जनवरी माह में शुभ मुहूर्त और प्रमुख तीज-त्योहार

04 जनवरी 2021

हिंदू धर्म में किसी भी कार्य को करने के लिए शुभ मुहूर्त की आवश्यकता होती है। कार्य के सफलतापूर्वक होने और शुभ परिणाम के लिए शुभ मुहूर्त पर ही कार्य की शुरुआत की जाती है। फिर चाहे वो शादी हो, व्यापार शुरू करना हो, गाड़ी खरीदनी हो इत्यादि के लिए हम ज्योतिषाचार्य  से एक शुभ मुहूर्त निकलवाते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार मुहूर्त तिथि, नक्षत्र, चंद्रमा की स्थिति और ग्रहों की स्थिति के आधार पर निकाला जाता है। तो चलिए हम आपको इस लेख में जनवरी माह में पड़ने वाले शुभ मुहूर्त के बारे में विस्तार पूर्वक बताते हैं।

 

शुभ विवाह मुहूर्त

हिंदू धर्म के 16 संस्कारों में पन्द्रहवां संस्कार है विवाह संस्कार। इसलिए विवाह के लिए भी शुभ मुहूर्त का महत्व होता है। वहीं वर्ष 2021 के जनवरी माह में केवल 1 विवाह का शुभ मुहूर्त है, क्योंकि हिंदू पंचांग के मुताबिक जनवरी के शुरुआत में मासान्त दोष और खरमास रहेगा, जिसे हिंदू शादियों के लिए अशुभ माना जाता है। वहीं खरमास के बाद गुरु, शुक्र के अस्त होने से विवाह जैसे शुभ कार्य रुके रहेंगे। इसके बाद 22 अप्रैल 2021 को विवाह समारोह की शुरुआत होगी। इसलिए किसी व्यक्ति के विवाह के लिए सबसे अच्छी और शुभ तिथि और समय का निर्धारण किसी अनुभवी ज्योतिषी के परामर्श के बाद किया जाना चाहिए; ऐसा इसलिए है, क्योंकि विवाह के लिए सबसे उपयुक्त और शुभ तिथि और समय, दूल्हा और दुल्हन की जन्म कुंडली और विवाह के स्थान पर भी निर्भर करता है।

18 जनवरी 2021, सोमवार, मुहूर्त - शाम 6 बजकर 27 मिनट से 19 जनवरी सुबह 7 बजकर 14 मिनट तक, नक्षत्र - उत्तर भाद्रपद, तिथि - षष्ठी

 

वाहन खरीदने के लिए शुभ मुहूर्त

किसी भी वाहन चाहे वह बाइक, कार, बस, आदि हो, को शुभ मुहूर्त पर खरीदा जाना चाहिए, ताकि सर्वोत्तम संभव प्राकृतिक लाभों का दोहन किया जा सके। दूसरी ओर, एक प्रतिकूल या अशुभ समय में खरीदा गया वाहन, वाहन के मालिक को कई कठिनाइयों में ला सकता है, इसके अलावा मालिक की संभावित प्रगति और समृद्धि को बाधित करता है, तो आइए जानते हैं शुभ मुहूर्त के बारे में।

  • 01 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - सुबह 9 बजकर 33 मिनट से शाम 8 बजकर 15 मिनट तक, नक्षत्र - पुष्य, तिथि - तृतीया
  • 06 जनवरी 2021, बुधवार, मुहूर्त - सुबह 7 बजकर 15 मिनट से 07 जनवरी मध्यरात्रि 2 बजकर 6 मिनट तक, नक्षत्र - हस्त, चित्रा, तिथि- अष्टमी
  • 08 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - सुबह 7 बजकर 15 मिनट से दोपहर 02 बजकर 13 मिनट तक, नक्षत्र - स्वाती, तिथि - दशमी
  • 15 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - सुबह 8 बजकर 04 मिनट से 16 जनवरी 7 बजकर 15 मिनट तक, नक्षत्र - धनिष्ठा, शतभिषा, तिथि - तृतीया
  • 24 जनवरी 2021, रविवार, मुहूर्त - सुबह 07 बजकर 13 मिनट से रात्रि 10 बजकर 57 मिनट तक, नक्षत्र - रोहिणी, तिथि - एकादशी
  • 28 जनवरी 2021, गुरुवार, मुहूर्त - सुबह 07 बजकर 11 मिनट से 29 जनवरी सुबह 3 बजकर 51 मिनट तक, नक्षत्र - पुष्य, तिथि - पूर्णिमा, प्रतिपदा

 

भूमि खरीदना का शुभ मुहूर्त 

यदि आप अशुभ मुहूर्त पर भूमि खरीदते हैं तो हो सकता है कि आपको हानि का सामना करना पड़ सके। इसलिए हम आपको जनवरी 2021 में भूमि खरीदने के  शुभ मुहूर्त  के बारे में बता रहे हैं।

  • 01 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - रात्रि 8 बजकर 15 मिनट से 02 जनवरी सुबह 07 बजकर 14 मिनट तक, नक्षत्र - अश्लेशा, तिथि - तृतीया
  • 08 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - दोपहर 02 बजकर 13 मिनट से 09 जनवरी सुबह 07 बजकर 15 मिनट तक, नक्षत्र - विशाखा, तिथि - दशमी, एकादशी
  • 29 जनवरी 2021, शुक्रवार, मुहूर्त - सुबह 07 बजकर 11 मिनट से 30 जनवरी सुबह 07 बजकर 10 मिनट तक, नक्षत्र - अश्लेषा, मघा, तिथि - प्रतिपदा, द्वितीया

 

व्यापार शुरू करने का शुभ मुहूर्त

जनवरी 2021 में अत्यधिक शुभ व्यवसाय तिथियों लाभकारी रूप से दुकान खोलने, कोई वाणिज्यिक लेनदेन करने या वित्तीय सौदों को निष्पादित करने के लिए भी उपयोग की जा सकती हैं। यदि शुभ मुहूर्त में व्यापार शुरू किया जाता है तो भविष्य में व्यापार में विस्तार और वृद्धि की संभावना बनी रहती है। तो आइए जानते हैं  शुभ मुहूर्त के बारे में।

  • 09 जनवरी 2021, शनिवार, मुहूर्त - सुबह 08 बजकर 09 मिनट से दोपहर 12 बजकर 43 मिनट तक
  • 17 जनवरी 2021, रविवार, मुहू्र्त - सुबह 09 बजकर 19 मिनट से सुबह 10 बजकर 47 मिनट तक
  • 18 जनवरी 2021, सोमवार, मुहूर्त - सुबह 07 बजकर 46 मिनट से सुबह 09 बजकर 16 मिनट तक
  • 23 जनवरी 2021, शनिवार, मुहूर्त - सुबह 07 बजकर 44 मिनट से सुबह 08 बजकर 56 मिनट तक
  • 31 जनवरी 2021, रविवार, मुहूर्त - सुबह 08 बजकर 24 मिनट से सुबह 09 बजकर 52 मिनट तक

 

नामकरण शुभ मुहूर्त

हिंदू संस्कृति में वर्णित 16 संस्कारों में सबसे महत्वपूर्ण संस्कार है नामकरण संस्कार। इस संस्कार के लिए किसी पंडित या ज्योतिषी को बुलाकर नवजात की कुंडली को देखकर उसका उचित नाम रखा जाता है। खासतौर पर शुभ मुहूर्त को ध्यान में रखकर नामकरण संस्कार किया जाता है ताकि नवजात को जीवन में सफलता, समृद्धि, सुख-शांति, व्यवसाय में बढ़ोतरी और पद-प्रतिष्ठा प्राप्त हो। तो चलिए जनवरी 2021 में पड़े रहे शुभ मुहूर्त के बारे में आपको विस्तार से बताते हैं।

  • 01 जनवरी, 2021, शुक्रवार, सुबह 07 बजकर 13 से रात्रि 08 बजकर15 मिनट तक
  • 04 जनवरी, 2021, सोमवार, शाम 07 बजकर17 मिनट से 05 जनवरी 2021 सुबह 07 बजकर 14  मिनट तक
  • 06 जनवरी, 2021, बुधवार, सुबह 07 बजकर14 मिनट से 07 जनवरी 2021 मध्यरात्रि 02 बजकर 08 मिनट तक
  • 08 जनवरी, 2021, शुक्रवार, सुबह 07 बजकर 14 मिनट से दोपहर 02 बजकर 13 मिनट तक
  • 13 जनवरी, 2021, बुधवार, सुबह 10 बजकर 31 मिनट से 14 जनवरी 2021 सुबह 07 बजकर 14 मिनट तक
  • 14 जनवरी, 2021, गुरुवार, सुबह 07 बजकर 14 मिनट से 15 जनवरी 2021, सुबह 05 बजकर 04 मिनट तक
  • 18 जनवरी, 2021, सोमवार, सुबह 07 बजकर 43 मिनट से 19 जनवरी 2021 सुबह 07 बजकर14 मिनट तक
  • 20 जनवरी, 2021, बुधवार, सुबह 07 बजकर 13 मिनट से सुबह 07 बजकर 13 मिनट तक
  • 21 जनवरी, 2021, गुरुवार, सुबह 07 बजकर 13 मिनट से सुबह 03 बजकर 36 मिनट तक
  • 24 जनवरी, 2021, रविवार, सुबह 07 बजकर 12 मिनट  से 25 जनवरी सुबह 07 बजकर12 मिनट तक
  • 25 जनवरी, 2021, सोमवार, सुबह 07 बजकर 12 मिनट  से 26 जनवरी 2021, मध्यरात्रि 01 बजकर 55 मिनट तक
  • 28 जनवरी, 2021, गुरुवार, सुबह 07 बजकर 11 मिनट से 29 जनवरी 2021, सुबह 03 बजकर 50 मिनट तक़

 

जनवरी माह के प्रमुख तीज - त्योहार

नववर्ष 

अंग्रेजी नव वर्ष 1 जनवरी से शुरू होता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर को वर्ष 1582 में जूलियन कैलेंडर में सुधार किया गया था और 1 जनवरी को नए साल के दिन के रूप में संग्रहीत किया गया था। ग्रेगोरियन कैलेंडर व्यापक रूप से अधिकांश देशों द्वारा अपनाया जाता है और 1 जनवरी को नव वर्ष दिवस के रूप में और 31 दिसंबर को नए साल की पूर्व संध्या के रूप में मनाता है।

 

लोहड़ी

लोहड़ी एक लोकप्रिय त्योहार है जो सिख धर्म के पंजाबी लोगों के साथ-साथ हिंदू धर्म में भी मनाया जाता है। लोहड़ी मुख्य रूप से सिख त्योहार है, हालांकि लोहड़ी, मकर संक्रांति एक दिन पहले मनाई जाती है। फसले पकने की खुशी के रूप में लोहड़ी का पर्व मनाया जाता है। साल 2021  में 13 जनवरी बुधवार को यह पर्व मनाया जाएगा। 

 

पोंगल 

पोंगल एक हिंदू त्योहार है जिसे दक्षिण भारत में धूमधाम के साथ मनाते हैं। पोंगल चार दिनों का त्योहार है और पोंगल का सबसे महत्वपूर्ण दिन थाई पोंगल के रूप में जाना जाता है। थाई पोंगल जो चार दिनों के उत्सव का दूसरा दिन है, संक्रांति के रूप में भी मनाया जाता है। उसी दिन को उत्तर भारतीय राज्यों में मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है जब लोग गंगा नदी में पवित्र डुबकी लगाते हैं। साल 2021 में यह पर्व 14 जनवरी गुरुवार को मनाया जाएगा।

 

मकर संक्रांति

संक्रांति का दिन भगवान सूर्य को समर्पित है और इस दिन को सूर्यदेव की पूजा करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। वैसे तो हिंदू कैलेंडर में बारह संक्रांति हैं लेकिन मकर संक्रांति अपने धार्मिक महत्व के कारण सभी संक्रांति में सबसे महत्वपूर्ण है। तमिलनाडु में मकर संक्रांति या संक्रांति को पोंगल के नाम से जाना जाता है। गुजरात और राजस्थान में मकर संक्रांति को उत्तरायण के रूप में जाना जाता है। हरियाणा और पंजाब में मकर संक्रांति को माघी के नाम से जाना जाता है।

 

गणतंत्र दिवस

भारत 26 जनवरी के दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है। 1950 में, उसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। यह भारत के तीन राष्ट्रीय अवकाशों में से एक है, जिसमें स्वतंत्रता दिवस और गांधी जयंती शामिल हैं। राजपत्रित अवकाश होने के कारण सभी सरकारी कार्यालय और अधिकांश व्यवसाय गणतंत्र दिवस पर बंद रहते हैं।

 

और भी पढ़ें

आज का पंचांग   |  आज का शुभ मुहूर्त  |  आज का  राहुकाल   |  आज का चौघड़ियावार्षिक राशिफल 2021

एस्ट्रो लेख

पितरों के मोक्ष प्राप्ति के लिए रखें चैत्र अमावस्या व्रत

शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

क्या आप भी जन्मे हैं अप्रैल महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

पापमोचिनी एकादशी 2021 - जानें व्रत तिथि व पूजा विधि

Chat now for Support
Support