बुध का धनु राशि में गोचर 2022, जानें किन राशियों को बनाएगा मालामाल

bell icon Thu, Nov 24, 2022
एस्ट्रो नैंसी एस्ट्रो नैंसी के द्वारा
Mercury Transit 2022: बुध का धनु राशि में गोचर, जानें किन राशियों को बनाएगा मालामाल

Budh Gochar 2022: 3 दिसंबर को में बुद्धि, तर्क और मित्र के कारक बुध, धनु राशि में गोचर कर रहे हैं। यह गोचर प्रत्येक व्यक्ति के जीवन को अलग-अलग ढंग से प्रभावित करेगा। इसकी सहायता से आप अनुमान लगा सकते हैं कि आपका आने वाले समय कैसा होगा और आप उसका सामने कैसे करेंगे। जानें सभी 12 राशियों के जातकों को ये किस प्रकार से प्रभावित करेगा।   

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, बुध को ग्रहों का युवराज माना जाता है, जो किसी भी जातक की कुंडली में बुद्धि, ज्ञान, अच्छी वाणी और सफलता का प्रतिनिधित्व करते हैं। बुध ग्रह, नसों के कारक हैं। इस प्रकार ये वाणी और संचार के साथ-साथ बुद्धि, याद रखने की और सीखने की क्षमता को नियंत्रित करते हैं। इस ग्रह की मित्रता सूर्य व शुक्र से होती है जबकि मंगल और चंद्रमा से इसकी शत्रुता रहती है। बुध इस महीने धनु राशि में गोचर कर रहे हैं। बुध, धनु राशि के जातकों की कुंडली के नौवें भाव में विराजमान होंगे। धनु एक पुल्लिंग और द्विस्वभाव राशि होती है। वहीं बुध ग्रह का भी दोहरा स्वभाव होता है। धनु राशि धन, प्रेरणा, सौभाग्य और बुद्धि का प्रतिनिधित्व करती है। इस राशि के स्वामी बृहस्पति होते हैं जो दार्शनिकों, सलाहकारों और शिक्षकों का प्रतिनिधित्व करते हैं। धनु राशि में बुध का गोचर(Mercury Transit in Sagittarius 2022), इस राशि के जातकों की कम्युनिकेशन स्किल्स को सकारात्मक रूप से प्रभावित करेगा। हिन्दू पंचांग के अनुसार, बुध 3 दिसंबर 2022, सुबह 6:56 बजे धनु राशि में गोचर करेंगे। बुध, 28 दिसंबर 2022 को मकर राशि में प्रवेश करने से पहले 27 दिसंबर 2022 तक धनु राशि में ही विरजमान रहेंगे।

क्या आप ज्योतिषीय परामर्श के लिए एक अच्छे ज्योतिषी की खोज में हैं ? अगर हां तो अभी संपर्क करें बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से केवल एस्ट्रोयोगी पर

आइये जानते हैं कि शुक्र के धनु राशि में गोचर का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा? 

बुध के धनु राशि में गोचर का मेष राशि पर प्रभाव 

बुध, मेष राशि के जातकों की कुंडली के तीसरे और छठवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर (Budh Dhanu Rashi Gochar ) के दौरान बुध, मेष राशि के नौंवे भाव को प्रभावित करेंगे। इस राशि का नौंवा भाव आध्यात्मिकता, व्यापक यात्रा, पिता और भाग्य का प्रतिनिधित्व करता है।

बिजनेस- इस दौरान आप अपने बिजनेस को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाने के लिए आवश्यक प्रयास करेंगे। इसके साथ ही आपको बिजनेस के सिलसिले में लंबी यात्रा भी करनी पड़ सकती है।

नौकरी- इस गोचर के दौरान आपको नौकरी बदलने के कई अच्छे मौके मिलेंगे। आपको मनचाही जगह पर नौकरी में ट्रांसफर का अवसर भी मिल सकता है।

शिक्षा- अगर आप हायर स्टडीज करना चाहते हैं तो ये समय आपके लिए अनुकूल होगा। हायर स्टडीज की प्रतियोगिता में भी आप सफलता हासिल करेंगे।

लव- आपकी लव रिलेशनशिप इस समय सामान्य रहेगी। हालांकि रिश्तों में कभी-कभी विवाद भी हो सकता है।

उपाय- जरूरतमंद लोगों को अन्न दान करें।

बुध के धनु राशि में गोचर का वृषभ राशि पर प्रभाव

वृषभ राशि के जातकों की कुंडली में बुध, दूसरे और पांचवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, वृषभ राशि के आठवें भाव को प्रभावित करेंगे। किसी जातक की कुंडली का दूसरा भाव धन, परिवार व वित्त से जबकि पांचवां भाव प्यार, रिश्ते, भावनाओं व बच्चों से जुड़ा होता है। वहीं आठवां भाव अचानक लाभ और हानि का प्रतिनिधित्व करता है।

बिजनेस- इस गोचर के दौरान आपको धन हानि हो सकती है। यह आपके वित्त के लिए अच्छा समय नहीं होगा। इस कारण इस समय किसी भी प्रकार के इन्वेस्टमेंट से बचने का प्रयास करें। हालांकि, इस गोचर के दौरान लॉन्ग टर्म में स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट किया जा सकता है।

नौकरी- इस गोचर के दौरान, आपको अपने नए एम्प्लॉयर से पुष्टि करने के बाद ही अपनी वर्तमान नौकरी से इस्तीफा देना चाहिए। यह अवधि आपको करियर के लिए कुछ खास अच्छे अवसर प्रदान नहीं करती है।

शिक्षा- जो लोग रिसर्च लेवल की शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं, वे सफल होंगे। वहीं जो लोग प्रतियोगी परीक्षा दे रहे हैं, उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहेगा।

लव- इस दौरान आपको धैर्य से काम लेना चाहिए। अगर आपकी अपने पार्टनर से कहासुनी होती है या आप अपने पार्टनर से कुछ अपेक्षाएं रखते हैं तो ये समय आपके लिए अनुकूल नहीं रहेगा।

उपाय- ट्रांसजेंडर लोगों का आशीर्वाद लें और उन्हें कुछ धन का भी दान करें।

बुध के धनु राशि में गोचर का मिथुन राशि पर प्रभाव

मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में बुध, दूसरे और पांचवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, मिथुन राशि के सातवें भाव में प्रवेश करेंगे। किसी भी जातक की कुंडली का पहला भाव, जिसे लग्न भी कहा जाता है, स्वाभिमान, व्यक्तित्व और आत्म-छवि से जुड़ा होता है। चतुर्थ भाव आराम, माता, वित्त, संपत्ति और वाहन के लिए होता है। वहीं सप्तम भाव जीवनसाथी और व्यवसाय में साझेदारी का प्रतिनिधित्व करता है।

बिजनेस- इस गोचर के दौरान आपको बिजनेस के मामले में सफलता मिल सकती है। इसके साथ ही आपको कुछ नए अवसर और प्रोजेक्ट भी प्राप्त होंगे।

नौकरी- कार्यक्षेत्र में यह समय आपके लिए लाभकारी रहेगा। आपके सीनियर्स आपका समर्थन करने के लिए मौजूद रहेंगे। वे आपके प्रयासों को पहचानेंगे और उनकी सराहना भी करेंगे।

शिक्षा- आपको अपनी पढ़ाई पर भी ध्यान देना होगा क्योंकि इस समय आपको कॉम्पिटीशन का सामना करना पड़ेगा। आपको अपना कम्फर्ट जोन छोड़ना होगा। वरना आप अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाएंगे। 

लव- आपकी रोमांटिक लाइफ सफल रहेगी और आपका पार्टनर उत्साहित रहेगा। इसके अलावा लव मैरिज के लिए भी ये समय ठीक है। यदि आप अपने माता-पिता को अपनी शादी के लिए राजी करना चाहते हैं, तो यह अच्छा समय हो सकता है।

उपाय- विधारा की जड़ को हरे कपड़े में बांधकर अपने बटुए में रखें।

बुध के धनु राशि में गोचर का कर्क राशि पर प्रभाव

बुध, कर्क राशि के जातकों की कुंडली के तीसरे और बारहवें भाव के स्वामी होते हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, कर्क राशि के छठवें भाव में गोचर करेंगे। तीसरा भाव हमारे प्रयासों, इच्छाशक्ति, भाई-बहनों और छोटी यात्राओं का होता है। वहीं बारहवां भाव व्यय और विदेश यात्रा का होता है और छठवां भाव हमारी नौकरी, ऋण और शत्रुओं से जुड़ा होता है। इस गोचर के दौरान आपके मायके में कुछ खास कार्य हो सकते हैं।

बिजनेस- बिजनेस के मामले में आपके खर्चों में वृद्धि होगी। इस प्रकार आपको अपने इन्वेस्टमेंट के प्रति सचेत रहना होगा। इसके साथ ही आपको अपनी सेविंग्स बढ़ाने का भी प्रयास करना होगा।

नौकरी- वर्तमान में कार्यरत लोगों को मल्टीनेशनल कंपनी से अच्छे अवसर प्राप्त होंगे और इस दौरान उन्हें ट्रांसफर भी होना पड़ सकता है। यदि आप विदेश में नौकरी करना चाहते हैं, तो अभी उसके लिए अच्छा समय है।

शिक्षा- यह समय आपकी उच्च शिक्षा के लिए अच्छा है। आपको अपने ड्रीम इंस्टीट्यूट में भी प्रवेश मिल सकता है। 

लव- नौकरी या व्यापार की वजह से आप अपनी लव रिलेशनशिप पर ध्यान नहीं दे पाएंगे। इस समय आपको अपनी भाषा पर नियंत्रण रखना चाहिए वरना आपके रिश्ते में समस्या आ सकती है।

उपाय- प्रतिदिन सात अलग-अलग प्रकार के अनाज मिलाकर पक्षियों को यह मिश्रण खिलाएं।

बुध के धनु राशि में गोचर का सिंह राशि पर प्रभाव 

सिंह राशि के जातकों की कुंडली में बुध, दूसरे और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, सिंह राशि के पांचवे भाव को प्रभावित करेंगे। दूसरा भाव धन, वित्त, परिवार और भाषण का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि ग्यारहवां भाव इच्छाओं की पूर्ति का होता है। पांचवां भाव प्रेम संबंधों, भावनाओं और बच्चों से जुड़ा होता है। इस गोचर के दौरान आपको अपने परिवार का सहयोग प्राप्त होगा।

बिजनेस- इस अवधि में आप धन की बचत कर सकते हैं। हालांकि अगर आप पार्टनरशिप में बिजनेस कर रहे  हैं तो आपको सावधान रहना होगा क्योंकि इस दौरान आपका पार्टनर आपको धोखा दे सकता है।

नौकरी- यदि आप किसी कंसल्टिंग या टीचिंग की जॉब में हैं तो यह समय आपके लिए अच्छा रहेगा। यह अवधि आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स और स्पीच के लिए फायदेमंद है।

शिक्षा- इस गोचर के दौरान आप अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान दे सकते हैं। आपके मित्र और आपका परिवार आपके प्रति सहयोगी रहेंगे।

लव- इस समय आपकी लव लाइफ में कोई नया व्यक्ति आ सकता है, जिससे आपका रिश्ता बनेगा। यह अवधि आपकी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए अनुकूल है।

उपाय- रोजाना आदित्य हृदय स्तोत्रम् पाठ का जाप करें। 

बुध के धनु राशि में गोचर का कन्या राशि पर प्रभाव 

बुध, कन्या राशि के जातकों की कुंडली में पहले और दसवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, कन्या राशि के चौथे भाव को नियंत्रित करेंगे। पहला भाव हमारे व्यक्तित्व और सामाजिक छवि का प्रतिनिधित्व करता है। दसवां भाव कर्म के लिए है, जबकि चौथा आराम, संपत्ति, वाहन और मां से जुड़ा होता है।

बिजनेस- इस पूरे गोचर के दौरान आपका बिजनेस आपको काफी व्यस्त रखेगा। हालांकि आपको कुछ देर आराम भी करना चाहिए। इस कारण घर से काम करना एक अच्छा विचार होगा।

नौकरी- जो लोग नौकरी कर रहे हैं वे अपनी वर्तमान स्थिति में अधिक सहज महसूस करेंगे। इसके साथ ही सीनियर्स उनकी मेहनत का श्रेय भी उन्हें देंगे। 

शिक्षा- इस दौरान आप अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देंगे और अपने पारिवार का सहयोग प्राप्त करेंगे। 

लव- आपके लव रिलेशनशिप्स के लिए यह समय ठीक नहीं है। कुछ गलतफहमियां हो सकती हैं इसलिए सतर्क रहें। 

उपाय- बुधवार के दिन भगवान विष्णु को तुलसी के पांच पत्ते चढ़ाएं। 

बुध के धनु राशि में गोचर का तुला राशि पर प्रभाव 

बुध, तुला राशि के जातकों की कुंडली के नौवें और दसवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, तुला राशि के तीसरे भाव में प्रवेश करेंगे। तीसरा भाव भाई-बहनों, प्रयासों, इच्छाशक्ति और छोटी यात्रा से जुड़ा होता है। नौवां भाव लंबी यात्रा, अध्यात्म और भाग्य का होता है जबकि दसवां भाव खर्च, अस्पताल के खर्च और विदेश यात्रा का प्रतिनिधित्व करता है।

बिजनेस- आप इस दौरान अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए बहुत मेहनत करेंगे। आप अपने भाई-बहनों को अपना पूरा सपोर्ट देंगे। आप इस समय बिजनेस से जुड़ी कुछ यात्राएं भी शुरू कर सकते हैं।

नौकरी- कार्यक्षेत्र में आपके सीनियर्स आपके प्रयासों की सराहना करेंगे। इस गोचर के दौरान आपको कार्यक्षेत्र में प्रमोशन या किसी बड़े पद की प्राप्ति होगी।

शिक्षा- अगर आप विदेश जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपको इस समय मौका मिल सकता है। इसके साथ ही यह समय आपकी उच्च शिक्षा के लिए भी अच्छा है। 

लव- आपके लव रिलेशनशिप के लिए यह समय अच्छा है। इस प्रकार आपको अपने रिश्ते को लेकर किसी प्रकार की चिंता करने जरूरत नहीं है।

उपाय- शुक्रवार के दिन गौशाला में जाकर गायों को हरी घास खिलाएं।

बुध के धनु राशि में गोचर का वृश्चिक राशि पर प्रभाव 

वृश्चिक राशि के जातकों की कुंडली में बुध, ग्यारहवें और आठवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, वृश्चिक राशि के दूसरे भाव में गोचर करेंगे। किसी जातक की कुंडली में दूसरा भाव धन, वित्त और परिवार का प्रतिनिधित्व करता है। आठवां भाव अप्रत्याशित लाभ और हानि का प्रतिनिधित्व करता है जबकि ग्यारहवां भाव इच्छाओं और दोस्ती की पूर्ति का प्रतिनिधित्व करता है। 

बिजनेस- इस गोचर के दौरान आपको अपने बिजनेस में इन्वेस्ट करते हुए सावधानी बरतनी चाहिए। इन्वेस्टमेंट के लिए यह समय अनुकूल नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका पैसा फंस सकता है। इस समय अगर आप किसी को उधार देंगे तो आपका पैसा वापस नहीं मिलेगा। हालांकि आर्थिक रूप से आप सफल रहेंगे।

नौकरी- जो लोग नौकरी कर रहे हैं, वे अपनी नौकरी से असंतुष्ट महसूस करेंगे। कार्यक्षेत्र में चल रही पॉलिटिक्स आपके खिलाफ काम कर सकती है।

शिक्षा- इस समय आपको पढ़ाई करते समय धैर्य रखना होगा। आप अपनी पढ़ाई में फोकस करने का प्रयास करें। यह समय अपनी पढ़ाई में ज्यादा एफर्ट्स करने का है।

लव- आपके जीवन में परिवार से जुड़े कुछ विवाद रहेंगे। रिश्तों के मामले में आपको धैर्य बनाए रखना होगा वरना समस्या हो सकती है।.

उपाय- प्रतिदिन जल में थोड़ा सा गुड़ मिलाकर पीपल के पेड़ पर चढ़ाएं।

बुध के धनु राशि में गोचर का धनु राशि पर प्रभाव

बुध, धनु राशि के जातकों की कुंडली के सातवें और दसवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, धनु राशि के लग्न (पहले भाव) में गोचर कर रहे हैं। सातवां भाव साझेदारी, जीवनसाथी और दैनिक आय से जुड़ा होता है। दसवां भाव कर्म को नियंत्रित करता है, जबकि लग्न स्वयं की छवि, व्यक्तित्व और सम्मान को नियंत्रित करता है।

बिजनेस- इस गोचर के दौरान आपको कुछ अच्छे प्रोजेक्ट और डील्स मिल सकते हैं। इसके साथ ही यह अवधि इन्वेस्टमेंट करने के लिए भी अनुकूल है।

नौकरी- अगर आप नौकरी बदलना चाहते हैं तो आपको कुछ अच्छे अवसर मिलेंगे। इस अवधि में आप अपने काम में सुकून महसूस करेंगे, आपकी टीम आपका सहयोग करेगी और आपको एक नया मुकाम हासिल करेंगे।

शिक्षा- यह पढ़ाई करने के लिए अच्छा समय है। इस प्रकार हार्डवर्क करने से आपको एकेडमिक्स में सफलता प्राप्त होगी। 

प्रेम- गोचर के दौरान आपकी रिलेशनशिप अच्छी रहेगी और आप अपने पार्टनर के साथ खुश रहेंगे।

उपाय- बुधवार के दिन गणेश जी को सफेद पुष्प अर्पित करें।

बुध के धनु राशि में गोचर का मकर राशि पर प्रभाव

मकर राशि के जातकों की कुंडली में बुध, छठवें और नौवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, मकर राशि के बारहवें भाव में प्रवेश करेंगे। छठवां भाव नौकरी से और नौंवा भाव भाग्य से जुड़ा होता है। जबकि बारहवां भाव व्यय, अस्पताल में भर्ती होने और विदेश यात्रा का होता है।

बिजनेस- इस गोचर काल में किसी भी बिजनेस में इन्वेस्ट करना उचित नहीं है। हालांकि आपकी पहले से चल रही  परियोजनाएं और व्यावसायिक डील्स सफल हो सकती हैं। 

नौकरी- नौकरी बदलने के लिए यह बहुत अच्छा समय है। इस क्षेत्र में आपको बेहतरीन मौके मिलेंगे। इसके साथ ही गोचर के दौरान आपको कुछ आर्थिक लाभ भी मिल सकते हैं। 

शिक्षा- जो विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उनको सफलता मिल सकती है। कॉम्पिटीशन और पढ़ाई पर फोकस करने के लिए यह एक सही समय होगा। 

लव- आपकी लव रिलेशनशिप में आप एक अच्छा समय बिताएंगे। इसके साथ ही आपको अपने पार्टनर का सहयोग भी मिलेगा।

उपाय- प्रत्येक शनिवार को सरसों के तेल और काले तिल का मिश्रण शनि देव को अर्पित करें।  

बुध के धनु राशि में गोचर का कुंभ राशि पर प्रभाव 

बुध, कुम्भ राशि वाले जातकों की कुंडली के पांचवें और आठवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, कुम्भ राशि के ग्यारहवें भाव में गोचर करेंगे। पांचवा भाव हमारी भावनाओं, रिश्तों और संतान के जन्म  से जुड़ा होता है और आठवां भाव अचानक लाभ व हानि का होता है। जबकि ग्यारहवां भाव मनोकामना पूर्ति का प्रतिनिधित्व करता है। 

बिजनेस- इस गोचर के दौरान इन्वेस्ट करने से बचें क्योंकि आपका पैसा फंस सकता है। इसके अलावा आपके पार्टनर को आपके प्रयासों का लाभ मिलेगा। इस समय आप रुके हुए कार्यों को भी पूरा करेंगे।

नौकरी- अगर आप अपनी नौकरी में बदलाव करना चाहते हैं तो आपको अच्छे अवसर नहीं मिलेंगे। इस प्रकार इस समय के दौरान नौकरी बदलना या नए अवसरों की तलाश करना उचित नहीं है।

शिक्षा- शिक्षा के मामले में ये समय आपके लिए लाभदायक रहेगा लेकिन इसके लिए आपको एकाग्रता (कंसन्ट्रेशन) की आवश्यकता होगी। इसके साथ ही आपको अपना रूटीन भी मैनेज करना होगा।

प्रेम- लव रिलेशनशिप के लिए यह समय अनुकूल नहीं होगा। आपके रिश्ते में इस दौरान कुछ परेशानी आ सकती है या रिश्ता टूट भी सकता है।

उपाय- शनिवार के दिन किसी जरूरतमंद को कम्बल दान करें।

बुध के धनु राशि में गोचर का मीन राशि पर प्रभाव 

मीन राशि के जातकों की कुंडली में बुध, चौथे और सातवें भाव के स्वामी हैं। बुध के धनु राशि में गोचर के दौरान बुध, मीन राशि के दसवें भाव को नियंत्रित करेंगे। चौथा भाव आराम को और दसवां कर्म को नियंत्रित करता है। वहीं सातवां भाव साझेदारी और जीवनसाथी को नियंत्रित करता है। 

बिजनेस- इस गोचर के दौरान आप बिजनेस पार्टनरशिप करेंगे और सफलता भी प्राप्त करेंगे। बिजनेस के लिए यह समय लाभदायक है। इस प्रकार आप अपना पैसा इन्वेस्टमेंट में भी लगा सकते हैं।.

नौकरी- नौकरी के मामले में आप संतुष्ट और तनावमुक्त महसूस करेंगे। 

शिक्षा- आपकी पढ़ाई अच्छी चलेगी और आप उस पर ज्यादा ध्यान दे पाएंगे। इसके साथ ही अगर आप हायर एजुकेशन में जाना चाहते हैं तो इसमें आप सफल हो पाएंगे। 

प्रेम- इस अवधि में आपकी लव लाइफ में सब कुछ ठीक और सहज रहेगा।

उपाय- भगवान विष्णु को दूध से बनी मिठाई का भोग लगाएं। 

नोट: धनु राशि में हो रहे बुध गोचर के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए अभी बात करें एस्ट्रो नैंसी से केवल एस्ट्रोयोगी पर।  

✍️By- एस्ट्रो नैंसी