शनि महादशा

वैदिक ज्योतिष में शनि को क्रूर ग्रह माना गया है। इसके साथ ही शनि न्याय व कर्म फलदाता भी हैं। ऐसे में कुंडली में इनकी महादशा व अंतर्दशा का चलना अपने आप में ही महत्वपूर्ण बन जाता है। ज्योतिषाचार्य कहते हैं कि शनि अपने अवधि में अधिक प्रभावि हो जाते हैं। ऐसे में अदर कोई ग्रह उनके साथ अंतर्दशा में चले तो इसका परिणाम बदल जाता है। जिसके बारे में हम इस लेख में बताने जा रहे हैं। इस लेख में हम आपको वैदिक ज्योतिष में शनि की महादशा क्या है?  इस दशा में अन्य ग्रहों के अतंर्दशा का जातक पर कैसा प्रभाव पड़ सकता है? तो आइये जानते हैं शनि महादशा के बारे में -

वैदिक ज्योतिष में शनि की महादशा

शनि की महादशा जीवन में 19 साल तक चलती है। यह वलय ग्रह कर्म, कड़ी मेहनत, सीमाओं, महत्वाकांक्षा, अनुशासन और दीर्घायु से जुड़ा हुआ है। शनि विशेष रूप से श्रमिकों, कर्मचारियों, विकलांगों, वृद्धों, बीमारियों और जोड़ों के दर्द से संबंधित है। आध्यात्मिक यात्रा में अक्सर शनि महादशा का प्रभाव होता है। शनि आपके कर्मों के अनुरूप चुनौतियाँ और परिणाम देता है। यह सफलता देता है लेकिन सफलता की ओर यात्रा सुचारु नहीं है, इसलिए आपको विनम्र और ज़मीनी बने और जो आप प्राप्त करते हैं उसे महत्व दें। स्वाभाविक रूप से, शनि इस प्रकार महादशा के दौरान जीवन में कई बाधाएं खड़ी करता है। यह वह अवधि है जातक विवाद, विलंब, दूरी, टुकड़ी और कभी-कभी इनकार का भी अनुभव करते हैं। इन चुनौतियों को विशेष रूप से करियर और सामाजिक जीवन में महसूस किया जाता है। कुंडली में मजबूत स्थिति वाले जातक के लिए शनि महादशा बहुत सकारात्मक हो सकती है। यह मूल आंतरिक शक्ति, इच्छाशक्ति और चुनौतियों से लड़ने तथा नाम और प्रसिद्धि हासिल करने का साहस भी दे सकता है।

शनि की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा

यहां हम आपको शनि की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा में जातक पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जो आपके लिए काफी लाभप्रद होगा। तो आइये जानते है शनि की महादशा में अन्य ग्रहों की अंतर्दशा क्या परिणाम दे सकती है।

शनि की महादशा में शनि की अंतर्दशा का फल

जन्मकुंडली में एक अप्रभावित शनि आपको दशा के दौरान जीवन में बेहतर स्थिति और स्थिति से प्रभावित करता है। जमीन से जुड़े मामलों में भी लाभ मिलता है। यह अवधि जीवनसाथी और संतान संबंधी मामलों के लिए भी ठीक है। जातक को बहुत अधिक सामाजिक समर्थन भी मिलता है। हालांकि, यदि शनि का नकारात्मक प्रभाव है, तो यह अवधि करियर और पेशेवर जीवन में बहुत बाधाएं हो सकती हैं। परिवार और भाई-बहनों के साथ संबंध में भी समस्याएँ हो सकती हैं। यह अवधि बढ़ी हुई आक्रामकता, ईर्ष्या, विवाद और गैस्ट्रिक मुद्दों के रूप में अच्छी तरह से चिह्नित है।

शनि की महादशा में बुध की अंतर्दशा का फल

दशा में बुध कुछ हद तक कुंडली में शनि के नकारात्मक प्रभाव को संतुलित करता है। जातक समाज में एक बेहतर छवि अर्जित करता है और अच्छी सुख-सुविधाएँ प्राप्त करता है। यह भी व्यापार वृद्धि के लिए एक सकारात्मक चरण है। मूल निवासी अधिक धर्मार्थ, बौद्धिक और बुद्धिमान बन जाता है और सभी चुनौतियों को कुशलता से संभालता है। पेशेवर क्षेत्र में कुछ उपलब्धि इस अवधि के दौरान भी संभव है। ज्योतिष कहते हैं कि जातक भी सामाजिक कार्यों और दान में लिप्त होने के लिए इच्छुक हो सकता है।

शनि की महादशा में केतु की अंतर्दशा का फल

जातक इस दशा के दौरान विदेशी जा सकता है। इस अवधि के दौरान आध्यात्मिक झुकाव को भी बढ़ावा मिलता है। जबकि यह दशा आय बढ़ाता है, 12 वें घर के साथ जुड़ने के कारण खर्च भी बढ़ता है। इस दशा का नकारात्मक प्रभाव जातक को अंदर से कमजोर बनाता है। शांति और असंतोष की कमी जीवन में बनी रहती है और परिवार के भीतर बहुत सारे संघर्ष होते हैं। जातक धर्म और अध्यात्म में अधिक रुचि लेने लगते हैं।

शनि की महादशा में शुक्र की अंतर्दशा का फल

यह दशा मूल रूप से मूल जीवन को वापस ट्रैक पर लाता है और जीवन में एक सकारात्मक दिशा देता है। यदि शनि को सकारात्मक रूप से स्थित है, तो मूल निवासी एक सुखी वैवाहिक जीवन का आनंद लेते हैं और प्रियजनों के साथ बहुत समय बिताते हैं। जातक विलासिता और आराम पर बहुत खर्च करता है। इस दौरान करियर भी बुलंद होता है। हालांकि, नकारात्मक प्रभाव में जातक आंखों से संबंधित मुद्दों और अक्सर बुखार से पीड़ित होता है। यह विवाहित जीवन को भी प्रभावित करता है और जीवनसाथी से अलगाव का कारण बनता है।

शनि की महादशा में सूर्य की अन्तर्दशा का फल

यह बहुत सकारात्मक अवधि नहीं है क्योंकि व्यावसायिक जीवन में कुछ बाधाएं सफलता को रोकती हैं। जातक भी पिता के साथ संघर्ष का अनुभव करता है। अधिकार के साथ कुछ समस्याएं भी इस अवधि के दौरान बनी रहती हैं। परिवार के झूठे आरोपों के लिए जातक कमजोर हो जाता है। दुश्मन जातक को परेशान करने की कोशिश भी करते रहते हैं। यह दशा स्वास्थ्य पर भी भारी पड़ता है और कुछ मानसिक कष्टों से जातक परेशान करता रहता है। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं जैसे बुखार, सिर दर्द और दिल से जुड़ी समस्याएं भी इस अवधि के दौरान परेशान करती हैं।

शनि की महादशा में चंद्रमा की अंतर्दशा का फल

यह दशा जातक के जीवन पर कुछ नकारात्मक प्रभाव डालता है। जातक को इस अवधि के दौरान बेचैनी और तनाव की भावना का अनुभव होता है। जातक अवसाद और मानसिक तनाव से ग्रस्त हो सकता है, इसका मुख्य कारण रिश्तों में बढ़ती दूरी और करियर में समस्याएं हो सकती हैं। जातक कमजोर दिमाग वाला और अकेला महसूस कर सकता है। इस दौरान दुश्मनों की संख्या भी बढ़ जाती है। कुछ वित्तीय उतार-चढ़ाव भी बने रहते हैं। जातक को जीवन में शांति पाने के लिए आध्यात्मिक गतिविधियों के लिए अपनी ऊर्जा को प्रसारित करना चाहिए।

शनि की महादशा में मंगल की अन्तर्दशा का फल

ज्योतिष के अनुसार मंगल आक्रामकता और मूल में अधिकार और वर्चस्व की भावना को बढ़ाता है। यह स्वाभाविक रूप से कुछ हद तक रिश्तों को प्रभावित करता है। इस अवधि के दौरान अत्यधिक कठोर और गुस्सा होने से बचने की सलाह दी जाती है। यह दशा जीवन साथी के साथ टकराव और अलगाव का कारण बनता है। कुछ त्वचा संबंधी एलर्जी भी जातक के लिए बनी रहती है। शत्रुओं को भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा, करियर में कुछ नुकसान भी जीवन में लक्ष्यों की ओर ओर बढ़ने में बाधा बनती हैं। यदि आप किसी नए कार्यस्थल या नौकरी में शामिल होते हैं, तो आपको इस दशा के दौरान सतर्क रहना चाहिए।

शनि की महादशा में राहु की अन्तर्दशा का फल

इस दौरान कुछ अनावश्यक संघर्ष होते हैं। संदेह और बाधाएं जातक को सफलता की ओर ले जाने वाले रास्ते पर चलने से रोकती हैं। इस अवधि के दौरान जातकों को वास्तव में कड़ी मेहनत करनी पड़ती है इसलिए स्वाभाविक रूप से कुछ मानसिक संकट और तनाव भी जीवन में प्रबल होते हैं। दूसरों का इतना समर्थन नहीं मिलता है इसलिए यह आत्मनिर्भर होने का समय है। करियर और स्थिति में कुछ गिरावट भी देखी जा सकती है। आपको दुश्मनों के साथ आक्रामक होने से बचना चाहिए। एक सकारात्मक नोट पर, जातक अक्सर इस दशा के दौरान भी विदेश यात्रा पर जा सकते हैं।

शनि की महादशा में बृहस्पति की अंतर्दशा का फल

बृहस्पति एक लाभकारी ग्रह है और शनि की तरह, यह भी दृढ़ता से ज्ञान और आध्यात्मिकता के साथ जुड़ा हुआ है। यहाँ बृहस्पति शनि के नकारात्मक प्रभाव को कम करता है। इस अवधि में दुश्मनों से लड़ने के लिए जातक बहुत इच्छाशक्ति, बुद्धि और साहस हासिल करते हैं। पंडितजी के मुताबिक बृहस्पति की लाभकारी उपस्थिति के परिणामस्वरूप ज्ञान और शिक्षा को भी अच्छा बढ़ावा मिलता है। आपके पारिवारिक जीवन में ख़ुशियाँ भी लौट आती हैं। करियर भी अंततः सही रास्ते पर आने लगता है। जातक महसूस करता है कि मानसिक दबाव आखिरकार अब दूर हो रहा है। इस अवधि को एक बढ़ी हुई रुचि और आध्यात्मिक खोज में भागीदारी द्वारा भी चिह्नित किया जाता है। कुल मिलाकर, यह राहत का दौर है।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support