13 मुखी रुद्राक्ष

तेरह मुखी रुद्राक्ष (13 Mukhi Rudraksha) व्यापक रूप से सभी इच्छाओं को पूरा करने के लिए जाना जाता है। इस रुद्राक्ष को भगवान कामदेव का आशीर्वाद प्राप्त है, जो पहनने वाले को दैवीय करिश्मा और अपार शक्ति प्रदान करता है। इसे भगवान इंद्र और महालक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त है जो व्यक्ति को अभिव्यक्त करता है। यह शुक्र और चंद्रमा दोनों द्वारा शासित है और इस मनके की सतह पर 13 प्राकृतिक रेखाएं होती हैं। यह उन व्यवसायों के लोगों के लिए अच्छा है जहाँ उन्हें लोगों को आकर्षित करने और उनसे लाभ लेने की आवश्यकता होती है। यह पहनने वाले को सांसारिक सुख देने में मदद करता है। यह व्यक्ति के विचारों, भावनाओं और अवचेतन को साफ करने की दिशा में काम करता है। आध्यात्मिक पूर्ति चाहने वालों के लिए, यह सबसे अच्छा तरीका है, क्योंकि यह आपकी आत्मा को विश्व को संचालित करने वाली सार्वभौमिक ऊर्जा से जोड़ता है।

यह पहनने वाले की इच्छा को पूरा करने में मदद करता है और व्यक्ति को उसके सपनों को जीने के लिए भ्रम को वास्तविकता में परिवर्तित करता है। यह व्यक्ति में चुंबकत्व और उनके प्रति लोगों को आकर्षित करने के लिए आकर्षण को बढ़ाता है। यह व्यक्ति को जीवन में सही रास्ता चुनने और जो वे चाहते हैं उसे प्राप्त करने में मदद करता है। 13 मुखी रुद्राक्ष उन लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण है जिन्होंने कड़ी मेहनत और समर्पण के बावजूद भी जीवन में अच्छे पलों के अभाव को महसूस किया और सुख, विलासिता और समृद्धि के हकदार हैं। इसके लाभ 6 मुखी रुद्राक्ष के समान हैं।

रत्न की तरह, रुद्राक्ष भी ग्रहों द्वारा शासित होता है, जो उन्हें ग्रहों के दुष्प्रभाव का इलाज करने के लिए रत्न के समान भूमिका निभाते हैं। जन्म कुंडली में ग्रहों की स्थिति के बारे में एक विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श करना आपके लिए उचित रहेगा कि कौन सा रुद्राक्ष आपके लिए सबसे अच्छा है और अधिक प्रभावी होगा।

इसके लिए आप एस्ट्रोयोगी तक पहुंचें, जहां पर जीवन के सभी पहलुओं में ज्योतिष से संबंधित मामलों में लोगों की सहायता करने के लिए दो दशकों से अनुभवी ज्योतिषियों का एक पैनल मौजूद है। आपको बस एक कॉल करने की देरी है।


13 मुखी रुद्राक्ष पहनने के लाभ

यह महिलाओं के प्रजनन अंगों को सक्रिय करने और इससे जुड़ी सभी समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है

यह पहनने वाले को जीवन का आनंद लेने में मदद करता है

यह निसंतान दंपत्तियों को संतानप्राप्ति की आशीर्वाद देता है।

यह मानसिक विकारों को ठीक करने में मदद करता है

यह मंगल और शुक्र ग्रह के प्रभाव को दूर करने में मदद करता है

यह कुंडलिनी को जगाने में मदद करता है

यह पुराने पीठ दर्द से उबरने में मदद करता है

यह पहनने वाले को आराम और आध्यात्मिक उन्नयन प्रदान करने में मदद करता है

यह सफलता और खुशी का आश्वासन देता है

यह पहनने वाले पर एक नज़र रखता है और उन्हें पाप कर्मों और विचारों से दूर रहने में मदद करता है

यह चुनौतियों का सामना करने और विजयी होने में मदद करता है

यह धारक की मानसिकता को बढ़ावा देने और खुले दिमाग से सोचने में मदद करता है


13 मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि

13 मुखी रुद्राक्ष (13 Mukhi Rudraksha) पहनने से पहले सुनिश्चित करें कि आप इसे पहनने का अधिकतम लाभ हासिल करने के लिए किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से अभिमंत्रित कराकर इसे प्राप्त करें। आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप अपने पैसे का रुद्राक्ष खरीदें। यदि आप ऐसा करते हैं, तो यह उस तरह से काम करेगा जैसा आप परिणाम चाहते हैं।

पहनने का दिन: 13 मुखी रुद्राक्ष पहनने के लिए सोमवार का दिन शुभ माना जाता है। पहनने से पहले आप को कच्चे दूध या गंगाजल से इस रुद्राक्ष को परिमार्जित करना चाहिए। इसके बाद “ॐ ह्रीं नमः”मंत्र का जाप करना चाहिए। यह भी सलाह दी जाती है कि 13 मुखी रुद्राक्ष को सोने या चांदी की माला के साथ पहनना चाहिए या इसे लाल धागे के साथ पहनना चाहिए। तुला राशि के जातकों के लिए यह मनका लाभकारी होता है।

नोट: सुनिश्चित करें कि रुद्राक्ष आपके शरीर से सीधे संपर्क में रहे, ताकि इसका प्रभाव आपको पूर्णतया दिखाई दे।

अगर आप भी रुद्राक्ष पहनना चाहते हैं और जीवन में सभी बाधाओं को दूर करना चाहते हैं? तो एस्ट्रोयोगी पर सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से संपर्क करें जो आपको सभी प्रकार के ज्योतिषीय उपायों और भविष्यवाणियों के बारे में मार्गदर्शन करेंगे।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

एस्ट्रो लेख

सावन - शिव की पूजा का माह है श्रावण

गुरु पूर्णिमा 2020 - गुरु की पूजा करने का पर्व

चंद्र ग्रहण 2020 - कब है चंद्रग्रहण?

आषाढ़ पूर्णिमा 2020 – जानें गोपद्म व्रत व पूजा की विधि

Chat now for Support
Support