मीन राशि में बुध का गोचर - बुध बनाएंगे आपको प्रबुद्ध!

bell icon Wed, Mar 16, 2022
एस्ट्रो डी राणा एस्ट्रो डी राणा के द्वारा
मीन राशि में बुध का गोचर - बुध बनाएंगे आपको प्रबुद्ध!

ज्योतिष बुध जातक के व्यवहार को निर्धारित करता है, इसके साथ ही यह हमारे वाणी को भी नियंत्रित करता है। बुध को बुद्धि का भी कारक ग्रह कहा जाता है। हम अपने दैनिक दिनचर्या में रणनीतियों और व्यावहारिकता का उपयोग कैसे करते हैं, यह सब बुध ग्रह के प्रभाव पर निर्भर करता है। किसी ग्रह की दृष्टि या गोचर उसके स्थान के अनुसार परिणाम देता है। सौर मंडल में बुध, सूर्य का सबसे निकटतम ग्रह है। बुध पृथ्वी और वायु तत्व की राशियों पर अच्छा प्रभाव डालता है और अग्नि तत्व की राशियों पर बुध का प्रभाव औसत होता है। यह वैदिक ज्योतिष के अनुसार कन्या राशि में उच्च का और पश्चिमी ज्योतिष के अनुसार कुंभ राशि और मीन राशि में नीच का होता है।

बुध का मीन राशि में गोचर आपके स्वभाव को कैसे प्रभावित करेगा? जानने के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से। परामर्श करने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

वैदिक ज्योतिष में बुध जीवन में बुद्धि और कुशाग्रता का ग्रह है। यह हमारे सचेत भाग को प्रभावित करता है। बुध हमेशा पृथ्वी तत्व राशि में सहज महसूस करता है क्योंकि यहां बुध अपनी ऊर्जा का बेहतर तरीके से उपयोग करता है।

मीन राशि जल तत्व की राशि है और ये हमारे अवचेतन मन से जुड़ी हुई है, जो हमारे भावनात्मक व्यवहार से सीधा संबंध रखती है। यह हमारे व्यक्तित्व के छिपे हुए हिस्से की प्रतिनिधित्व करती है। 

बुध परिस्थितियों का निरीक्षण करने वाला ग्रह है। मीन राशि के जातकों को गोपनीयता और गहरी सोच की जरूरत होती है, इसलिए ये जातक चेतन और अवचेतन सोच में असंतुलन के कारण बहुत अधिक मानसिक दबाव और आत्मविश्वास की कमी महसूस करते हैं। यही मुख्य कारण है कि ज्योतिष में बुध को इस राशि में नीच का कहा जाता है, क्योंकि यह मीन राशि में ठीक से कार्य नहीं कर पाता है। यह आत्मनिरीक्षण अधिक करता है, यही कारण है कि इस दौर में हमें हर क्षेत्र में जबरदस्त मानसिक दबाव देखने को मिलता है। विशेषकर छात्रों, लेखाकार, सीए, बिक्री और विपणन व्यक्तियों पर इसका गहरा प्रभाव पड़ता है।

24 मार्च 2022 को सुबह 10 बजकर 55 मिनट पर बुध मीन राशि में गोचर करने जा रहे हैं और यहां बुध 8 मार्च तक रहेंगे। मिथुन, कन्या, धनु और मीन राशि के जातकों के लिए बुध की वर्तमान स्थिति के कारण संघर्ष का सामना करना पड़ सकता है। कर्क, वृश्चिक राशि के लोग आरामदायक स्थिति में रहेंगे। मेष, सिंह, तुला और कुंभ राशि के जातक कई स्थितियों में निष्क्रिय रहेंगे और इन्हें परिस्थितियों के साथ तालमेल बिठाने की जरूरत पड़ेगी। वृष और मकर राशि के जातकों को लाभदायक अवसर मिल सकते हैं।

मीन राशि में बुध का गोचर अन्य राशियों को कैसे प्रभावित करेगा 

बुध का मीन राशि में गोचर कई राशियों को बेहद गंभीर रूप से प्रभावित करने वाला है। ऐसे में कुछ राशि के जातकों को इस गोचर में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आइये आपकी राशि के लिए इस गोचर के प्रभाव को जानें -

मेष राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: महत्वपूर्ण निर्णय लेने से बचें

बुध आपके द्वादश भाव में गोचर करेगा, यहां मेष राशि के जातकों को चिंताएं घेर सकती हैं। इसके साथ ही इस गोचर के दौरान मेष जातकों को उचित मात्रा में नींद व आराम की आवश्यकता होगी। क्योंकि बुध ग्रह चेतना व व्यवहारिक दृष्टिकोण रखने वाला ग्रह है। यह आपके भाव व निर्णय लेने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। इस स्थिति में बुध आपके जन्म चंद्रमा के साथ युति करेगा। जो आपके लिए सही नहीं कहा जा सकता है।

उपाय- बुधवार के दिन अनाथालय में कुछ सब्जियां दान करें।

वृषभ राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: आपके लिए समय सही है

बुध आपके ग्यारहवें भाव में गोचर करने जा रहे हैं। इस गोचर के दौरान आप अपने दोस्तों के साथ किसी तरह का भावनात्मक लगाव महसूस करेंगे, साथ ही आपको किसी तरह का भावनात्मक समर्थन भी मिलेगा। आपका जन्म का चंद्रमा गोचर बुध के लिए अच्छा पहलू बना देगा, जो आपके बौद्धिक स्तर को बढ़ाएगा।

उपाय- घोड़ों को भीगे हुए चने के दाल खिलाएं।

मिथुन राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: समय संघर्षमय है

बुध आपके दसवें भाव में गोचर करेंगे। यह ऐसी स्थिति होगी जहां आपकी सोचने की प्रक्रिया क्षमता से अधिक काम करेगी, लेकिन अच्छी बात यह है कि आपको मनोवांछित फल भी मिलेगा, यहां बुध आपके जन्म चंद्रमा के साथ है और आपको अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए संघर्षमय वातावरण देगा। पेशे में भी आपको अपने साबित करने के लिए परिश्रम करना होगा। समय आपके पक्ष में है।

उपाय- हरी पत्तेदार सब्जी का सेवन करें। यह आपके लिए लाभप्रद है।

कर्क राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: छात्रों के लिए समय अनुकूल है

बुध आपके नौवें भाव में गोचर करेगा, कुछ भी सीखने के लिए यह सबसे अच्छा समय है। इस अवधि में परीक्षा देने जा रहे छात्रों के लिए सफलता की संभावना प्रबल है। आपको अच्छी खबर मिल सकती है, क्योंकि समय अनुकूल है। आपके पेशेवर क्षेत्र में आपकी विशेषज्ञता का अच्छी तरह से उपयोग किया जाएगा, क्योंकि बुध आपके जन्म चंद्रमा के साथ सही स्थिति में आ रहे हैं।

उपाय- गरीब छात्रों को किताबें बांटें।

सिंह राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: धैर्य रखने का समय है

बुध आपके अष्टम भाव में गोचर करेगा, सिंह जातक आपकी दिनचर्या अधिक व्यस्त रहेगी और परिस्थितियों के साथ अधिक समायोजन करने की आवश्यकता होगी। आपको पता होना चाहिए कि आप अपना पैसा कहां लगा रहे हैं क्योंकि आपका पैसा फंस सकता है। यहां बुध आपकी जन्म के चंद्रमा से युति करेगा और यह कठिन पहलू है। धैर्य से काम लें।

उपाय- गाय को पालक खिलाएं।

कन्या राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: वैवाहिक जीवन में संतुलन बनाएं

बुध आपके सप्तम भाव में गोचर करेगा। यहां जन्म चंद्रमा के साथ बुध विपरीत पहलू बनाएगा। यह आपको अलग-अलग स्थिति में दुविधा में डाल सकता है। अपने वैवाहिक जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए आप समस्याओं का सामना कर सकते हैं। इसके साथ ही आप किसी भी स्थिति में असहज महसूस करेंगे। कुछ शीतलता और अलगाव आप में, आपके साथी द्वारा आंका जा सकता है।

उपाय- अनामिका उंगली में तांबे की अंगूठी धारण करें।

तुला राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: वित्त के मामले में सावधान रहें

बुध आपके छठे भाव में गोचर करेगा। तुला जातकों के लिए यह गोचर अप्रत्याशित धन हानि का कारण बन सकता है। इसके साथ ही आपकी नौकरी भी असुरक्षित हो सकती है। असहज भावना भी इस अवधि का हिस्सा हो सकती है। आपको अपनी दिनचर्या में संतुलन बनाए रखना होगा, अन्यथा आपको कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय- इस दौरान ज्यादा फास्ट फूड खाने से बचें।

वृश्चिक राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: समय अनुकूल है

बुध आपके पंचम भाव में गोचर करेगा, यहां बुध आपके जन्म चंद्र पर गोचर करेगा और आप इस अवधि के दौरान शेयर बाजार में अच्छा पैसा कमा सकते हैं। लंबे समय के बाद आप आराम महसूस करेंगे और अपने बच्चों के साथ पिकनिक पर भी जा सकते हैं। कुल मिलाकर यह गोचर आपके लिए अच्छा रहने वाला है।

उपाय- तांबे के पात्र में प्रतिदिन सूर्य को जल अर्पित करें।

धनु राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: समय सावधान रहने का है

बुध आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेगा, यहां बुध आपके जन्म चंद्रमा के साथ विपरीत पहलू बनाएगा। यह आपके घर के वातावरण में अनावश्यक परेशानी पैदा करेगा। आपको अपने चाचा या रिश्तेदारों के साथ संपत्तियों के लिए लड़ाई का सामना करना पड़ सकता है। परिवार के साथ छुट्टियां बिताने की कोशिश करें। समय सावधान रहने का है। सोच समझकर निर्णय लें।

उपाय- किसी जरूरतमंद को वस्त्र दान करें।

मकर राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: लक्ष्य को प्राप्त करने का समय

बुध आपके तीसरे भाव में गोचर करेगा, आपके जन्म के चंद्रमा से यह अस्त होगा। बुध आपके वार्षिक लक्ष्य को पूरा करने व इसके लिए योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेगा। इसके साथ ही यह आपको आत्मविश्वास देगा। सेल्स पर्सन को अपने वार्षिक लक्ष्यों को प्राप्त करने में आसानी होगी। अच्छा लाभ मिलेगा।

उपाय- आपको अपने पर्स में मोर का पंख रखना चाहिए।

कुंभ राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: वित्त प्रबंधन करने का समय

बुध आपके दूसरे भाव में गोचर करेगा, जन्म के चंद्रमा के साथ युति करेगा। जो आपके लिए कुछ खास नहीं रहने वाला है। मासिक बजट बनाए रखने में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आप असहज महसूस कर सकते हैं। आपका धन अटक सकता है। इसलिए किसी को ऊधार देने से पहले सोच विचार कर लें। इस गोचर के दौरान अपनी नकदी व्यवस्था बनाए रखें, ताकि घर में आपकी दैनिक दिनचर्या और ज़रूरतें प्रभावित न हो।

उपाय- परिजनों को कुछ आर्थिक सहायता दें।

मीन राशि पर बुध गोचर का प्रभाव: मन पर नियंत्रण रखने का समय

बुध आपके प्रथम भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपके पास कोई भी कदम उठाने के लिए बहुत अच्छे विचार और विकल्प हो सकते हैं लेकिन असुरक्षा की भावना भी आपको घेर सकती है। मेडिटेशन करने की जरूरत है अन्यथा आपकी नींद के चक्र में गड़बड़ी आ सकती है। जिसका आप पर गहरा असर पड़ेगा। यहां आपका जन्म चंद्रमा बुध के साथ युति करेगा और यह स्थिति आपको और अधिक भ्रमित करेगी।

उपाय- अपने आहार में एल्कलाइन आधारित भोजन को शामिल करें।

नोट-  यह गोचर राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन पर आधारित है। यह आपके कुंडली के आधार पर बदल सकती है। 

 

✍️लेखक - डी राणा

व्यक्तिगत गोचर फल जानने के लिए आप देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डी राणा से बात कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

यह भी पढ़ें:- होलिका दहन 2022 | होली 2022

chat Support Chat now for Support
chat Support Support