीवन में कड़ी मेहनत करता है। इस अवधि के दौरान पदोन्नति भी संभव है।

राहु की महादशा में सूर्य की अंतर्दशा का फल

सूर्य और राहु एक दूसरे के लिए अयोग्य हैं इसलिए कुछ समस्याएं अभी भी इस दशा में बनी रहती हैं। प्रभाव काफी हद तक सूर्य ग्रहण की तरह होता है। करियर में जातक बहुत अधिक तनाव का अनुभव कर सकता है। इस अवधि के दौरान एक स्थानांतरण भी संभव है। इस अवधि में स्वास्थ्य भी खराब होता है और जातक मानसिक स्तर पर अकेला महसूस करता है। हालाँकि कि, ज्योतिषाचार्य का मत है कि यदि आपकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति सकारात्मक है, तो यह दशा जातक के लिए नाम और प्रसिद्धि भी दिलाती है। उसे विदेश यात्रा करने अवसर मिल सकता है। यह व्यक्ति को मजबूत और साहसी भी बनाता है। ऐसे में जातक सफलता पाने के लिए जीवन में जोखिम उठाने लगते हैं। सरकार से समर्थन भी संभव है जो जीवन में महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में मदद करता है। कुल मिलाकर, यह विकास की अवधि है लेकिन कुछ सामयिक बाधाओं के साथ।

राहु की महादशा में चंद्रमा की अन्तर्दशा का फल

चंद्रमा मन और भावनाओं प्रभावित करता है और जब यह राहु द्वारा पीड़ित होता है, तो जातक बेचैनी और चिंता महसूस कर सकता है। इस अवधि के दौरान मानसिक तनाव, भ्रम और अवसाद बने रहते हैं। जातक तर्क और प्रियजनों के साथ संघर्ष करने की प्रवृत्ति विकसित करता है। जब आप सफलता प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, तो आपके रास्ते को अवरुद्ध करने के लिए बहुत सी बाधाएँ उत्पन्न होती हैं। जातक भी पेशेवर मोर्चे पर समर्थन की कमी को देखते हैं। इस दौरान किसी भी बड़े फैसले से बचना चाहिए।

राहु की महादशा में मंगल की अन्तर्दशा का फल

राहु में मंगल की अंतर्दशा भी अधिक सकारात्मक नहीं है क्योंकि यह आपकी आक्रामक प्रवृत्ति को बढ़ाता है। ज्योतिष के अनुसार कानूनी मुद्दों और दुर्घटना की संभावना इस अवधि के दौरान बनी रहती है इसलिए सावधानी बरती जानी चाहिए। यह दशा कई बार धन और स्थिति की हानि भी करता है। पति या पत्नी और परिवार के साथ अक्सर विवादों में रहता है। जब आप इस अवधि के दौरान कड़ी मेहनत करेंगे, तो परिणाम उम्मीद के मुताबिक न मिलने की अधिक संभावना होती है। यह दशा जीवन में एक नकारात्मक अवधि को बढ़ाता है लेकिन आमतौर पर कोई कठोर क्षति नहीं होती है। हालांकि आपको दुर्घटनाओं से सावधान रहना चाहिए।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support