अमावस्या 2020 – कब-कब हैं अमावस्या तिथि

अमावस्या या अमावस हिंदू कैलेंडर के अनुसार वह तिथि होती है जिसमें चंद्रमा लुप्त हो जाता है व रात को घना अंधेरा छाया रहता है। हिंदू मास को दो हिस्सों में विभाजित किया जाता है जिसमें चंद्रमा बढ़ता रहता है वह शुक्ल पक्ष कहलाता है पूर्णिमा की रात के पश्चात चांद घटते-घटते अमावस्या तिथि को पूरा लुप्त हो जाता है। इस पखवाड़े को कृष्ण पक्ष कहते हैं। पंचांग के अमांत मास का अंत भी इसी तिथि को माना जाता है। सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहा जाता है जो कि बहुत ही पुण्य फलदायी मानी गई है। वहीं यदि यह तिथि शनिवार को पड़े तो शनि अमावस्या कहलाती है यह तिथि बहुत ही सौभाग्यशाली मानी जाती है। इसके अलावा सोमवार, मंगलवार व बृहस्पतिवार की अमावस्या को यदि अनुराधा, विशाखा या स्वाति नक्षत्र रहता है तो यह भी बहुत ही शुभ योग माना जाता है। अमावस्या तिथि के स्वामी पितृदेव माने जाते हैं इसलिये श्राद्ध कर्म या पितर शांति के लिये भी यह तिथि अनुकूल मानी जाती है।

काल सर्प, पितृ दोष या लाइफ में किसी उलझन से परेशान हैं तो आप एस्ट्रोयोगी पर आप इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस ले। पंडित जी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

अमावस्या का महत्व

ज्योतिष शास्त्र व धार्मिक दृष्टि से यह तिथि बहुत महत्वपूर्ण होती है। पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिये इस तिथि का विशेष महत्व होता है क्योंकि इस तिथि को तर्पण, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही पुण्य फलदायी माना जाता है। भारत का प्रमुख त्यौहार दीपावली अमावस्या को ही मनाया जाता है। सूर्य पर ग्रहण भी इसी तिथि को लगता है। कोई जातक यदि काल सर्पदोष से पीड़ित है तो उससे मुक्ति के उपाय के लिये भी अमावस्या तिथि काफी कारगर मानी जाती है।

 

क्या करें और क्या ना करें

  • अमावस्या तिथि पर भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन करना शुभ माना जाता है। 
  • इस तिथि पर पितरों का तर्पण करने का विधान है। यह तिथि चंद्रमास की आखिरी तिथि होती है।
  • इस तिथि पर गंगा स्नान और दान का महत्व बहुत है। 
  • इस दिन क्रय-विक्रय और सभी शुभ कार्यों को करना वर्जित है।
  • अमावस्या के दिन खेतों में हल चलाना या खेत जोतने की मनाही है।
  • इस तिथि पर जब कोई बच्चा पैदा होता है तो शांतिपाठ करना पड़ता है।

 

2020 में कब है अमावस्या तिथि

माघ अमावस्या (मौनी अमावस्या)  - शुक्रवार, 24 जनवरी 2020

फाल्गुन अमावस्या – रविवार, 23 फरवरी 2020

चैत्र अमावस्या – शुक्रवार, 24 मार्च 2020

वैशाख अमावस्या – बुधवार, 22 अप्रैल 2020

ज्येष्ठ अमावस्या – शुक्रवार, 22 मई 2020

आषाढ़ अमावस्या – रविवार, 21 जून 2020

श्रावण अमावस्या (सोमवती) – सोमवार, 20 जुलाई 2020

भाद्रपद अमावस्या – बुधवार, 19 अगस्त 2020

अश्विन अमावस्या – बृहस्पतिवार, 17 सितंबर 2020

अश्विन अधिक अमावस्या – बृहस्पतिवार, 16 अक्टूबर 2020

कार्तिक अमावस्या – रविवार, 15 नवंबर 2020

मार्गशीर्ष अमावस्या (सोमवती अमावस्या) – सोमवार, 14 दिसंबर 2020

 

यह भी पढ़ें

शनि अमावस्या   |   सर्वपितृ अमावस्या 2020   |   मौनी अमावस्या 2020   |   पूर्णिमा 2020   |   एकादशी 2020   |   हिंदू पंचांग मास 2020

एस्ट्रो लेख

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜