कार्तिक मास 2019 - पवित्र नदी में स्नान औऱ दीपदान का महीना

हिंदू पंचांग के अनुसार साल के 8वें महीने को कार्तिक मास कहा जाता है। ये आश्विन के बाद और अगहन महीने से पहले आता है। हिंदू कैलेंडर में हर महीने का अपना ही एक अलग महत्व है। कहा जाता है कि कार्तिक माह में ही भगवान विष्णु चार महीने की निद्रा से जागते हैं। ज्योतिष के अनुसार कार्तिक का महीना पवित्र नदी में स्नान और दीपदान का माह माना जाता है। वहीं इस बार 14 अक्टूबर से 12 नवंबर तक कार्तिक मास रहेगा। इस माह को भगवान शिव, विष्णु, कार्तिकेय औऱ तुलसी की पूजा के लिए शुभ माना जाता है। इस महीने में ही सूर्य कन्या से तुला राशि में गोचर करेंगे इस वजह से आपको सूर्य की विशेष पूजा-अर्चना का विधान है। इस महीने में करवाचौथ, रमा एकादशी, दिवाली और देवउठनी एकादशी मनाई जाती है। 

 

कार्तिक माह में कुंडली और ग्रहों की चाल के अनुसार किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। इसकी विस्तृत जानकारी के लिए आप भारत के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

कार्तिक माह के कुछ विशेष व्रत और पर्व

 

करवाचौथ

पति की दीर्घायु के लिए सुहागिनों द्वारा रखा जाने वाला निर्जला व्रत करवा चौथ इस बार 17 अक्टूबर को मनाया जाएगा। करवाचौथ व्रत हिंदू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन मनाया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक बिना पानी के उपवास रखती हैं। 

 

रमा एकादशी

कार्तिक माह में पड़ने वाली हर एकादशी का अपना ही एक महत्व है। इस बार रमा एकादशी 24 अक्टूबर को मनाई जा रही है। इस दिन भगवान विष्णु के पूर्णावतार भगवान श्री कृष्ण की विधिवत धूप, दीप, नैवेद्य, पुष्प एवं फलों से पूजा की जाती है। इस दिन तुलसी पूजन करना भी शुभ माना जाता है।

 

धनतेरस

धनतेरस से ही 5 दिवसीय दीपोत्सव का त्योहार शुरु हो जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। इस दिन धन्वन्तरि का जन्म हुआ था। इसके अलावा धन के देवता कुबेर और मृत्युदेव यमराज की पूजा-अर्चना का विशेष महत्व है। इस बार धनतेरस का पर्व 25 अक्टूबर को मनाया जा रहा है। 

 

नरक चतुर्दशी

नरक चतुर्दशी को ही छोटी दीपावली के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक नरक चतुर्दशी का पर्व हर साल कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाने का विधान है। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध किया था और 16 हजार 1 सौ कन्याओं को आजाद करवाया था। इस बार नरक चतुर्दशी का त्योहार 26 अक्टूबर को मनाया जाएगा। 

 

दीपावली

दीपों का पर्व दिवाली इस बार 27 अक्टूबर को मनाई जा रही है। इस दिन भगवान राम रावण का वध करके और 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या वापस आए थे जिसकी खुशी में अयोध्यावासियों ने पूरे राज्य को दीपों से जगमगा दिया था। दिवाली की शाम को गणेश लक्ष्मी की पूजा का विधान है। हर साल कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को ही दिवाली का पावन पर्व मनाया जाता है। 

 

गोवर्धन पूजा 

दिवाली के दूसरे दिन यानि कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा मनाई जाती है। इस दिन अन्नकूट पूजा का भी अपना महत्व है। इस साल 28 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा मनाई जाएगी। गोवर्धन पूजा के लिए घर के द्वार पर गोबर से गोवर्धन पर्वत के प्रतीक रूप को निर्मित करते हैं। महाराष्ट्र में इस दिन को विष्णु अवतार वामन की राजा महाबलि पर विजय के रूप में भी मनाया जाता है। वहीं गुजरात में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गुजराती नववर्ष के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। 

 

भाई दूज

प्रकाश पर्व यानि दिवाली के 2 दिन बाद भाई-बहन के प्रेम-स्नेह का पर्व भैया दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन यमलोक के राजा यमदेवता और उनकी बहन यमुना जी की पूजा का विधान है। इस साल भाई दूज का पर्व 29 अक्टूबर 2019 को मनाया जाएगा। 

 

छठ पर्व

दिवाली के 6 दिन बाद शुभ मुहूर्त नहाय, खाय और खरना, साझं औऱ भोर के अर्घ्य का पर्व छठ है। इस बार छठ पर्व 2 नवंबर को मनाई जाएगी। हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल कार्तिक शुक्ल षष्ठी तिथि को यह पर्व मनाया जाता है। वैसे तो यह पर्व बिहार में काफी प्रचलित है लेकिन अब इस पूरे उत्तर भारत में भी मनाया जाता है। इस मुख्य पर्व पर सूर्यदेव की उपासना की जाती है।  

 

अक्षय नवमी

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक मास की नवमी को आंवला नवमी कहते हैं। इस दिन भगवान विष्णु के पूजन का भी विधान है। इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे पूर्व दिशा में बैठकर पूजन करके और खीर, पूड़ी, सब्जी और मिष्ठान खाने का प्रावधान है। 

 

देवउठनी एकादशी

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को शुभ माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु 4 मास की निद्रा के बाद जागते हैं तो उस दिन से मांगलिक कर्म शुरू हो जाते हैं। इस बार 8 नवंबर को देवउठनी एकादशी का पर्व मनाया जाएगा। इस दिन तुलसी विवाह का भी महत्व है। 

 

कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिक पूर्णिमा को गंगा स्नान, त्रिपुरी पूर्णिमा आदि कई नामों से जाना जाता है। कार्तिक माह को पवित्र नदी में स्नान और दीपदान के लिये भी जाना जाता है। इस बार पूर्णिमा तिथि 12 नवंबर को मनायी जा रही है। 

संबंधित लेख

करवा चौथ व्रत - पति की लंबी उम्र के लिए एक व्रत । रमा एकादशी 2019 । धनतेरस 2019  ।  नरक चतुर्दशी 2019 

करवा चौथ व्रत कथा पूजा विधि, चंद्रोदय समय

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜