एस्ट्रो लेख

इंदिरा एकादशी 2...

एकादशी तिथि का हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिये खास महत्व है। प्रत्येक चंद्र मास में दो एकादशियां आती है। इस तरह साल भर में 24 एकादशियां आती है मलमास या कहें अधिक मास की भी ...

और पढ़ें ➜

जीवित्पुत्रिका ...

हिंदू धर्म में व्रत व त्यौहारों को मनाने का विशेष महत्व एक विशेष उद्देश्य होता है। कुछ व्रत त्यौहार सामाजिक कल्याण से जुड़े होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत व पारिवारिक हितों से। आश्विन म...

और पढ़ें ➜

आश्विन - आश्विन...

हिंदू पंचांग के अनुसार साल के सातवें महीने को आश्विन महीना कहा जाता है। ये भाद्रपद के बाद और कार्तिक माह से पहले आता है। हिंदू कैलेंडर में हर महीना किसी न किसी देवी-देवता को समर्पि...

और पढ़ें ➜

कैसे करें नवरात...

पूरे भारतवर्ष में मां दुर्गा की पूजा का पर्व साल में 4 बार मनाया जाता है परंतु प्रमुख तौर पर देश में चैत्र नवरात्रि और शारदीय नवरात्रि की पूजा की जाती है। चैत्र नवरात्रि का अंत राम...

और पढ़ें ➜

राशिनुसार नवरात...

इस बार शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर से शुरु होने जा रही है। इस दौरान मां दुर्गा की आराधना का काफी महत्व है और पूरे भारतवर्ष में विभिन्न राज्यों में अलग-अलग तरह से देवी का पूजन करने का...

और पढ़ें ➜

कन्या संक्रांति...

17 सितंबर 2019 को दोपहर 12:43 बजे सूर्य, सिंह राशि से कन्या राशि में गोचर करेंगे। सूर्य का प्रत्येक माह राशि में परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस संक्रांति को स्नान, दान और ...

और पढ़ें ➜

नरेंद्र मोदी - ...

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे स्पष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच मे...

और पढ़ें ➜

विश्वकर्मा पूजा...

हिंदू धर्म में अधिकतर तीज-त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार ही मनाए जाते हैं लेकिन विश्वकर्मा पूजा एक ऐसा पर्व है जिसे भारतवर्ष में हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है। इस दिवस को भग...

और पढ़ें ➜

पितृदोष – पितृप...

कहते हैं माता-पिता के ऋण को पूरा करने का दायित्व संतान का होता है। लेकिन जब संतान माता-पिता या परिवार के बुजूर्गों की, अपने से बड़ों की उपेक्षा करने लगती है तो समझ लेना चाहिये कि अ...

और पढ़ें ➜

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜

क्या है सोनम कप...

“मैं बहुत अंधविश्वासी हूं। लेकिन मैं अंधविश्वास को विज्ञान के नजरिए से देखती हूं। ब्रह्मांड में चंद्रमा, सूर्य और सितारों का अपना ही एक अलग प्रभाव है। जब भी मैं किसी शुभ काम के लिए...

और पढ़ें ➜

अनंत चतुर्दशी 2...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यानि भगवान विष्णु ...

और पढ़ें ➜

गणेश विसर्जन 20...

इन दिनों पूरे देशभर में गणेश चतुर्थी की धूम है। चारों तरफ गणपति पंडाल और "गणपति बप्पा मोरैया" से वातावरण गुंजायमान है। इस बार गणेश चतुर्थी का पर्व 2 सितंबर से शुरू होकर 12 सितंबर क...

और पढ़ें ➜

ओणम – फूलों की ...

रोजमर्रा के कार्यों और अपनी जीवन शैली के बीच ही हम अपनी खुशियों को मनाने के तरीके और मौके ढूंढ लेते हैं या कहें कि इन अवसरों को खुद ही पैदा कर लेते हैं। इन्हीं अवसरों को फिर हम नाम...

और पढ़ें ➜

कन्या राशि में ...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो यह काफी कुछ इस ...

और पढ़ें ➜

क्या आपकी जिंदग...

जिंदगी में जब बात भाग्य और मेहनत की आती है तो आमतौर पर टेक्नोलॉजी के युग में अधिकांश लोग मेहनत पर विश्वास करते हैं उनके लिए लक या भाग्य कोई मायने नहीं रखता है। आज के युग में लोगों ...

और पढ़ें ➜

सनातन धर्म में...

"चित्रकूट के घाट पर भई संतन की भीड़, तुलसीदास चंदन घिसें, तिलक देत रघुबीर" हिंदू धर्म में तिलक की परंपरा वैदिक काल से चलती चली आ रही है। ब्रह्मण्ड पुराण, गरुड़ पुराण, पद्म पुराण, ग...

और पढ़ें ➜