कुंडली का दूसरा भाव

वैदिक ज्योतिष में कुंडली का दूसरा भाव क्या है? इसका आपके जीवन पर कैसा असर पड़ता है? यह आपके जीवन को किस प्रकार प्रभावित करता है? ज्योतिष में द्वितीय भाव का क्या महत्व है?  इसके साथ ही द्वितीय भाव में अन्य ग्रहों के बैठने से क्या प्रभाव पड़ता है? क्या आपने इन प्रश्नों का कभी उत्तर तलाशने की कोशिश की है?  इस लेख में हम आपके इन सभी प्रश्नों के उत्तर देने जा रहे हैं। आप अपने कुंडली के दूसरे घर के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आगे पढ़ें -

कुंडलीकुंडली मिलानकुंडली दोष  ➔ कुंडली के योग  ➔ कुंडली में लगन भाव ➔ कुंडली दशा

 

वैदिक ज्योतिष में भाव

वैदिक ज्योतिष में नौ ग्रहों में से प्रत्येक ग्रह आपके जन्म कुंडली में किसी न किसी भाव में मौजूद है। इसके साथ ही ये भाव ज्योतिष के बारह राशि को निर्धारित किए गए हैं। हर एक राशि के लिए एक भाव। ग्रह की प्लेसमेंट न केवल आपके स्वयं के व्यक्तित्व के बारे में अमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान करता है, बल्कि यह भी बताता है कि आप कैसे जुड़े हुए हैं और अपने आसपास की दुनिया के साथ किस तरह का व्यवहार रखते हैं। इसके अलावा, आपके कुंडली के कुल 12 भाव आपके अतीत, वर्तमान और भविष्य के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए एक जरिया हैं। जैसे ही आकाश मंडल में ये ग्रह अपनी स्थिति बदलते हैं हमारे आपके जीवन में विभिन्न घटनाओं व अवसरों को लाकर खड़ा करते हैं। चाहे ये भावनात्मक हो या कलात्मक।

कुंडली के हर घर का अपना महत्व है और यह जीवन के विशेष घटनाक्रम का भी प्रतिनिधित्व करता है। भाव वास्तव में ज्योतिष को महत्वपूर्ण बनाते हैं। हालांकि ये काफी जटिल हैं, लेकिन हम इस लेख में कुंडली के दूसरे भाव के बारे में को आपको विस्तार से समझना चाहते हैं।

जीवन में भावों के अर्थ को समझने के लिए, आप Astroyogi.com पर ज्योतिषियों से परामर्श कर सकते हैं

 

वैदिक ज्योतिष में द्वितीय भाव

शरीर (पहले भाव) को बनाया जाना चाहिए और अपने बारे में अच्छा महसूस करना चाहता है। पहले घर में भौतिक शरीर की क्रियाओं का परिणाम द्वितीय भाव में होता है। यह भाव धन, धान्य और सांसारिक संपत्ति के बारे में संकेत देता है। दूसरा घर भी तात्कालिक परिवार और हमारी बढ़ती अवस्था का सूचक है। आपके जन्म कुंडली के दूसरे घर को वैदिक ज्योतिष में धन भाव के नाम से जाना जाता है। 

दूसरे घर में जन्म ग्रह अपनी भौतिक दुनिया के माध्यम से सुरक्षा चाहता है। यह घर मूल्य के साथ भी व्यवहार करता है - आप भौतिक संपत्ति के मूल्य और आप अपने आप को कैसे महत्व देते हैं। 

नकारात्मक पक्ष पर, दूसरा घर भी कुंडली का एक क्षेत्र है। यह लालच, वित्तीय कठिनाई या कम आत्म-मूल्य के मुद्दों का संकेत दे सकता है। यह भी सिर्फ पैसे के घर से अधिक है। यह आपको अपने जीवन में आप क्या मूल्य रखते हैं। इसके बारे में भी बताता है। जन्म कुंडली में दूसरे घर का एक विस्तृत विश्लेषण चेहरे, दांत, भाषण, जीभ, मौखिक गुहा, नाक, और दाहिनी आंख से संबंधित उनके जीवनकाल में होने वाले कुछ स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों के बारे में बहुत कुछ बताता है। यह आपके रिश्तेदारों से जीवन में मिलने वाले समर्थन को भी प्रकट करता है। शुक्र द्वितीय भाव में स्थित प्राकृतिक ग्रह है जिसका जातक पर बहुत अधिक प्रभाव है। शुक्र का आपके भाव, मान, सम्मान और उन चीजों का धन में तब्दील करने में एक अहम भूमिका है।

 

संक्षेप में कुंडली में द्वितीय भाव की बुनियादी बातें -

  • द्वितीय भाव का वैदिक नाम: धना भव। 
  • प्राकृतिक स्वामी ग्रह और राशि: वृषभ और शुक्र। 
  • शरीर के संबद्ध अंग: चेहरा, मुँह और इन्द्रियाँ।
  • द्वितीय भाव के संबंध: परिवार, करीबी दोस्त और हमारे सबसे करीबी लोग।

द्वितीय भाव की गतिविधियाँ: ऐसी गतिविधियाँ जो हमें समय समय पर खुशी देती हैं और जो हमें जुड़ा हुआ महसूस कराती हैं। रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ हंसी ठीठोली करना, बातचीत करना, दूसरे घर की गतिविधियों के सभी संकेत हैं।

 

कुंडली के दूसरे घर में ग्रहों के प्रभाव -

द्वितीय भाव में सूर्य: कुंडली में दूसरे घर में सूर्य ग्रह की उपस्थिति धन, परिवार, मूल्यों और दुनिया की अन्य स्थिर संरचनाओं के लिए कारक ग्रह है। एक मजबूत सूर्य आत्म-सम्मान और स्वतंत्रता देता है। जातक लालची और कुरूप भी हो सकता है। 

द्वितीय भाव में चंद्रमा: चंद्रमा की उपस्थिति सुखद और आकर्षक रूप का आशीर्वाद है। द्वितीय भाव में चंद्रमा एक अच्छा योग है जो व्यक्ति को चतुर, धनी और प्रसिद्ध बनाता है। वह अपने परिवार की खुशी और समर्थन का आनंद लेता है। एक पीड़ित चंद्र ग्रह कभी-कभी आपको त्वरित पैसा कमाने के लिए कुछ गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने के लिए प्रभावित कर सकता है। वहाँ भी असंगत भाषण और आदतों, यहां तक ​​कि खाद्य व्यसनों की समस्याएं हो सकती हैं। 

द्वितीय भाव में बृहस्पति: द्वितीय भाव में इस शुभ ग्रह की उपस्थिति आपकी सहायता करेगी। बृहस्पति ग्रह आपको एक अच्छा व्यवसायी भी बनाता है। इस ग्रह की शुभ स्थिति या योग के कारण धन, सुख और सम्मान आपके पास आसानी से आ जाएगा। आप एक अच्छे व्यवसायी भी हो सकते हैं। यदि बृहस्पति 2 वें घर में पीड़ित है, तो आपको वित्तीय समस्याओं के साथ-साथ शैक्षिक मार्ग में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। आप स्वार्थी और आत्म-केंद्रित हो सकते हैं। 

द्वितीय भाव में शुक्र: द्वितीय भाव में शुक्र ग्रह आसानी से धन, समर्थन और जातक के लिए आराम का संकेत देता है। आप अपने धन और समाज में मान और प्रतिष्ठा बढ़ाने में सक्षम होंगे। आप व्यवसायों के माध्यम से लाभ कमा सकते हैं। जब शुक्र इस घर में पीड़ित होता है, तो यह आपको अनावश्यक चीजों पर अत्यधिक खर्च कर सकता है, जो आपको परेशानी में डाल सकता है। 

द्वितीय भाव में मंगल: द्वितीय भाव में मंगल ग्रह  स्थिति जातक को बहुत आत्मविश्वासी, महत्वाकांक्षी और स्वतंत्र बनाएगी। आप धनवान होंगे और निष्पक्ष और कठिन परिश्रम से धन कमाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। इस घर में मंगल का मालेफ़िक प्लेसमेंट आपके अशिष्ट और आक्रामक रवैये का कारण हो सकता है। 

द्वितीय भाव में बुध: शुभ बुध आपको एक दयालु और सौम्य स्वभाव वाला व्यक्ति बना देगा। आप बुद्धिमान और कुशल होंगे, और घटनाओं के प्रबंधन और आयोजन में अच्छे होंगे। आप अपनी बुद्धि का उपयोग पैसे कमाने के लिए करेंगे, और जीवन में प्रगति और सफलता प्राप्त करेंगे। यदि इस योग के दौरान बुध ग्रह किसी भी अशुभ ग्रहों से प्रभावित है, तो आप सही निर्णय नहीं ले सकते हैं। 

द्वितीय भाव में शनि: आपके 2 वें घर में शनि आपको अपनी मेहनत और निर्धारित प्रयासों से समय के साथ अपनी आय बढ़ाने में मदद करेगा। आप बुद्धिमानी से निर्णय लेंगे और बचत के माध्यम से धन प्रबंधन में अच्छा करेंगे। फिर भी आप ऐसे पेशे में हो सकते हैं जो आपको संतुष्टि नहीं है। इस घर में शनि ग्रह का स्थान आपको परिश्रमी व्यक्ति बना देगा लेकिन आपको इसके अनुकूल परिणाम नहीं मिलेगा। जब शनि को द्वितीय भाव में अशुभ ग्रहों के साथ बैठा होता है, तो आप आलसी बना सकता है और अपना काम अधूरा रखने में भी भूमिका निभा सकता है। 

द्वितीय भाव में राहु: हालांकि यह एक नकारात्मक ग्रह है, परंतु द्वितीय भाव में राहु ग्रह को धन संबंधी मामलों के लिए शुभ माना जाता है। यह योग आपको अप्रत्याशित आर्थिक लाभ दे सकता है। आपको अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों को पूरा करने का अवसर भी मिलेगा। हालांकि, आपको अपने खर्चों को व्यवस्थित रूप से नियंत्रित करने की आवश्यकता है क्योंकि यदि राहु घर में अन्य ग्रहों के साथ एक अशुभ स्थिति में है, तो परिणाम प्रतिकूल होंगे। 

द्वितीय भाव में केतु: कुंडली के दूसरे घर में स्थित केतु ग्रह आपके लिए आर्थिक समस्या का कारण बन सकता है और आप अनावश्यक रूप से पैसा खर्च कर सकते हैं। यह स्थिति उन मूल्यों के साथ आपके असंतोष को भी इंगित करता है जिनमें आप स्थित हैं। आपको अपने स्वयं के मूल्य पर भी संदेह होगा, और विस्तार से स्वयं और दूसरों की अत्यधिक आलोचना महसूस होगी।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


एस्ट्रो लेख

कब से शुरू 2021 में श्राद्ध? जानिए किस तिथि में कौन सा श्राद्ध

पितृपक्ष के दौरान क्या करें और क्या न करें? जानिए

गणेश रूद्राक्ष से मिलती है सदबुद्धि

गणेश विसर्जन 2021 - गणपति बप्पा मोरिया, अगले बरस तू जल्दी आ

Chat now for Support
Support