सावन में शिव पूजा से पूरी होगी मनोकामना, बन रहे हैं ये शुभ योग

bell icon Wed, Jul 13, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
सावन में शिव पूजा से पूरी होगी मनोकामना, बन रहे हैं ये शुभ योग

हिंदू धर्म में सावन के महीने का विशेष महत्व होता है जो भगवान शिव को समर्पित होता है । ऐसी मान्यता है कि सच्ची श्रद्धा और मात्र एक लोटे जल से भगवान भोलेनाथ को खुश किया जा सकता है।

Sawan 2022: सावन माह भगवान शिव को सर्वाधिक प्रिय है। मान्यता है कि सावन में शिव पूजन से मनोकामना पूरी होती है। सावन में इस बार चार सोमवार पड़ेंगे। सावन महीने में सोमवार का व्रत रखने को खास माना गया है। यह माह पूजा-पाठ, तप-साधना के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि इस महीने में महादेव की पूजा-अर्चना, अभिषेक करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

क्यों खास है इस बार का सावन?

सावन मास 14 जुलाई गुरुवार से शुरू होकर 12 अगस्त, शुक्रवार तक चलेगा। इस बार सावन का महीना  ज्यादा खास रहेगा। क्योंकि इसकी शुरुआत के समय शुभ संयोग बन रहा है। 14 जुलाई को सावन महीने की शुरुआत के दिन विष्कुभं और प्रीति योग बन रहे हैं। यह दोनों योग बहुत शुभ माने जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इन योग में पैदा हुई संतान सौभाग्यशाली साबित होती है। इस समय में पैदा हुए जातक गुणवान और संस्कारी होते हैं।

सावन माह से ही शुरू होता है चतुर्मास का 

सावन माह को श्रावण मास भी कहते हैं और इस माह में देशभर के शिव मंदिरों में भगवान भोलेनाथ और उनके परिवार की पूजा-अर्चना की जाती है। सावन माह से ही चातुर्मास का शुभारंभ होता है। इस समय भगवान शिव जगत के पालनहार और संहारक दोनों की भूमिका का निर्वाह करते हैं। इसका कारण यह है कि भगवान विष्णु चार माह के लिए योग निद्रा में रहते हैं। मान्यता है कि सावन में सच्चे मन से भगवान शिव को एक लोटा जल भी अर्पित करने से भी वे प्रसन्न हो जाते हैं।

सावन माह में पड़ने वाले व्रत-त्यौहार

सावन माह में कई प्रकार के त्यौहार पड़ते हैं और इस बार सावन में चार सोमवार पड़ रहे हैं। वहीं, भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक रक्षा बंधन, सुहागिन स्त्रियों का प्रमुख पर्व हरियाली तीज इसी माह में आता है। सावन माह से ही 16 सोमवार व 16 मंगलवार व्रत का संकल्प भी लिया जाता है।

  • 14  जुलाई, गुरुवार,  कांवड़ यात्रा
  • 15 जुलाई, शुक्रवार, जया पार्वती व्रत जागरण
  • 16 जुलाई, शनिवार,  जय पार्वती व्रत समाप्त, कारक संक्रांति, संकष्टी चतुर्थी
  • 20 जुलाई, बुधवार बुध अष्टमी व्रत, कालाष्टमी
  • 24 जुलाई, रविवार वैष्णव कामिका एकादशी, कामिका एकादशी, रोहिणी व्रत
  • 25 जुलाई, सोमवार प्रदोष व्रत, सोम प्रदोष व्रत
  • 26 जुलाई, मंगलवार मासिक शिवरात्रि
  • 28 जुलाई, गुरुवार अमावस्या, हरियाली अमावस्या
  • 31 जुलाई,  रविवार,  हरियाली तीज
  • 01 अगस्त,  सोमवार, चतुर्थी व्रत, सोमवार व्रत
  • 02 अगस्त, मंगलवार, नाग पंचमी
  • 03 अगस्त, बुधवार, षष्ठी
  • 05 अगस्त, शुक्रवार, दुर्गा अष्टमी व्रत
  • 08 अगस्त, सोमवार, श्रवण पुत्रदा एकादशी
  • 09 अगस्त, मंगलवार, भौम प्रदोष व्रत, प्रदोष व्रत
  • 11 अगस्त, गुरुवार, पूर्णिमा व्रत, श्री सत्यनारायण पूजा, रक्षा बंधन, श्री सत्यनारायण व्रत
  • 12 अगस्त, शुक्रवार, नराली पूर्णिमा, पूर्णिमा, वरलक्ष्मी व्रत

सावन सोमवार 

  1. सावन का पहला सोमवार- 18 जुलाई
  2. सावन का दूसरा सोमवार- 25 जुलाई
  3. सावन का तीसरा सोमवार- 01 अगस्त
  4. सावन का चौथा - 08 अगस्त  

मंगला गौरी व्रत

  • पहला मंगला गौरी व्रत - 19 जुलाई 
  • दूसरा मंगला गौरी व्रत -26 जुलाई 
  • तीसरा मंगला गौरी व्रत - 02 अगस्त 
  • चौथा मंगला गौरी व्रत - 09 अगस्त 

आज का पंचांग | आज की तिथि | आज का राहुकाल | आज का चौघिड़या  | आज का शुभ योग 

सावन में ऐसे करें भगवान शिव का पूजन 

भगवान शिव को प्रिय सावन माह में पूजा के दौरान धतूरा, बेलपत्र, सुपारी,भांग के पत्ते, बेल की पत्तियां, दूध, पंचामृत, नारियल काले तिल और गुड़ आदि अर्पित करना शुभ माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इससे भगवान शिव की कृपा सदैव बनी रहती है। इस प्रकार से करे सावन में पूजा:

  1. सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें।
  2. घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  3. सभी देवी-देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।
  4. शिवलिंग पर गंगा जल और दूध चढ़ाएं।
  5. भगवान शिव को पुष्प अर्पित करें।
  6. भगवान शिव को बेल पत्र अर्पित करें।
  7. भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। 
  8. भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें।

सावन के महीने में न करें ये काम

धर्म शास्त्रों में सावन माह में कुछ कामों को करने की मनाही होती है। सावन महीने में शरीर पर तेल नहीं लगाते हैं। शास्त्रों के अनुसार, इस महीने में दिन के समय नहीं सोना चाहिए। खाने में बैंगन को खाने की मनाही हैं। बैंगन को अशुद्ध माना जाता है। वहीं, भगवान शिव को केतकी का फूल व तुलसी नहीं अर्पित करना चाहिए।

सावन के लिए कई पौराणिक कथायें वर्णित हैं 

  • शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव को सावन का महीना प्रिय होने का कारण यह भी है कि भगवान शिव सावन के महीने में पृथ्वी पर अवतरित होकर अपनी ससुराल गए थे और वहां उनका स्वागत अर्घ्य और जलाभिषेक से किया गया था। माना जाता है कि प्रत्येक वर्ष सावन माह में भगवान शिव अपनी ससुराल आते हैं। भू-लोक वासियों के लिए शिव कृपा पाने का यह उत्तम समय होता है।

  • शास्त्रों में वर्णित है कि सावन महीने में भगवान विष्णु योगनिद्रा में चले जाते हैं। इसलिए ये समय भक्तों, साधु-संतों सभी के लिए अमूल्य होता है। इस दौरान सृष्टि के संचालन का उत्तरदायित्व भगवान शिव ग्रहण करते हैं। इसलिए सावन के प्रधान देवता भगवान शिव बन जाते हैं।

  • पौराणिक कथाओं में वर्णन आता है कि इसी सावन मास में समुद्र मंथन किया गया था। समुद्र मथने के बाद जो हलाहल विष निकला, उसे भगवान शिव ने अपने कंठ में समाहित कर सृष्टि की रक्षा की, लेकिन विषपान से महादेव का कंठ नीला हो गया। इसी से उनका नाम 'नीलकंठ महादेव' पड़ा। विष के प्रभाव को कम करने के लिए सभी देवी-देवताओं ने उन्हें जल अर्पित किया। इसलिए शिवलिंग पर जल चढ़ाने का ख़ास महत्व है। यही वजह है कि सावन माह में भोले को जल चढ़ाने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। 

  • शिवपुराण' में उल्लेख है कि भगवान शिव स्वयं ही जल हैं। इसलिए जल से उनकी अभिषेक के रूप में अराधना का उत्तमोत्तम फल है, जिसमें कोई संशय नहीं है।

  • मरकंडू ऋषि के पुत्र मारकण्डेय ने लंबी आयु के लिए सावन माह में ही घोर तप कर शिव की कृपा प्राप्त की थी, जिससे मिली मंत्र शक्तियों के सामने मृत्यु के देवता यमराज भी नतमस्तक हो गए थे।

क्या आपके जीवन में आ रही हैं समस्यायें ? तो अभी परामर्श करें एस्ट्रोयोगी के ज्योतिषियों से। 

✍️ By- टीम एस्ट्रोयोगी

chat Support Chat now for Support
chat Support Support