1 मुखी रुद्राक्ष

एक मुखी रुद्राक्ष (1 Mukhi Rudraksha) को हमेशा साफ स्थान पर रखना चाहिए। इसे गंदे हाथों से नहीं छुना चाहिए। इसके अलावा वॉशरूम जाने से पहले इसे उतार देना चाहिए। यह भी माना जाता है कि जो लोग एकमुखी रुद्राक्ष धारण करते हैं वे पापकर्मों में संलिप्त नहीं होते हैं क्योंकि यह आपको गलत रास्ते की ओर जाने से रोकता है। आमतौर पर रुद्राक्ष को विशेष लाभ के लिए पहना जाता है इसलिए एक अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श के बाद पहना जाना चाहिए।
आपको बता दें कि एक मुखी रुद्राक्ष में बहुत अधिक ऊर्जा होती है इसलिए इसे शुरुआत में धारण करने पर आपको बेचैनी या चक्कर महसूस हो सकते हैं।


एक मुखी रुद्राक्ष (Ek mukhi Rudraksha) पहनने के लाभ

यह रुद्राक्ष मन को स्पष्टता देता है और आपको ईश्वर से जोड़ता है

इसमें सहस्त्र चक्र का ध्यान रखा गया है जो स्वर्ग और पृथ्वी के बीच की कड़ी का प्रतीक है

एक मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को आध्यात्मिक और भौतिक लाभ प्रदान करता है

यह पहनने वाले की इच्छा को पूरा करता है

यह रुद्राक्षधारी के पापों और पिछले कर्मों को नष्ट कर देता है

यह कुछ दिनों में माइग्रेन को ठीक करने में मदद करता है

यह अवसाद, चिंता और ओसीडी को ठीक करने में मदद करता है

यह न्यूरोटिक विकारों में मदद करता है

यह मन की शांति पाने में मदद करता है

यह एकाग्रता को बढ़ाने में मदद करता है

यह आपको अपनी इंद्रियों पर पूर्ण नियंत्रण रखने में मदद करता है

यह रतौंधी को ठीक करने में मदद करता है

यह श्वसन रोगों को ठीक करने में मदद करता है

यह क्रूर ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने में मदद करता है

विशेष रूप से जन्म कुंडली में सूर्य के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने के लिए पहना जाता है

यह पहनने वाले को महत्वाकांक्षी बनाता है

जब घर में रखा जाता है तो यह पूरे परिवार में शांति और सद्भावना को पैदा करता है

यह जीवन से जटिलताओं को दूर करता है

यह गुस्से को नियंत्रित करने में मदद करता है

रुद्राक्ष धारण करने वाले को नेतृत्व गुणों के साथ और तनाव को दूर करने में मदद मिलती है


एक मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि

एक मुखी रुद्राक्ष को धारण करने के लिए सोमवार का दिन शुभ माना जाता है।
इसे धारण करने से पहले गंगाजल या दूध से शुद्ध करना चाहिए।
सोमवार को सुबह स्नानादि करने के पश्चात रुद्राक्ष को पहनना उत्तम होता है।
पूर्व दिशा में बैठकर इस रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए और ऊँ नम: शिवाय का 108 बार जाप करना चाहिए।
यह भी सलाह दी जाती है कि एकमुखी रुद्राक्ष को सोने या चांदी की माला के साथ पहनना चाहिए या इसे काले या लाल धागे के साथ पहनना चाहिए।

नोट: सुनिश्चित करें कि रुद्राक्ष आपके शरीर से सीधे संपर्क में रहे, ताकि इसका प्रभाव आपको पूर्णतया दिखाई दे।

अगर आप भी रुद्राक्ष पहनना चाहते हैं और जीवन में सभी बाधाओं को दूर करना चाहते हैं? तो एस्ट्रोयोगी पर सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से संपर्क करें जो आपको सभी प्रकार के ज्योतिषीय उपायों और भविष्यवाणियों के बारे में मार्गदर्शन करेंगे।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

खर मास - क्या करें क्या न करें

Chat now for Support
Support