केमद्रुम योग

केमद्रुम योग (kemdrum dosh) चंद्रमा द्वारा गठित सबसे महत्वपूर्ण योगों में से एक है। वराहमिहिर के अनुसार, यह योग तब बनता है जब चंद्रमा से आगे और पीछे का एक-एक घर खाली होता है। दूसरे शब्दों में, चंद्रमा से दूसरा और बारहवां घर खाली होना चाहिए ताकि यह योग बन सके। आधुनिक काल में ज्योतिषियों के अनुसार यह योग उतना अशुभ नहीं है। एक व्यक्ति को इस योग से डरना नहीं चाहिए क्योंकि यह हमेशा अशुभ परिणाम नहीं देता है। यह व्यक्ति को जीवन में सभी प्रकार के संघर्षों का सामना करने की शक्ति भी प्रदान करता है ताकि वह उत्कृष्टता प्राप्त कर सके और सफलता प्राप्त कर सके।

चंद्रमा को ज्योतिष के अनुसार मन के कारक ग्रह के रूप में जाना जाता है। यह आमतौर पर देखा जाता है कि खाली दिमाग बहुत सारी बेकार चीजों के बारे में सोचता है और एक व्यक्ति को बेचैन करता है। केमद्रुम योग भी ऐसे परिणाम देता है।

 

केमद्रुम योग का निर्माण

यदि चंद्रमा से दूसरा और बारहवां घर खाली हो तो केमद्रुम योग बनता है। इसका निर्माण तब भी होता है जब चंद्रमा किसी शुभ ग्रह के साथ नहीं होता है। जब हम केमद्रुम योग की बात करते हैं तो राहु और केतु का विश्लेषण नहीं किया जाता है।

इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति अपने जीवन में कम से कम एक बार संघर्ष और गरीबी का सामना करता है। व्यक्ति अशिक्षित, गरीब या मूर्ख भी हो सकता है। यह भी माना जाता है कि केमद्रुम योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति अपने विवाहित जीवन या बच्चों को पालने में असमर्थ होता है। ऐसा व्यक्ति आमतौर पर घर से दूर रहता है। वह अपने प्रियजनों को खुशी प्रदान करने में सक्षम नहीं होता है। ऐसा व्यक्ति बेकार की बातें करता है।

 

केमद्रुम योग के शुभ और अशुभ परिणाम

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति गरीबी और परेशानियों का सामना करता है। उसे अपने पेशे से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। मन आमतौर पर बेचैन और असंतुष्ट रहता है। व्यक्ति आमतौर पर दूसरों पर निर्भर होता है। ऐसे व्यक्ति का जीवन लंबा होता है, लेकिन अपने विवाहित जीवन में और बच्चों से परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

केमद्रुम योग के बारे में एक गलत धारणा है कि यह जातक को संघर्षमय जीवन प्रदान करता है। इसलिए, कई ज्योतिषी इस योग को अशुभ मानते हैं। यह धारणा पूरी तरह सच नहीं है। केमद्रुम योग में जन्म लेने वाले लोग अपने पेशे में अच्छा करते हैं। उन्हें अपने कार्यक्षेत्र में सम्मान और सराहना भी मिलती है। आमतौर पर, आधुनिक काल में ज्योतिषी केवल इस योग के अशुभ प्रभावों के बारे में बात करते हैं। लेकिन, अगर वे शुभ परिणामों के बारे में भी बात करना शुरू करते हैं, तो लोगों को पता होगा कि कुछ योगों की उपस्थिति के कारण, केमद्रुम योग राज योग में परिवर्तित हो जाता है। इसलिए, किसी व्यक्ति की कुंडली का विश्लेषण करते समय, केमद्रुम योग को परिवर्तित करने वाले योगों पर ध्यान देना आवश्यक है।

 

केमद्रुम योग को भंग करना

केमद्रुम योग चन्द्रमा की उपस्थिति से केंद्र में अस्त होता है। केमद्रुम योग के भंग होने पर इसके अशुभ प्रभाव भी नष्ट हो जाते हैं। कुंडली में कुछ अन्य स्थितियां भी इस योग के दुष्प्रभाव को नष्ट करती हैं।

  • केमद्रुम योग नष्ट हो जाता है यदि कुंडली में लग्न से केंद्र में चंद्रमा या कोई ग्रह हो तो केमद्रुम अप्रभावी हो जाता है।

  • चंद्रमा सभी ग्रहों से दृष्ट हो या चंद्रमा शुभ स्थान में हो या चंद्रमा के शुभ ग्रहों से युक्त हो या फि पूर्ण चंद्रमा लग्न में हो अथवा दसवें भाव में उच्च का हो अन्यथा केंद्र में पूर्ण बली हो तो भी केमद्रुम योग भंग हो जाता है।

  • सुनफा अनफा या दुरुधरा योग यदि कुंडली में बन रहे हों तो भी केमद्रुम योग भंग माना जाता है।

  • चंद्रमा से केंद्र में अन्य ग्रह के होने पर भी केमद्रुम योग के अशुभ प्रभाव भंग हो जाते हैं।

  • कुछ शास्त्रों के अनुसार, यदि चंद्रमा से दूसरे, बारहवें या नौवें घर में केंद्र में कोई ग्रह है, तो केमद्रुम योग नष्ट हो जाता है।

 

केमद्रुम योग के उपाय

जन्म कुंडली में केमद्रुम दोष के नकारात्मक प्रभाव को शांत करने के लिए उपचारात्मक उपाय करना भी बेहद महत्वपूर्ण है। ज्योतिष शास्त्र में ऐसे उपाय बताए गए हैं जिनका आप पालन कर सकते हैं और यह केमद्रुम दोष के नकारात्मक प्रभाव को काफी हद तक शांत कर देगा।

  • पूर्णिमा के दिन लगातार चार वर्षों तक उपवास करें। इस व्रत की शुरुआत पूर्णिमा से करें जो कि सोमवार को है या चित्रा नक्षत्र के दिन से है जब यह सोमवार को होता है।

  • सोमवार को शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाएं और तिल के साथ मिश्रित जल से अभिषेक करें और मंत्र ओम सोम सोमाय नम: का जप करें।

  • सफेद रंग के उत्पाद जैसे चावल, दूध, सफेद फूल, कपूर, सफेद वस्त्र, और सफेद मोती आदि का दान करें।

  • अपने पूजा स्थान पर घर में सर्वतोभद्र यंत्र स्थापित करें और यहां दिए गए मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जप करें।

  • घर के मंदिर में कनकधारा यंत्र स्थापित करें और प्रतिदिन 3 बार कनकधारा स्तोत्र पढ़ें।

  • सफेद मोती को सोमवार के दिन चांदी में मड़वाकर छोटी उंगली में धारण करें।

  • घर में दक्षिणावर्ती कवच ​​रखें और नियमित रूप से श्री सूक्त का पाठ करें। इस कवच में पानी रखें और इस जल को देवी लक्ष्मी की मूर्ति पर डालें। इसमें मोती के साथ चांदी से बना श्री यंत्र पहनें।

आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support