2022 में कौन सा समय एवं तिथि है शुभ मुंडन संस्कार के लिए? जानें

bell icon Tue, May 17, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Mundan Muhurat 2022: मुंडन के लिए कौनसी तिथियां है शुभ, जानिए।

भारतीय परंपरा में मुंडन संस्कार को अत्यंत महत्वपूर्ण माना गया है। यदि आप 2022 में अपने शिशु का मुंडन कराना चाहते है तो एस्ट्रोयोगी के मुंडन संस्कार मुहूर्त 2022 से शुभ तिथि जानने के लिए, पढ़ें।

सनातन धर्म में किसी मनुष्य के पूरे जीवनकाल में 16 संस्कारों को सम्पन्न किया जाता है। इन्ही सोलह संस्कारों जैसे विवाह, नामकरण, अन्नप्राशन आदि में से एक संस्कार होता है मुंडन संस्कार। यह सोलह संस्कारों में से आठवां संस्कार है और हिन्दू धर्म में मुंडन संस्कार का विशेष महत्व है। मुंडन की परंपरा पुरातनकाल से चली आ रही है। नवजात शिशु का मुंडन संस्कार कराने के पीछे धार्मिक कारण होने के साथ-साथ वैज्ञानिक कारण भी माना गया है। इस विशेष संस्कार को बालपन में ही संपन्न किया जाता है और हर बच्चे के लिए अनिवार्य होता है। सभी सोलह संस्कारों के क्रम और महत्व में शिशु के मुंडन संस्कार को एक आवश्यक संस्कार माना जाता है जिसे प्रत्येक व्यक्ति को करना चाहिए। मुंडन संस्कार से सम्बंधित किसी भी जानकारी के लिए एस्ट्रोयोगी पर देश के शीर्ष ज्योतिषियों से संपर्क करें!

क्या होता है मुंडन संस्कार?

भारतीय परंपरा में मुंडन संस्कार को महत्वपूर्ण माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, 84 लाख योनियों के बाद मानव जीवन की प्राप्ति होती है। माता के गर्भ से नवजात शिशु के जन्म लेने के बाद शिशु के सिर के बाल उतारने को मुंडन संस्कार के नाम से जाना जाता है। सामान्यतौर पर, शिशु के जन्म लेने के बाद पहली बार बाल उतारे जाते है। मुंडन संस्कार को चौल कर्म भी कहा जाता है। 

कब करें मुंडन संस्कार?

जब सूर्य ग्रह मेष, वृषभ, मिथुन, मकर और कुंभ राशि में हो, तब मुंडन संस्कार को सम्पन्न करना शुभ माना जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार, बालकों का मुंडन संस्कार सदैव तीसरे, पांचवे और सातवें आदि विषम वर्षों में करना चाहिए। इसके विपरीत, कन्याओं का चौल कर्म अर्थात मुण्डन संस्कार दूसरे, चौथे आदि सम वर्षों में करना चाहिए। किसी विशेष परंपरा के अनुसार, शिशु का मुंडन 1 वर्ष की आयु में भी करने का विधान है।

मुंडन संस्कार का धार्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व

  • पौराणिक ग्रंथों के अनुसार, पूर्व जन्मों के समस्त ऋणों को उतारने और पिछले जन्मों के सभी पाप कर्मों से मुक्ति के उद्देश्य से शिशु के जन्मकालीन बाल को काटा जाता हैं और इस पूरी प्रक्रिया को मुंडन कहा जाता है। 
  • धार्मिक मान्यताओं के अतिरिक्त वैज्ञानिक दृष्टि के मुताबिक, जब शिशु माता के गर्भ में होता है तो उसके सिर के बालों में अनेक प्रकार के हानिकारक कीटाणु और बैक्टीरिया लग जाते हैं जो शिशु के जन्म के उपरांत बाल धोने से भी नहीं निकलते हैं। यही कारण है कि शिशु के जन्मे लेने के एक वर्ष के भीतर मुंडन अवश्य कराना चाहिए।

मुंडन संस्कार से होने वाले लाभ

  • यजुर्वेद में मुंडन संस्कार के बारे में कहा गया है कि, मुंडन संस्कार आयु, आरोग्य तेज, बल की वृद्धि और गर्भावस्था की अशुद्धियों को दूर करने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण संस्कार है।
  • मुंडन संस्कार सम्पन्न करने से बच्चों को दांत निकालते समय अधिक दर्द या परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।
  • मुंडन संस्कार द्वारा बच्चों के शरीर का तापमान सामान्य रहता है। ऐसा करने से उनका मस्तिष्क ठंडा रहता है और बच्चों को शारीरिक एवं स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न नहीं होती हैं।
  • जन्मकालीन केश के उतारने के पश्चात सिर पर धूप पड़ने से बच्चे को विटामिन डी की प्राप्ति होती है जिससे कोशिकाओं में रक्त का प्रवाह सुगमता से होता है।   

आज का पंचांग   |  आज का शुभ मुहूर्त  |  आज का  राहुकाल   |  आज का चौघड़िया । वार्षिक राशिफल 20222

मुंडन मुहूर्त के चयन के समय ध्यान रखने योग्य नियम

  • पंचांग के अनुसार, चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ माह में बड़े बच्चे का मुंडन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा, इन माह में जन्म लेने वाले बच्चे का मुंडन करने से बचें।
  • मुंडन को आषाढ़ माह की एकादशी से पहले कर सकते है, साथ ही माघ एवं फाल्गुन माह में बच्चों का मुण्डन संस्कार करें।
  • मुंडन संस्कार के लिए द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी, एकादशी और त्रयोदशी तिथि को शुभ माना जाता है।
  • सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार का दिन मुंडन के लिए शुभ माना गया हैं, लेकिन कन्याओं को मुंडन शुक्रवार के दिन नहीं करना चाहिए।
  • मुंडन संस्कार के लिए अश्विनी, मृगशिरा, पुष्य, हस्त, पुनर्वसु, चित्रा, स्वाति, ज्येष्ठ, श्रवण, धनिष्ठा और शतभिषा नक्षत्रों को शुभ माना जाता हैं।
  • मान्यताओं के अनुसार,जन्म माह व जन्म नक्षत्र और चंद्रमा के चतुर्थ, अष्टम, द्वादश और शत्रु भाव में स्थित होने पर मुंडन संस्कार करना वर्जित है। 

कैसे करें मुंडन संस्कार?

  • सर्वप्रथम शिशु या बालक को गोद में लेने के बाद उसके मुख को हवन की अग्नि के पश्चिम दिशा की तरफ किया जाता है। पहले केश पंडित और उसके बाद नाई द्वारा काटे जाते हैं।
  • इस अवसर पर गणेश पूजा, हवन आदि को पंडित जी द्वारा संपन्न कराया जाता है। मुंडन समारोह के अंत में आरती की जाती है और फिर नाई एवं पंडित को भोजन कराने के बाद दानदक्षिणा देकर विदा किया जाता है।

कहाँ करें मुंडन संस्कार?

  • मुंडन संस्कार को अधिकतर उत्तर भारत में गंगा किनारे, दुर्गा मंदिरों के आँगन में और दक्षिण भारत के तिरुपति बालाजी मंदिर में संपन्न करना शुभ होता है।
  • मुंडन होने के बाद केशों को जल में प्रवाहित कर दिया जाता है, लेकिन कहीं-कहीं केश को विसर्जित करने की भी परंपरा होती है।

यदि आप अपने बच्चे के लिए मुंडन की शुभ तिथियां एवं मुहूर्त की तलाश कर रहे है, तो हम आपको 2022 की मुंडन संस्कार की तिथियां व मुहूर्त प्रदान कर रहे है। 

मुंडन संस्कार मुंडन मई 2022

  • तिथि:13 मई,शुक्रवार, मुहूर्त:18:49 बजे से 29:31 बजे तक
  • तिथि: 27 मई,शुक्रवार,मुहूर्त: 11:49 बजे से 26:26, बजे तक

मुंडन संस्कार मुहूर्त जून 2022

  • तिथि: 01 जून,बुधवार, मुहूर्त: 05:24 बजे से 13:00 बजे तक
  • तिथि: 02 जून, गुरुवार, मुहूर्त: 16:04 बजे से 20:06 बजे तक
  • तिथि:10 जून,शुक्रवार, मुहूर्त: 05:23 बजे से 18:42 बजे तक
  • तिथि: 23 जून,गुरुवार, मुहूर्त: 06:14 बजे से 29:24 बजे तक
  • तिथि:30 जून,गुरुवार, मुहूर्त:10:50 बजे से 29:26 बजे तक

मुंडन संस्कार मुहूर्त जुलाई 2022

  • तिथि:1 जुलाई,शुक्रवार, मुहूर्त:05:26 बजे से 27:56 बजे तक
  • तिथि:8 जुलाई,शुक्रवार, मुहूर्त:18:26 बजे से 29:29 बजे तक

नोट: अगस्त से लेकर दिसंबर तक मुंडन संस्कार का कोई शुभ मुहूर्त एवं तिथि उपलब्ध नहीं है। 

अगर आप भी साल 2022 में अपने शिशु का मुंडन संस्कार करना चाहते है तो एस्ट्रोयोगी के मुंडन संस्कार मुहूर्त 2022 से तिथि एवं मुहूर्त का चयन कर सकते है। 

✍️ By- Team Astroyogi

विवाह मुहूर्त 2022 | गृह प्रवेश मुहूर्त 2022 | अन्नप्राशन मुहूर्त 2022 | नामकरण मुहूर्त 2022

chat Support Chat now for Support
chat Support Support