क्या है दीपावली का पौराणिक इतिहास

दीपावली रोशनी का त्योहार हैं। जगमगाते दीपो के बीच माँ लक्ष्मी की प्रतिमा और माँ की पूजा करते आशीर्वाद के प्रार्थी भक्त, कुछ ऐसा समा होता है, दीपावली के त्योहार का। इस दिन लक्ष्मी, गणेश और धन के राजा कुबेर की पूजा होती हैं, और भक्त लोग ईश्वर से धन-धान्य से सम्पन्न होने की प्रार्थना करते हैं।

 

दीपावली के देवी-देवता

 

धन की देवी, लक्ष्मी

धन, सुख-समृद्धि, विलासिता, रोशनी और सम्पन्नता की देवी लक्ष्मी, प्रभु विष्णु की अर्धांगिनी है। पुराणो के अनुसार दया की देवी लक्ष्मी त्रेता युग में सीता का अवतार लेकर श्री राम की संगिनी बनी और दवापर युग मे राधा और रुकमणि का रुप धारण कर श्री कृष्ण की धर्मपत्नी बनी। देवी लक्ष्मी अपने रुप, सौंदर्य और आकर्षण के लिए भी प्रख्यात हैं। महा लक्ष्मी अपने भक्तो को कभी निराश नही करती, और उनकी मुरादे पूरी कर उन्हे धन और समृद्धि से भरपूर करती हैं। वेदों मे लक्ष्मी को “लक्ष्यविधि लक्षमिहि” के नाम से संबोधित किया गया हैं, जिसका अर्थ होता हैं, जो लक्ष्य प्राप्ति मे मदद करें।

 

गणपति देव

हिन्दुओ द्वारा सबसे ज़्यादा पूजे जाने वाले भगवानों मे सबसे प्रमुख हैं, गणेश भगवान। जिन्हे, गणपति, विनायक, लंबोदर आदि नामों से जाना और पूजा जाता हैं। सिर्फ भारत देश मे ही नही, गणेश जी की प्रतिमा की पूजा विश्व के दुसरे भागों मे भी की जाती हैं। गणेश जी का हाथी का सिर परेशानियों को दूर करता हैं, इसलिए उन्हे विघ्नहर्ता भी कहा जाता हैं। हिन्दु धर्म में कोई भी रस्म या विधि बिना गणेश जी पूजा किए संपन्न नही मानी जाती हैं। गणेश हर समारोह को शुभ बना देते हैं।


धन के राजा कुबेर 

धन के राजा कुबेर को हिन्दु धर्म में प्रमुख यक्षों मे से एक माना जाता हैं, उन्हे उत्तर दिशा (दिक-पाला) का स्वामी माना जाता हैं, कई मान्यताओ के अनुसार कुबेर को धरती का रक्षक (लोकपाला) के नाम से भी जाना जाता हैं। कुबेर को इस पूरे विश्व की धन-दौलत और सम्पत्ति का स्वामी माना जाता हैं। वेदों और पुराणों में कुबेर को बुरी शक्तियों का स्वामी माना जाता हैं।

 

दीवाली और पौराणिक कथाएं

 

दीपावली रोशनी का त्योहार है। पूरे भारत मे इसे बडे धूम-धाम से मनाया जाता है। दीयो की जगमगाहट के बीच हर कोई ईश्वर से सुख-समृद्धि की प्रार्थना करता है। पटाखो की आवाज़, मोम्बत्ती का प्रकाश, यह सब दीवाली की शान है। दीवाली हिन्दुओ का प्रमुख त्योहार है। यह पर्व अक्तूबर और नवम्बर मे मनाया जाता है। भारत के लोगो के लिए दीवाली के दिन से ही नया साल शुरु हो जाता है। अब यह पर्व भारत मे न सिमटकर पूरी दुनिया मे बडे़ अत्साह के साथ मनाया जाता है।

 

राम की अयोध्या वापसी:                              

रामायण की कथा के अनुसार, भगवान श्री राम, रावण को युद्ध मे पराजित कर सीता और लक्ष्मण सहित अयोध्या लौटे थे। चौदह साल का वनवास भोगने के बाद जब श्री राम अयोध्या वापस आए थे तो, अयोध्या के लोगो ने अपने राजा के स्वागत के लिए घी के दिए जलाए थे। पटाखे जला कर, नाच-गा कर लोगो ने अपनी खुथियां व्यक्त करी थी। उस दिन से लेकर आज तक हर साल यह दीवाली के नाम से मनता आ रहा है। और आज भी इस त्योहार को रोशनी का प्रतीक मानते है।


कृष्ण द्वारा नरकासुर का वध :                                   

एक दुसरी कथा के अनुसार भगवान कृष्ण ने इस दिन दानव नरकासुर का वध किया था। उनकी जीत की खुशियां मनाने के लिए गोकुल के लोगो ने दीए जलाए। हिन्दू धर्म के लोगो के लिए राम और कृष्ण दोनो ही प्रमुख भगवान है तो इस कारण दीवाली भी हिन्दु धर्म मे बहुत खास महत्व रखती है।  

मां लक्ष्मी की विशेष कृपा पाने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से लक्ष्मी पूजन की विधि व सरल ज्योतिषीय उपाय जानें।

संबंधित लेख

धनतेरस पर पाना है धन तो करें ये जतन   |   इस दिवाली कौनसे रंगों से बढ़ेगी घर की शोभा   |   दिवाली पर यह पकवान न खाया तो क्या त्यौहार मनाया   |   

 दिवाली पूजा मंत्र   |  दीपावली –  पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र   । धनतेरस 2019 – धनतेरस पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

नरक चतुर्दशी - क्यों कहते हैं छोटी दिवाली को नरक रूप या यम चतुदर्शी   |   दिवाली की खरीददारी में दिखाएं समझदारी   |    दिवाली 2019   |   

गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜