Skip Navigation Links
गणेश रूद्राक्ष से मिलती है सदबुद्धि


गणेश रूद्राक्ष से मिलती है सदबुद्धि

जीवन में अक्सर निर्णायक मोड़ आते रहते हैं जो हमारे जीवन की दशा व दिशा बदल कर रख देते हैं। यदि इन निर्याणक मोड़ों पर हम सही निर्णय लेते हैं तो सकारात्मक परिवर्तन होते हैं और अगर हमारे द्वारा लिया फैसला उल्टा पड़ जाये तो फिर जो होता है उसे देखकर हम झल्ला जाते हैं यानि परिवर्तन नकारात्मक होते हैं। कई बार हम जानबूझ कर तो कई बार अन्जाने में ही आत्मविश्वास में भर सही और गलत निर्णय लेने में समर्थ होते हैं ऐसे में हम अपने निर्णयों के सही गलत होने पर कोई ज्यादा खुशी और दुख मनाने की आवश्यकता नहीं होती क्योंकि परिणाम चाहे जो भी रहे हम उसके लिये दिमागी तौर पर तैयार रहते हैं। लेकिन बहुत बार निर्णय लेने में ऐसे पेंच उलझते हैं कि अपने आप को चोराहे पर खड़ा पाते हैं और यह मालूम नहीं होता कि जायें तो जायें कहां। इसी उलझन, इसी असमंजस, इसी द्वंद्व में जब घिरे हों तो हमें कोई चाहिये जो हमें मार्ग सुझा सके, जो हमें सद्बुद्धि दे सके। अब सद्बुद्धि कौन देते हैं वह देने वाले हैं भगवान श्री गणेश और भगवान श्री गणेश को प्रसन्न करने के लिये, उनका आशीर्वाद हमेशा साथ रखने के लिये पहना जाता है एक अनमोल रत्न जिसे कहते हैं गणेश रूद्राक्ष। रूद्राक्ष यानि भगवान रूद्र का अक्ष यानि भगवान शिवशंकर के नेत्रों का जल बिंदु। रूद्राक्ष कई तरह के होते हैं। लेकिन मुख्य रूप से यह गौरी शंकर रूद्राक्ष, गणेश रूद्राक्ष और गौरीपाठ रूद्राक्ष माने जाते हैं। इनमें से भगवान गणेश का रूद्राक्ष निर्णय लेने की क्षमता को मजबूत करता है। विद्यार्थियों के लिये तो यह बहुत ही सौभाग्यशाली माना जाता है।

गणेश रूद्राक्ष का महत्व

गणेश रूद्राक्ष विघ्नकर्ता भगवान श्री गणेश जो कि बुद्धि के देवता रिद्धि सिद्धियों के स्वामी माने जाते हैं उन्हीं श्री गणेश का स्वरूप इसे माना जाता है। मान्यता है कि गणेश रूद्राक्ष धारण करने से जातक की बुद्धि पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जिससे जातक अहम निर्णयों को लेने में किसी तरह की दुविधा में नहीं पड़ता। इतना ही नहीं बल्कि यह रूद्राक्ष धारण करने पर जातक के समस्त कष्ट दूर हो जाते हैं व ऐश्वर्य का जीवन भोगते हुए अंत समय मोक्ष को प्राप्त होता है।

कैसे करें गणेश रूद्राक्ष की पहचान

गणेश रूद्राक्ष की विशेष पहचान होती है रूद्राक्ष में भगवान गणेश की आकृति का होना। गणेश रूद्राक्ष में सुंड की तरह का एक उभार देखा जाता है। यह एक बहुत ही दिव्य मनका माना जाता है।

गणेश रूद्राक्ष धारण करने की विधि

गणेश रूद्राक्ष को लाल धागे या सोने अथवा चांदी के तार में धारण किया जाता है। रूद्राक्ष धारण करने के लिये सोमवार का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है। गणेश चतुर्थी के दिन भी इस रूद्राक्ष को धारण करना बहुत ही सौभाग्यशाली व शुभ फलदायी माना जाता है।

हमारी सलाह है कि किसी भी रत्न चाहे मोती हो या रूद्राक्ष को धारण करने से पहले किसी विद्वान ज्योतिषाचार्य से परामर्श अवश्य कर लेना चाहिये। रूद्राक्ष हो या अन्य रत्न धारण करने से पहले अपनी कुंडली जरूर दिखा लेनी चाहिये। क्योंकि रूद्राक्ष या रत्न प्रभावी तभी रहते हैं जब आप उन्हें अपनी कुंडली में ग्रहों की दशा व दिशा के अनुसार धारण करते हैं। यदि आप भी अपनी कुंडली पर ज्योतिषीय परामर्श पाने के इच्छुक हैं तो कृपया यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ कालरात्रि - नवरात्र का सातवाँ  दिन माँ दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की पूजा विधि

माँ कालरात्रि - नव...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है।माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत...

और पढ़ें...
गुरु गोचर 2018-19 : मंगल की राशि में गुरु, इन राशियों के अच्छे दिन शुरु!

गुरु गोचर 2018-19 ...

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर 2018-19 - देव गुरु बृहस्पति 11 अक्तूबर को लगभग 7 बजकर 20 मिनट पर राशि परिवर्तन कर रहे हैं। गुरु का गोचर ज्योतिषशास्त्र में बहुत महत्वपू...

और पढ़ें...
नवरात्रों में कन्या पूजन देता है शुभ फल

नवरात्रों में कन्य...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में ...

और पढ़ें...
माँ महागौरी - नवरात्र का आठवां दिन माँ दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा विधि

माँ महागौरी - नवरा...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के ...

और पढ़ें...
ज्योतिष क्या है?

ज्योतिष क्या है?

ज्योतिषां सूर्यादिग्रहाणां बोधकं शास्त्रम् अर्थात सूर्यादि ग्रह और काल का बोध कराने वाले शास्त्र को ज्योतिष शास्त्र कहा जाता है| इसमें मुख्य रूप से ग्रह, नक्षत्र आदि...

और पढ़ें...