विनायक चतुर्थी 2021

bell icon Mon, Jan 18, 2021
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Vinayak Chaturthi 2021- विनायक चतुर्थी व्रत पूजा तिथि व मुहूर्त 2021

इस व्रत का भी उतना ही महत्व है जितना की हिंदू धर्म के अन्य व्रतों का है। यह व्रत भगवान गणेश को समर्पित है। इस तिथि को गणेश जी का जन्मदिन माना जाता है। गणेश चतुर्थी के अलावा हर महीने में पड़ने वाले प्रत्येक चतुर्थी का अपना ही एक महत्व है। इस लेख में हम चतुर्थी व्रत क्या है, व्रत का महत्व क्या है, व्रथ कथा और व्रत की पूजा विधि क्या है, इस वर्ष यह व्रत किस दिन पड़ रहा है इस बारे में जानेंगे।

 

राशिनुसार  पूजा विधि जानने के लिए बात करें, देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

 

विनायक चतुर्थी व्रत क्या है?

हिंदू पंचांग के प्रत्येक चंद्र माह में दो चतुर्थियां पड़ती हैं। हिंदू धर्मग्रंथों के अनुसार चतुर्थी भगवान गणेश की तिथि है। शुक्ल पक्ष के दौरान अमावस्या या अमावस्या के बाद की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के रूप में जाना जाता है और कृष्ण पक्ष के दौरान पूर्णिमा या पूर्णिमा के बाद पड़ने वाले चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी के रूप में जाना जाता है।  वैसे तो विनायक चतुर्थी का व्रत हर महीने किया जाता है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण विनायक चतुर्थी भाद्रपद के महीने में पड़ने वाले को माना जाता है। भाद्रपद माह के विनायक चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के रूप में जाना जाता है। गणेश चतुर्थी पूरे विश्व में हिंदुओं द्वारा भगवान गणेश के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। खासकर महाराष्ट्रा में इस पर्व को बड़े ही भव्य रूप में मनाया जाता है।

 

विनायक चतुर्थी व्रत का महत्व

विनायक चतुर्थी को वरद विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। वरद का अर्थ है भगवान से किसी भी इच्छा को पूरा करने के लिए कहना। जो लोग इस व्रत का पालन करते हैं, उन्हें भगवान गणेश ज्ञान व धैर्य का आशीर्वाद देते हैं। बुद्धि व धैर्य दो ऐसे गुण हैं जिनका महत्व मानव को युगों से ज्ञात है। जो कोई भी इन गुणों को अपने पास रखता है, वह जीवन में प्रगति करता है और जो कुछ भी चाहता है वह उसे प्राप्त करने में सफल होता है।

 

चतुर्थी व्रत कथा

गणेश चतुर्थी के संबंध में एक कथा जग प्रसिद्ध है। कथा के अनुसार एक बार माता पार्वती के मन में ख्याल आता है कि उनका कोई पुत्र नहीं है। ऐसे में वे अपने मैल से एक बालक की मूर्ति बनाकर उसमें जीव भरती हैं। इसके बाद वे कंदरा में स्थित कुंड में स्नान करने के लिए चली जाती हैं। परंतु जाने से पहले माता बालक को आदेश देती हैं कि किसी परिस्थिति में किसी को भी कंदरा में प्रवेश न करने देना। बालक अपनी माता के आदेश का पालन करने के लिए कंदरा के द्वार पर पहरा देने लगता है। कुछ समय बीत जाने के बाद वहां भगवान शिव पहुंचते हैं। शिव जैसे ही कंदरा के भीतर जाने के लिए आगे बढ़ते हैं बालक उन्हें रोक देता है। शिव बालक को समझाने का प्रयास करते हैं लेकिन वह उनकी एक न सुना, जिससे क्रोधित हो कर भगवान शिव अपनी त्रिशूल से बालक का शीश धड़ से अलग कर देते हैं।

 

आज का पंचांग ➔  आज की तिथिआज का चौघड़िया  ➔ आज का राहु काल  ➔ आज का शुभ योगआज के शुभ होरा मुहूर्त  ➔ आज का नक्षत्रआज के करण

 

इस अनिष्ट घटना का आभास माता पार्वती को हो जाता है। वे स्नान कर कंदरा से बाहर आती हैं और देखती है कि उनका पुत्र धरती पर प्राण हीन पड़ा है और उसका शीश कटा है। यह दृष्य देख माता क्रोधित हो जाती हैं जिसे देख सभी देवी-देवता भयभीत हो जाते हैं। तब भगवान शिव गणों को आदेश देते हैं कि ऐसे बालक का शीश ले आओ जिसकी माता का पीठ उस बालक की ओर हो। गण एक हथनी के बालक का शीश लेकर आते हैं शिव गज के शीश को बाल के धड़ जोड़कर उसे जीवित करते हैं। इसके बाद माता पार्वती शिव से कहती हैं कि यह शीश गज का है जिसके कारण सब मेरे पुत्र का उपहास करेंगे। तब भगवान शिव बालक को वरदान देते हैं कि आज से संसार इन्हें गणपति के नाम से जानेगा। इसके साथ ही सभी देव भी उन्हें वरदान देते हैं कि कोई भी मांगलिक कार्य करने से पूर्व गणेश की पूजा करना अनिवार्य होगा। यदि ऐसा कोई नहीं करता है तो उसे उसके अनुष्ठान का फल नहीं मिलेगा।

 

विनायक चतुर्थी व्रत पूजा विधि

  • साधक सूर्योदय से पूर्व उठकर शुद्ध हो जाएं।
  • इसके बाद घर अथवा मंदिर में गणेश जी की पूजा करने के लिए स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  • पूजन आरंभ करते हुए साधक गणेश मंत्र का उच्चारण कर गणेश जी का आहवाहन कर लें।
  • फिर पुष्प, दूब, चंदन, दही, मिष्ठान, फल तथा पान का पत्ता चढ़ाएं।
  • धूप-दीप जालाकर गणेश कथा का पाठ करें।
  • पाठ हो जाने के बाद आरती कर प्रसाद सभी में बांट दें।
  • सायं को फिर स्नान कर विधिवत गणेश जी की पूजा करें और प्रसाद बांटें और फलाहार कर अगले दीन व्रत को खोलें।

 

विनायक चतुर्थी व्रत पूजा तिथि व मुहूर्त 2021

विनायक चतुर्थी पर गणेश पूजा हिंदू कैलेंडर के अनुसार दोपहर में की जाती है। जो इस प्रकार है -

विनायक चतुर्थी - तिथि - जनवरी 16, 2021, दिन -  शनिवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:28 बजे से दोपहर 13:34 बजे तक

विनायक चतुर्थी (गणेश जयन्ती) – तिथि - फरवरी 15, 2021, दिन -  सोमवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:28 बजे से दोपहर 13:43 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - मार्च 17, 2021, दिन – बुधवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:17 बजे से दोपहर 13:42 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - अप्रैल 16, 2021, दिन -  शुक्रवार- मुहूर्त समय – प्रातः 11:04 बजे से दोपहर 13:38 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - मई 15, 2021, दिन – शनिवार – मुहूर्त समय – प्रातः 10:56 बजे से दोपहर 13:39 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - जून 14, 2021, दिन – सोमवार – मुहूर्त समय – प्रातः 10:58 बजे से दोपहर 13:45 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - जुलाई 13, 2021, दिन – मंगलवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:04 बजे से दोपहर 13:50 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - अगस्त 12, 2021, दिन – बृहस्पतिवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:06 बजे से दोपहर 13:45 बजे तक

विनायक चतुर्थी (गणेश चतुर्थी) – तिथि - सितम्बर 10, 2021, दिन – शुक्रवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:03 बजे से दोपहर 13:33 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - अक्टूबर 9, 2021, दिन – शनिवार – मुहूर्त समय – प्रातः 10:58 बजे से दोपहर 13:18 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - नवम्बर 8, 2021, दिन – सोमवार – मुहूर्त समय – प्रातः 10:59 बजे से दोपहर 13:10 बजे तक

विनायक चतुर्थी – तिथि - दिसम्बर 7, 2021, दिन – मंगलवार – मुहूर्त समय – प्रातः 11:10 बजे से दोपहर 13:15 बजे तक

 

यह भी पढ़ें - 

गणेश चतुर्थी 2021 । श्री गणेशजी की आरती । आरती गजबदन विनायक ।  श्री गणेश चालीसा

chat Support Chat now for Support
chat Support Support