Skip Navigation Links
इस दिशा में दीपक लौ देती है धन लाभ


इस दिशा में दीपक लौ देती है धन लाभ

धार्मिक लोगों की अपने इष्ट देवी-देवताओं में गहरी आस्था होती है। अपने इष्ट को प्रसन्न करने के लिये हर धार्मिक रीति-रिवाज़ को पूरा करने के अपने-अपने विधान भी हैं। हिंदू धर्म में खासकर यह बहुत मायने रखता है। कोई भी पूजा तब तक सफल नहीं मानी जाती जब तक उसे विधिपूर्वक न किया जाये। पूजा अर्चना करते समय दिया जलाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन दियों को इन दीपकों को जलाने की भी एक विधि है। अगर सही दिशा में दीपक की लौ न जलाई जाये तो इसका नकारात्मक प्रभाव भी हो सकता है। आइये जानते हैं इसके फायदे व नुक्सान के बारे में।

कौनसी दिशा में दीपक लौ होती है शुभ?

दीपक सिर्फ दिवाली पर ही नहीं जलाये जाते बल्कि पूजा अर्चना सहित हर मांगलिक कार्यक्रम में दीपक जलाया जाता है। दीपक की लौ सिर्फ रोशनी की प्रतीक नहीं है बल्कि वह अज्ञानता के अंधकार को हटाकर ज्ञान के प्रकाश से जीवन को रोशन करने की प्रतीक है। दरिद्रता के तिमिर का नाश कर खुशियों से जीवन को जगमगा देने की प्रतीक है। नकारात्मकता से चौंधियाये अंधेरे मन में सकारात्मकता के प्रकाश की किरणों की प्रतीक है। इसलिये उसके सही दिशा में होने से ही शुभ फल प्राप्त होते हैं।

आयु वृद्धि के लिये पूर्व दिशा में जलायें दीपक

दीपक की लौ किस दिशा में होनी चाहिये इसके लिये वैसे तो वास्तु शास्त्र में काफी सारे नियम हैं लेकिन यह इस पर भी निर्भर करता है कि आप किस देवता की पूजा कर रहे हैं और उसका वास कौनसी दिशा में है। पूर्व दिशा के बारे में सभी जानते हैं। सूर्योदय के पहली किरण के साथ ही नई आशाओं और उम्मीदों की किरणें भी फूटती हैं। पूर्व दिशा में यदि दीपक की लौ रखें तो इससे आयु में वृद्धि होती है।

धन लाभ के लिये दिये की लौ हो उत्तर में

यदि आप अपने व्यवसाय में लाभ, वेतन में वृद्धि आदि धन लाभ की मनोकामना के लिये दीपक जला रहे हैं तो ध्यान रहे इसकी लौ उत्तर दिशा हो। उत्तर दिशा में दिये की लौ रखना धन वृद्धि के लिये लाभकारी माना जाता है।

पश्चिम और दक्षिण दिशा में दिये की लौ अशुभ

पूर्व और उत्तर दिशा में जहां दिये की लौ आयु और धन में वृद्धि की मनोकामना पूरी करने वाली होती है तो वहीं पश्चिम और दक्षिण में दिये की लौ होना अशुभ भी माना जाता है। पश्चिम दिशा में दिये की लौ दुख:दायी होती है और आपको कष्ट सहने पर मजबूर होना पड़ सकता है। लेकिन दक्षिण में दिये की लौ रखना और भी घातक हो सकता है। इससे व्यक्ति या परिवार को बड़ी हानि उठानी पड़ सकती है यह हानि जान-माल किसी भी भी रूप में हो सकती है।

कुल मिलाकर दीपक या दिया जलाना हर शुभ अवसर पर एक अनिवार्य परंपरा माना जाता है इसलिये दीपक की लौ सही दिशा में अवश्य होनी चाहिये। 

एस्ट्रोयोगी पर आप अपनी कुंडली के बारे में देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अपनी शंकाओं के समाधान हेतु ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

हिंदू पूजा में क्यों इस्तेमाल करते हैं मौली नारियल कपूर को   |   क्या है रत्न धारण करने की सही विधि?   |   जानें रत्न धारण करना कैसे पड़ सकता है मंहगा?

पंचामृत – कौन से हैं पांच अमृत जिनसे होता है अचूक लाभ   |   इन कार्यों से पहले पांव धोने से मिलता है लाभ   |   इस तरीके से करें नमस्कार फिर देखें चमत्कार

हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा   |   पूजा की विधि व महत्त्व   |    स्वस्तिक से मिलते हैं धन वैभव और सुख समृद्धि   |   स्वस्तिक – बहुत ही शुभ होता है यह प्रतीक   

शुभ मुहूर्त - क्या हैं   |   ब्रह्म मुहूर्त – अध्यात्म व अध्ययन के लिये सर्वोत्तम   |   सूर्य नमस्कार से प्रसन्न होते हैं सूर्यदेव   |   क्या है आरती करने की सही विधि

धार्मिक स्थलों पर जाकर क्या मिलता है   |  मंत्र करते हैं सकारात्मक ऊर्जा का संचार   |   गंगा मैया देती हैं जीवात्मा को मोक्ष   |   हिंदू क्यों मानते हैं गाय को माता




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...