Skip Navigation Links
कर्क संक्रांति - जानें राशिनुसार कैसा रहेगा कर्क राशि में सूर्य का परिवर्तन


कर्क संक्रांति - जानें राशिनुसार कैसा रहेगा कर्क राशि में सूर्य का परिवर्तन

सूर्य ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही प्रभावी ग्रह माने जाते हैं। सूर्य का राशि परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है। 16 जुलाई को सूर्य मिथनु राशि से कर्क में आ जायेंगें। कर्क राशि में ही 3 जुलाई से बुध तो 11 जुलाई से मंगल गोचर कर रहे हैं। ऐसे में आपकी राशि के अनुसार सूर्य का बुध व मंगल के साथ आना क्या परिणाम लेकर आ सकता है? आइये जानते हैं।

मेष

आपकी राशि से सूर्य का प्रवेश सुख भाव में हो रहा है। सूर्य के प्रभाव से यह समय आपके जीवन में सुख समृद्धि में वृद्धि करने वाला रहने के आसार हैं। किसी नई योजना पर कार्य आरंभ करने का विचार बना सकते हैं। हालांकि इस समय आपको कुछ चुनौतियों का सामना भी करना पड़ सकता है लेकिन कुल मिलाकर समय आपके अनुकूल रहने के आसार हैं।

वृषभ

वृषभ राशि से सूर्य तीसरे भाव में प्रवेश करेंगें। इस समय आप ऊर्जावान रह सकते हैं। परिवार में छोटे भाई बहनों से छोटा मोटा विवाद हो सकता है। हालांकि भाई बहनों की तरक्की के आसार भी बन रहे हैं। इस समय कम दूरी की यात्रा भी आप जा सकते हैं।

मिथुन

आपके लिये सूर्य का राशि परिवर्तन अच्छा कहा जा सकता है। धन भाव में सूर्य के आने से धन प्राप्ति के योग आपके लिये बन सकते हैं। पैतृक संपत्ति से भी आपको लाभ मिल सकता है। हालांकि भाई बंधुओं से मनमुटाव होने के आसार भी बन सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि संयम व समझदारी से काम लें।

कर्क

सूर्य आपकी ही राशि में दाखिल हो रहे हैं। कर्क संक्रांति होने के कारण यह समय आपके आत्मविश्वास को बढ़ाने वाला रह सकता है। साथ ही आपकी कार्यक्षमता व कार्यकुशलता अच्छी रहेगी। सूर्य के प्रभाव से यह भी संभव है कि आपमें अहंकार की भावना आ जाये। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। गरमी से आपको नुक्सान हो सकता है खान-पान पर ध्यान दें। शीतल पेय पदार्थों का सेवन करें। अग्नि से दूरी बनाकर रखें।

सिंह

सूर्य आपकी राशि से 12वें स्थान में आ रहे हैं। यह समय आपके आत्मविश्वास में कुछ कमी ला सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। नेत्र संबंधी समस्याओं से आपको दो चार होना पड़ सकता है। साथ ही चोट लगने के संकेत भी हैं इसलिये सतर्क रहें। पिता के स्वास्थ्य को लेकर भी आप इस समय चिंतित हो सकते हैं।

कन्या

सूर्य आपकी राशि से लाभ घर में आ रहे हैं। यह समय आपके लिये धन वृद्धि के योग बना रहा है। कार्यक्षेत्र में भी आपका प्रदर्शन सराहनीय रह सकता है। सुख-संपति में वृद्धि के आसार हैं। आप आत्मविश्वास से भरे निर्णय ले सकते हैं। जो जातक प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग ले रहे हैं। उन्हें सफलता मिल सकती है।

तुला

तुला राशि से सूर्य का परिवर्तन कर्मक्षेत्र में हो रहा है। जो जातक किसी नई परियोजना पर काम शुरु करना चाहते हैं या नया व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं उनके लिये समय अनुकूल है। नौकरी में परिवर्तन करने के इच्छुक जातकों को भी अवसर प्राप्त हो सकते हैं। पदोन्नति की उम्मीद रखने वाले जातकों के लिये भी समय अच्छा रहने के आसार हैं। आप काम के अलावा अतिरिक्त रूप से कार्य करके भी आय में वृद्धि कर सकते हैं।

वृश्चिक

सूर्य का परिवर्तन आपके भाग्य स्थान में हो रहा है। कार्यक्षेत्र के लिये यह समय आपके अनुकूल रह सकता है। यदि लंबे समय से आप मकान खरीदने के लिये प्रयासरत हैं तो इस समय सफलता मिल सकती है। सरकारी योजनाओं से भी आपको कोई लाभ मिल सकता है। धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। घर में किसी धार्मिक कार्य का आयोजन भी हो सकता है। हालांकि आपके मन में भय की आशंका भी रह सकती है।

धनु

स्वास्थ्य के लिहाज से सूर्य का कर्क राशि में आना आपके लिये सही नहीं कहा जा सकता है। सूर्य आपकी राशि से अष्टम में प्रवेश कर रहे हैं। पिता के स्वास्थ्य को लेकर आपकी चिंता बढ़ सकती है तो वहीं कार्यस्थल पर भी आपका प्रदर्शन कम हो सकता है। कुछ जातकों को नौकरी से हाथ भी धोना पड़ सकता है। कुल मिलाकर व्यावसायिक दृष्टि से समय अनुकूल नहीं कहा जा सकता। हालांकि नया कार्य शुरु कर रहे हैं तो परिणाम सकारात्मक मिल सकते हैं जिससे आपका आत्मबल भी बढ़ने के आसार हैं।

मकर

आपकी राशि से सूर्य का सातवें भाव में आना दांपत्य जीवन के लिये ठीक नहीं कहा जा सकता। जीवन साथी के साथ आपके मतभेद बढ़ सकते हैं। कुछ जातकों के दांपत्य जीवन में इतनी खटास भी आ सकती है कि आपको एक दूसरे से अलग होने का निर्णय लेना पड़े। जिन जातकों के विवाह की बात चल रही है हो सकता है इस समय उन्हें खुशखबरी न मिले। हालांकि विवाहित दंपतियों में मकर जातकों के जीवनसाथी कार्यक्षेत्र में उन्नति कर सकते हैं।

कुंभ

छठे भाव में सूर्य का आना आपकी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को बढ़ा सकता है विशेषकर घुटनों व कमर के दर्द की समस्या बढ़ सकती है। नौकरीशुदा जातक सर्वाइकल की समस्या से झूझ सकते हैं। हालांकि करियर के मामले में समय अनुकूल रहेगा और कार्योन्नति के आसार भी आपके लिये बन सकते हैं।

मीन

पंचम भाव में सूर्य का परिवर्तन संतान पक्ष की ओर से शुभ समाचार मिलने का संकेतक है। जो दंपति संतान प्राप्ति की कामना कर रहे हैं उन्हें भी खुशखबरी मिल सकती है। यह समय कार्यक्षेत्र में भी आपके मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा में वृद्धि लाने वाला रह सकता है। विवाह के योग भी इस समय आपके लिये बन रहे हैं। नया कार्य आरंभ करने के लिये भी समय उपयुक्त है।

सूर्य सहित नवग्रहों के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिये सरल ज्योतिषीय उपाय आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर जान सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |   सूर्य ग्रहण 2017 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव   |   सूर्य ग्रहण 2017   |   सूर्य देव की आराधना का पर्व ‘मकर संक्रांति`

सूर्य नमस्कार से प्रसन्न होते हैं सूर्यदेव





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...