14 मुखी रुद्राक्ष

चौदह मुखी रुद्राक्ष (14 Mukhi Rudraksha) भगवान शिव और बजरंगबली का आशीर्वाद है। शास्त्रों में इस मनका को देवमणि या महाशनि के रूप में माना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इसका निर्माण भगवान शिव की तीसरी आंख से गिरे अश्रु से हुआ था। जिस तरह भगवान शिव की तीसरी आंख खुलने से सभी बुरी शक्तियों का नाश हो जाता है वैसे ही इस रुद्राक्ष को पहनने वाले के जीवन में सभी नकारात्मक शक्तियां खत्म हो जाती हैं। यह रुद्राक्ष सहज दिमाग पर काम करता है ताकि व्यक्ति सही निर्णय ले सके। यह जीवन में सफलता और समृद्धि प्राप्त करने में मदद करता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, हमारा वर्तमान जीवन हमारे पिछले जन्म के कर्मों से जुड़ा हुआ है और ग्रहों की चाल से भी प्रभावित है। यह कहा जाता है कि कुछ लोग अपने पिछले जन्म के कर्मों का भुगतान वर्तमान में करते हैं। जिसके कारण उन्हें वर्तमान जीवन को बेहतर बनाने के लिए बहुत कठिनाई और समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसलिए, 14 मुखी रुद्राक्ष पहनने से पिछले कर्मों का ध्यान रखा जाता है और इसे सही माना जाता है ताकि आप अपने वर्तमान जीवन पर ध्यान केंद्रित कर सकें और एक सुखद और सुंदर भविष्य बना सकें। इस रुद्राक्ष पर शनि और मंगल ग्रह की कृपा होती है। यदि आपकी कुंडली में शनि या मंगल कमजोर हैं तो आप 14 मुखी रुद्राक्ष को धारणकर उनके दुष्प्रभाव को दूर कर सकते हैं।

आपके जीवन में ग्रहों के प्रभाव और वे आपके जीवन को कैसे प्रभावित करते हैं और इस संदर्भ में आप एस्ट्रोयोगी के अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से संपर्क कर सकते हैं। यह कुशल ज्योतिषी आपकी जन्मकुंडली चार्ट को देखकर दो दशकों से सेवा प्रदान कर रहे हैं। 14 मुखी रुद्राक्ष पहनने से प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ दोनों में बेहतर निर्णय लेने के लिए आपके अंतर्ज्ञान कौशल में सुधार होता है। यह मनका निर्माण, उच्च प्राधिकरण, पेशवरों, सट्टा और लेन-देन करियर जैसे व्यवसायों में लोगों की मदद करता है। यह मनका सबसे कीमती और दिव्य में से एक माना जाता है। यह पहनने वाले को ताकत, साहस, जीत और सफलता का वादा करता है। यह शरीर में गुरु चक्र को खोलने में मदद करता है और किसी भी प्रकार की नकारत्मकता को दूर रखता है।


14 मुखी रुद्राक्ष पहनने के लाभ

यह स्वयं से जुड़ने और अंतर्ज्ञान की आवाज को मजबूत करने में मदद करता है

यह पहनने वाले को किसी भी प्रकार की नकारात्मक और बुरी प्रथाओं से बचाती है और आध्यात्मिक सार प्रदान करती है

यह शरीर में मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है

यह पुरानी बीमारियों जैसे गठिया, मोटापा आदि को ठीक करने में मदद करता है।

यह पहनने वाले की समस्याओं को हल करने के लिए स्थिर दृष्टिकोण का चयन करने में मदद करता है

यह धारक की क्षमताओं को पहचानने में मदद करता है

यह रुद्राक्षधारी को मजबूत इच्छा शक्ति और वीरता प्रदान करता है

यह जीवन में मंगल दोष के प्रभाव को कम करने में मदद करता है

यह शनि की साढ़े साती के प्रभाव को कम करने में भी मदद करता है

यह निर्णय लेने की क्षमता को बढ़ाता है

यह पहनने वाले को भय और दर्दनाक स्थितियों से दूर रखने में मदद करता है

यह तंत्रिका विकारों के इलाज में मदद करता है

इसे धारण करने वाला कभी जेल नहीं जाता है

यह स्त्रीरोग संबंधी समस्याओं के इलाज में भी मदद करता है

यह हकलाने को सही करने में मदद करता है

यह लोगों को सही तरीके से आंकने में मदद करता है

यह दुख, चिंताओं, भय से बचाता है


14 मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि

14 मुखी रुद्राक्ष (14 Mukhi Rudraksha) में 14 विद्याओं, 14 लोकों और 14 इंद्रों का स्वरूप भी माना गया है। शनि की साढ़े साती, महादशा या शनि पीड़ा से मुक्ति हेतु इस रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए। किसी भी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले सुनिश्चित कर लें कि वह किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा अभिमंत्रित किया गया हो अन्यथा उसका कोई फायदा नहीं है। इसके अलावा याद रखें कि इसे अपने पैसों से ही खरीदें वरना आपको इसका लाभ प्राप्त नहीं होगा और बिना शक्ति के वह किसी अन्य साधारण गहने की तरह होगा।

किसी भी रुद्राक्ष को पहनने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि वह किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा ही उर्जित किया गया हो अन्यथा उसका कोई फायदा नहीं है। इसके अलावा, यह याद रखें कि इसे अपने पैसे से न खरीदें क्योंकि यह आपको लाभ नहीं दे पाएगा और बिना किसी शक्ति के किसी अन्य साधारण गहने की तरह होगा।

पहनने से पहले क्या करें: सुनिश्चित करें कि आप नहाएं और साफ-सुथरे कपड़े पहनें और तत्पश्चात पूजास्थल को साफ करें और रुद्राक्ष को गंगाजल से शुद्ध करें। फिर इसे गले से लगाकर “ऊँ नम: शिवाय " मन्त्र को 108 बार जपें।

धातु का इस्तेमाल: इस रुद्राक्ष की माला को रेशम या ऊन के धागे में पिरोकर चांदी या सोने में धारण करें।


एस्ट्रो लेख

चंद्र ग्रहण 202...

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के औ...

और पढ़ें ➜

चंद्र ग्रहण का ...

साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण(chandra grahan 2020) इस बार 5 जून शुक्रवार को पड़ेगा। चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण वृश्चि...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ पूर्णिम...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान दान का बहुत अध...

और पढ़ें ➜

निर्जला एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु क...

और पढ़ें ➜