16 मुखी रुद्राक्ष

सोलह मुखी रुद्राक्ष (16 Mukhi Rudraksha) को भगवान राम का आशीर्वाद प्राप्त है, जो भगवान विष्णु का अवतार भी हैं। इस रुद्राक्ष में 16 प्राकृतिक रेखाएं होती हैं। यह रुद्राक्ष नेपाल औ जावा में आमतौर पर पाया जाता है। यह मनका मुख्य रूप से पहनने वाले को सौभाग्य और समृद्धि देने के लिए जाना जाता है। इसे जय रुद्राक्ष भी कहा जाता है, यह व्यक्ति को किसी भी प्रकार की चोरी या धोखा देने से बचाता है। इस रुद्राक्ष को महाकाल द्वारा भी आशीर्वाद प्राप्त है, जो व्यक्ति को मृत्यु के भय से दूर करने और जीवन को पूर्णता जीने के लिए जाना जाता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, ग्रह मनुष्यों के जीवन को प्रभावित करते हैं। चूंकि ग्रह हमेशा चलायमान होते हैं, ज्योतिष के संदर्भ में, यह गोचर समय-समय पर एक राशि से दूसरी राशि में होता है। कुछ ग्रहों की चाल धीमी होती है तो कुछ ग्रहों की चाल तेज होती है। ये सभी ग्रह हर गोचर के साथ नकारात्मक और सकारात्मक रुप से अपने व्यवहार को बदलते रहते हैं। इसे समझने के लिए किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए और क्रूर ग्रहों के लिए प्रभावी उपायों की खोज करनी चाहिए। वह आपकी जन्मकुंडली का अध्ययन करेंगे और आपको उचित सलाह देंगे। एस्ट्रोयोगी पर 1000 से अधिक अनुभवी ज्योतिषी हैं, जो आपकी सभी समस्याओं और जीवन में कठिन समय से निपटने में मदद कर सकते हैं। आप अपनी समस्याओं का हल पाने के लिए अभी यहां पर क्लिक करें।

16 मुखी रुद्राक्ष का अधिपति ग्रह केतु है और जिन लोगों की कुंडली में केतु की स्थिति कमजोर होती है उनके लिए 16 मुखी रुद्राक्ष इस पर काम करने और जीवन पर इसके दुष्प्रभाव को कम करने में मदद करता है। ऐसा माना जाता है कि 16 मुखी रुद्राक्ष भी भगवान महामृत्युंजय शिव का आशीर्वाद है और एक शक्तिशाली और दुर्लभ मनका है जो चंद्रमा द्वारा शासित है। यह एक सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखने में मदद करता है, परिवेश में सकारात्मकता और ऊर्जा को बढ़ाता है। जिस घर के पूजास्थल में 16 मुखी रुद्राक्ष की पूजा होती है, वहां पर आग लगने, चोरी और डकैती जैसी समस्याएं पैदा नहीं होती हैं।


16 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे

यह किसी को खोने के डर को दूर करने में मदद करता है।

यह आपको अन्यायपूर्ण दोषों से बचाने में मदद करता है।

यह किसी भी तरह के डर को दूर करने में मदद करता है।

यह अदालती मामलों और कानूनी मुद्दों में जीत हासिल करने में मदद करता है।

यह पारिवारिक बंधनों को मजबूत करने और प्रसिद्धि का आश्वासन देने में मदद करता है।

यह धोखा और चोरी से बचाने में मदद करता है।

यह आत्मसम्मान को बढ़ाने में मदद करता है।

यह मृत्यु के भय को नष्ट करने में मदद करता है।

यह मूलधारा चक्र को बढ़ाने का काम करता है।

यह पहनने वाले को सादगीपूर्ण और व्यवाहरिक बनाता है।

यह सांसारिक दायित्व को पूरा करने में मदद करता है।

यह शांति और साहस के साथ चुनौतियों का सामना करने में मदद करता है।

यह तीव्र और पुरानी बीमारियों से उबरने में मदद करता है।

यह गुर्दे से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है।

यह भावनात्मक अस्थिरता का इलाज करने में मदद करता है।

यह पहनने वाले के पास भटकने से नकारात्मक और बुरे मंत्रों को दूर रखता है।

यह पहनने वाले को दुर्घटनाओं, दुर्भाग्य और ऋणों से बचाता है।

यह क्रूर चंद्रमा के दुष्प्रभाव को कम करता है।

यह व्यक्ति को तर्कसंगत रूप से सोचने और सुरक्षित महसूस करने में मदद करता है।

यह जीवन के सभी क्षेत्रों में व्यक्ति की क्षमता को बढ़ाता है।


16 मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि

16 मुखी रुद्राक्ष (16 Mukhi Rudraksha) पहनने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि यह एक विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा सक्रिय है, तभी आप इसकी शक्ति के लाभों को प्राप्त कर पाएंगे। इसके अलावा, अपने खुद के पैसे से मनका खरीदने का ध्यान रखें अन्यथा यह अपने उद्देश्य को हल नहीं करेगा और किसी भी साधारण आभूषण के बराबर होगा। ज्योतिषी की सलाह के बिना मनका न पहनें क्योंकि यह आपके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है इसलिए बिना सलाह के रुद्राक्ष धारण न करें।

पहनने का दिन: यह सलाह दी जाती है कि रुद्राक्ष पहनने के लिए सोमवार शुभ दिन है।

पहनने से पहले क्या करें: सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, साफ कपड़े पहनें और फिर पूर्व दिशा की ओर मुख करके ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जाप करते हुए रुद्राक्ष को धारण करें। आप इसे गले में या ब्रेसलेट के रूप में पहन सकते हैं जो आपके ज्योतिषी के सुझाव के आधार पर होता है।

धातु का इस्तेमाल किया: आप मनके को चांदी या सोने में जड़कर और लाल धागे में पिरोकर पेंडेंट के रूप में धारण कर सकते हैं।


एस्ट्रो लेख

चंद्र ग्रहण 202...

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के औ...

और पढ़ें ➜

चंद्र ग्रहण का ...

साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण(chandra grahan 2020) इस बार 5 जून शुक्रवार को पड़ेगा। चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण वृश्चि...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ पूर्णिम...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान दान का बहुत अध...

और पढ़ें ➜

निर्जला एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु क...

और पढ़ें ➜