सावन शिवरात्रि 2021 - शिवरात्रि पर भोलेनाथ करेंगें कष्टों को दूर

04 अगस्त 2021

सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते हैं। भगवान भोलेनाथ का दिन सोमवार माना जाता है और उनकी पूजा का श्रेष्ठ महीना सावन। वैसे तो हर माह कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि भी आती है लेकिन सावन महीने में आने वाली शिवरात्रि को फाल्गुन महीने में आने वाली महाशिवरात्रि के समान ही फलदायी माना जाता है।

 

आज का पंचांग ➔  आज की तिथिआज का चौघड़िया  ➔ आज का राहु काल  ➔ आज का शुभ योगआज के शुभ होरा मुहूर्त  ➔ आज का नक्षत्रआज के करण

 

सावन शिवरात्रि का महत्व

सभी शिवभक्तों को फाल्गुन महीने के बाद सावन महीने का खास तौर पर इंतजार रहता है। दरअसल सावन के पावन सोमवार और उसमें शिवरात्रि के त्यौहार की महिमा ही अलग होती है। इस शिवरात्रि का महत्व इसलिये भी बढ़ जाता है क्योंकि इसमें भगवान शिव का जलाभिषेक करना बहुत पुण्यकारी माना जाता है। सावन के पूरे महीने शिवभक्त बम भोले, हर-हर महादेव के नारे लगाते हुए नजर आते हैं। शिवरात्रि के दिन जलाभिषेक के लिये हरिद्वार, गौमुख से कांवड़ भी लेकर आते हैं। मान्यता है कि श्रावण महीने की शिवरात्रि के दिन जो भी श्रद्धालु सच्चे मन से भगवान शिव की पूजा करते हैं उनके कष्टों का निवारण होता है और मुरादें पूरी हो जाती हैं।

 

2021 में सावन शिवरात्रि तिथि व मुहूर्त

2021 में सावन शिवरात्रि गुरुवार के दिन पड़ रही है अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार यह तिथि 06 अगस्त को होगी।

निशिथ काल पूजा - रात 12 बजकर 06 मिनट से रात 12 बजकर 48 मिनट तक (07 अगस्त 2021)

पारण का समय - सुबह 05 बजकर 46 मिनट से दोपहर 03 बजकर 47 मिनट तक (07 अगस्त 2021)

चतुर्दशी तिथि आरंभ - शाम 06 बजकर 48 मिनट (06 अगस्त 2021) से

चतुर्दशी तिथि समाप्त - शाम 07 बजकर 11 मिनट (07 अगस्त 2021) तक

 

सावन शिवरात्रि पर भोलेनाथ करेंगें कष्ट दूर

अपने भक्तों के संकट तो बाबा भोलेनाथ शिवशंकर दूर करते ही हैं लेकिन सावन के महीने में उनकी विशेष कृपा बरसती है। इस दिन रुद्राभिषेक करने से भक्त के समस्त पापों का विनाश भोले बाबा कर देते हैं।

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिये जातक ब्रह्म मुहूर्त में शिव मंदिर में जाकर षोडषोपचार से भगवान भोलेनाथ की पूजा करें और धतूरा चढ़ाकर 108 बार शिवमंत्र का जाप करें। साथ ही चांदी के नाग-नागिन का जोड़ा भी शिवलिंग पर चढायें, भोले बाबा आपको दोष से मुक्त करेंगें। यदि जातक शारीरिक पीड़ा से निवारण चाहते हैं तो इस दि महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना भी लाभकारी होता है। पंचमुखी रुद्राक्ष की माला लेकर भगवान शिव के मंत्र ऊं नम: शिवाय का जाप करने से तमाम तरह के क्लेश शांत हो जाते हैं।  कालसर्प दोष से मुक्ति के लिये पूजा करने की विधि और कुंडली में कालसर्प दोष के उपाय एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से जानने के लिये यहां क्लिक करें।

 

यह भी पढ़ें

सावन - शिव की पूजा का माह   |   महाशिवरात्रि    |   यहाँ भगवान शिव को झाड़ू भेंट करने से, खत्म होते हैं त्वचा रोग   | विज्ञान भी है यहाँ फेल, दिन में तीन बार अपना रंग बदलता है यह शिवलिंग   |   भगवान शिव और नागों की पूजा का दिन है नाग पंचमी  | चमत्कारी शिवलिंग, हर साल 6 से 8 इंच बढ़ रही है इसकी लम्बाई    |   अमरनाथ यात्रा - बाबा बर्फानी की कहानी   |   पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर

Chat now for Support
Support