Skip Navigation Links
विवाह संस्कार – हिंदू धर्म में तेरहवां संस्कार है विवाह


विवाह संस्कार – हिंदू धर्म में तेरहवां संस्कार है विवाह

सामाजिक विज्ञान में किसी भी समाज की प्राथमिक ईकाई परिवार को माना जाता है। परिवार का निर्माण या कहें परिवार का आरंभ मनुष्य की एक ऐसी अवस्था से होता है जिसमें युवक व युवती दोनों ही शारीरिक, मानसिक और आर्थिक और सामाजिक तौर पर इस लायक होते हैं कि वे मानव समाज के विकास और मानव जीवन के सृजन में अपना योगदान दे सकें। हालांकि नर मादा के मिलन और परिवार की भावना अन्य जीवों में भी पायी जाती है लेकिन मनुष्य अपनी बौद्धिक क्षमता के कारण सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है। इसका प्रमाण मानव समाज के विकासक्रम में देखा जा सकता है। मनुष्य ने पीढ़ी दर पीढ़ी भावी पीढ़ियों को अपने संस्कारों के जरिये सुसंस्कृत किया। हर धर्म के अपने संस्कार हैं लेकिन विवाह इनमें सबसे खास होता है। आइये जानते हैं हिंदू धर्म के तेरहवें संस्कार विवाह के बारे में।

क्या है विवाह संस्कार

विवाह केवल एक संस्कार मात्र नहीं बल्कि अपने आप में एक पूरी संस्था है, व्यवस्था है। यहीं से मनुष्य के चार आश्रमों में महत्वपूर्ण गृहस्थ आश्रम का आरंभ होता है। उसकी घर गृहस्थी की शुरूआत होती है। हिंदू धर्म में तो विवाह और भी खास मायने रखता है। अन्य संस्कृतियों में जहां विवाहेतर संबंध विच्छेद के प्रावधान हैं लेकिन हिंदू धर्म में विवाह का बंधंन जन्म जन्मांतर का माना जाता है।

श्रुति ग्रंथो में विवाह के स्वरूप को व्याख्यायित करते हुए कहा गया है कि दो शरीर, दो मन, दो बुद्धि, दो हृद्य, दो प्राण एवं दो आत्माएं जब आपस में में समन्वय कर एक दूसरे के प्रति अगाध प्रेम के व्रत पालन का संकल्प भगवान शिव और माता पार्वती के प्रेमादर्शों से धारण करते हैं यही विवाह है।

गर्भाधान से आरंभ होने वाले हिंदू धर्म के सोलह संस्कारों में विवाह तेरहवां संस्कार होता है। इस संस्कार को बारहवें संस्कार समावर्तन के पश्चात किया जाता है इसमें जातक अपनी शिक्षा दीक्षा पूरी कर गुरुजनों के आशीर्वाद से गृहस्थ आश्रम की शुरुआत के लिये तैयार होता है। प्राचीन समय में चूंकि कन्याओं व चतुर्थ वर्ण के जातक उपनयन, केशांत और समावर्तन जैसे संस्कारों के अधिकारी नहीं थे इसलिये उनके लिये द्विजत्व प्राप्त करने का एकमात्र संस्कार विवाह ही होता था। इसलिये इनके लिये विवाह संस्कार विशेष रूप से खास मायने रखता था।

मान्यता है कि जातक जब जन्म लेता है तो वह देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृ ऋण का ऋणि होता है। पूजा-पाठ, यज्ञ हवन आदि से देव ऋण से उसे मुक्ति मिल जाती है। वेदाध्यन यानि गुरु से ज्ञान प्राप्त करने के पश्चात वह ऋषि ऋण से भी उऋण हो जाता है लेकिन पितृ ऋण तब तक नहीं उतरता जब तक वह स्वयं पिता नहीं बन जाता और उसके लिये पहली आवश्यकता है विवाह। इसलिये शास्त्रानुसार पितृ ऋण से मुक्ति के लिये भी विवाह संस्कार बहुत आवश्यक होता है।

विवाह के शाब्दिक अर्थ को ही समझा जाये तो वि और वाह के मेल से बना है जिसका अभिप्राय है विशेष रूप से अपने उत्तरदायित्वों का वहन करना।

विवाह परंपरा का इतिहास

मानव सभ्यता के आरंभ में जब विवाह जैसी कोई परंपरा या कहें प्रथा या कहें संस्कार नहीं था और कोई भी किसी से संबंध स्थापित कर सकता था। किसी को यह आभास नहीं होता था कि कौन किसकी संतान है। समाज मातृसत्तात्मक संरचना वाले होते थे। संतान को माता के नाम से ही जाना जाता था। वैदिक युग के आरंभ होने तक यही व्यवस्था मानी जाती है। लेकिन वैदिक काल के पश्चात ऋषि मुनियों ने इस तरह के संबंधों को पाशविक मानते हुए नये नियमों की स्थापना की। मान्यता है कि मर्यादा की रक्षा के लिये ऋषि श्वेतकेतु ने विवाह प्रणाली की स्थापना की। वहीं से परिवार बनने की परंपरा का आरंभ हुआ। विवाह के भी कई प्रकार होते हैं मनुस्मृति में 8 प्रकार के विवाहों का जिक्र किया गया है। वर्तमान में जो विवाह हमें हिंदूओं में देखने को मिलता है जो वेदमंत्रों के उच्चारण के साथ अग्नि के सात फेरे लेकर संपन्न किया जाता है वह ब्रह्म विवाह किया जाता है।

पौराणिक ग्रंथों के अनुसार मान्यता है कि विवाह संस्कार से जातक की अगली पिछली और स्वयं की मिलाकर कुल 21 पीढ़ियां पाप से मुक्त हो जाती हैं। मनु ने इस बारे में लिखा भी है –

दश पूर्वांन् परान्वंश्यान् आत्मनं चैकविंशकम्।

ब्राह्मीपुत्रः सुकृतकृन् मोचये देनसः पितृन्।।

हिंदू धर्म में विवाह संस्कार कोई भोगलिप्सा का साधन नहीं बल्कि इसकी धार्मिक मान्यताएं हैं। मान्यता है कि इस संस्कार से अंत:शुद्धि होती है। जब अंत:करण शुद्ध होता है तभी तत्वज्ञान होता है और भगवत प्रेम पैदा हो सकता है। यही मनुष्य जीवन का परम ध्येय भी होता है।

अपनी कुंडली के अनुसार प्रेम, विवाह, संतान आदि योगों के बारे में जानने के लिये आप हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें   

गर्भाधान संस्कार    |   पुंसवन संस्कार   |   सीमन्तोन्नयन संस्कार   |   जातकर्म संस्कार   |   नामकरण संस्कार   |   निष्क्रमण संस्कार   |   अन्नप्राशन संस्कार

चूड़ाकर्म संस्कार   |   कर्णवेध संस्कार   |   उपनयन संस्कार   |   केशांत संस्कार   |   समावर्तन संस्कार – हिंदू धर्म में बारहवां संस्कार है समावर्तन

कुंडली में संतान योग   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में प्रेम योग




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...