श्रापित दोष

क्या आप करियर, परिवार, वैवाहिक जीवन, व्यवसाय आदि जैसे विभिन्न मोर्चों पर कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं? या किसी ऐसी चीज के कारण पीड़ित होना जो सीधे तौर पर आपसे संबंधित नहीं है? इसका कारण आपकी कुंडली में शनि राहु श्रापित दोष(shrapit dosha) का होना हो सकता है। यह एक अत्यंत अशुभ दोष माना जाता है जो जातक के लिए बहुत मुश्किलें पैदा करता है।

कुंडली में श्रापित दोष निर्माण

कुंडली के किसी भी भाव में राहु और शनि का संयोग शनि राहु श्रापित दोष बनाता है। इस दोष के कारण, जातक को जीवन की विलासिता और आराम का आनंद लेना मुश्किल हो जाता है। इस दोष का कारण पिछले जन्मों के बुरे कर्म (दुष्कर्म या कार्य) हैं और यदि इसके कुप्रभावों से निपटने के लिए जातक द्वारा कुछ उपाय नहीं किए गए हैं, तो यह पीढ़ी दर पीढ़ी तक जारी रह सकता है। इस दोष में किसी की कुंडली में अन्य शुभ ग्रहों के प्रभाव को कम करने की क्षमता है।

इस दोष का नकारात्मक प्रभाव बहुत अधिक होता है जब राहु और शनि का संयोग कुंडली के पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में होता है। वहीं दूसरी ओर इसके नकारात्मक प्रभाव कम महसूस किए जाते हैं यदि शनि राहु की युति कुंडली के तीसरे, छठें और एकादश भाव में हो।

श्रापित दोष का प्रभाव

कुंडली में श्रापित दोष अलग से ही समझ में आता है कि यह जातक के जीवन को शापित ही करता होगा। श्रापित का अर्थ है शापित। शापित होने पर आपको बुरे परिणाम मिलते हैं। यह बुरे कर्म के परिणाम का सरल प्रतिबिंब है जो आपने पिछले जन्मों में किया था।

 यहां उन गंभीर समस्याओं की सूची दी गई है जिनका आप अनुभव कर रहे होंगे।

  • भारी वित्तीय नुकसान

  • व्यापार में बाधाएं

  • संतान का बार-बार बीमार पड़ना

  • शिक्षा में समस्या

  • निःसंतान और गर्भपात

  • पति-पत्नी के बीच अशांति और विवाद।

  • गृहस्थ जीवन कष्टमय

  • अवांछित दुश्मनी और कानूनी लड़ाई

 

श्रापित दोष परिणाम

हम सभी जीवन में बुरे और अच्छे परिणाम दोनों का सामना करते हैं। जन्म कुंडली में श्रापित दोष आपको मजबूत ग्रह अवधि के दौरान हमेशा प्रभावित नहीं कर सकता है। हालांकि, यह बहुत बुरी तरह से नुकसान पहुंचाएगा जब आपके पास ग्रहों की मारक महादशा और अंतर्दशा होगी।

ज्योतिष के अनुसार, शनि, राहु, केतु, मंगल और सूर्य की मारक अवधि के दौरान आपको बहुत नुकसान होने की संभावना है। इसके अलावा जब शुभ ग्रह शनि, मंगल, सूर्य, राहु और केतु द्वारा पीड़ित होते हैं तो भी यह दोष अशुभ परिणाम देता है।  

श्रापित दोष निवारण उपाय

  • ज्योतिषशास्त्र में श्रापित दोष की नकारात्मकता को कम करने के लिए कई उपाय सुझाए गए हैं। लेकिन एक बुद्धिमान ज्योतिषी से परामर्श करना और संबंधित उपायों को खोजना बुद्धिमानी है। यहां हम आपको कुछ सामान्य उपाय बता रहे हैं जिनको करने से इस दोष के दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है।

  • शनि और राहु श्रापित दोष निवारन पूजा करें।

  • कुंडली में इस दोष वाले व्यक्ति को सुबह स्नान करने के बाद हर रोज 108 बार शनि और राहु के बीज़ मंत्रों का पाठ करना चाहिए। ग्रहों शनि और राहु के लिए बीज मंत्र इस प्रकार हैं:

  • शनि ग्रह के लिए बीज मंत्र - "ओम प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः"

  • ग्रह राहु के लिए बीज मंत्र - " ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम:"

  • प्रतिदिन शिवलिंग पर दूध मिश्रित जल और काली दाल चढ़ाने से शनि और राहु के नकारात्मक प्रभाव को कम किया जा सकता है।

  • मछलियों और गाय को शुद्ध घी से बने चावल खिलाएं।

  • शनि और राहु के लिए रत्न धारण करें। शनि राहु श्रापित दोष निवारन रुद्राक्ष पेंडेंट पहनना चाहिए।

  • गरीब लोगों की भोजन और पैसे से मदद करें।

  • शनिवार को विशेष रूप से भगवान शिव, भगवान हनुमान और भगवान राम की पूजा करें।

 

यद्यपि जन्म कुंडली में श्रापित दोष एक खतरनाक योग है, लेकिन इसे वैदिक ज्योतिष में उपलब्ध उपचारात्मक उपायों के माध्यम से आसानी से निष्प्रभावी किया जा सकता है। हालांकि, शनि राहु श्रापित दोष निवारन पूजा करने के लिए एक बुद्धिमान ज्योतिषी से परामर्श करना बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, आपको किसी भी रत्न के लिए एक ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए ताकि आप श्रापित दोष के नकारात्मक प्रभाव को कम कर सकें। 

आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support