Skip Navigation Links
कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?


कन्या राशि में बुध का गोचर - क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो यह काफी कुछ इस पर निर्भर करता है कि वह किस प्रकृति के ग्रहों के साथ विराजमान हैं या गोचररत हैं। यदि बुध की संगति अच्छे ग्रहों से हो तो यह बहुत अच्छे परिणाम देते हैं वहीं यदि इनकी संगत क्रूर या पाप ग्रहों के साथ हो तो यह भी नकारात्मक परिणाम देने लग जाते हैं। इस लिहाज से बुध की चाल में आने वाले हर परिवर्तन पर ज्योतिषाचार्यों की निगाह गड़ी रहती है। 19 सितंबर को बुध सिंह राशि से परिवर्तित होकर स्वराशि कन्या में प्रवेश करेंगें। अन्य 12 राशियों पर बुध के इस गोचर का क्या प्रभाव पड़ सकता है? आइये जानते हैं।

मेष मेष राशि से बुध का परिवर्तन छठे स्थान में हो रहा है जहां सूर्य पहले से गोचररत हैं। बुध व सूर्य की युति आपके लिये रोग व शत्रु घर में बुधादित्य योग निर्मित कर रही है। कार्यक्षेत्र के लिये यह समय सुखद कहा जा सकता है। आपके काम को, आपकी मेहनत को दर्ज़ किया जा सकता है। साथ ही अपने विपक्षियों, विरोधियों, शत्रुओं, प्रतिद्वंदियों पर भी आप इस समय हावि रह सकते हैं। आपकी शारीरिक व आर्थिक सेहत स्थिर रहने के आसार हैं। बुध के प्रभाव से व्यावसायिक जीवन जहां लाभकारी तो व्यक्तिगत जीवन सामान्य बने रहने के आसार हैं।

वृषभ – आपकी राशि से बुध पांचवे स्थान में प्रवेश करेंगें। पंचम भाव में बुध का सूर्य के साथ गोचर करना आपके लिये बहुत ही शुभ परिणाम लेकर आ सकता है। व्यक्तिगत रुप से तो इस समय आप स्वयं को सौभाग्यशाली समझ सकते हैं। साथी के साथ मतभेद समाप्त होने से आप रोमांटिक जीवन का पूरा आनंद ले सकते हैं। हालांकि इस समय आपका रूझान धार्मिक कार्यों की ओर भी अग्रसर हो सकता है। यही वो समय है जब आप अपने करियर में नाम व प्रसिद्धि पा सकते हैं। यदि पिछले कुछ समय नया घर या नई गाड़ी की खरीददारी के लिये प्रयत्नशील हैं तो बुध आपकी मदद कर सकते हैं।

मिथुन – मिथुन जातकों के लिये बुध राशि से चतुर्थ स्थान में प्रवेश कर रहे हैं जो कि आपकी राशि के अनुसार सुख का क्षेत्र है। इसी स्थान में सूर्य पहले से गोचररत हैं ऐसे में बुध और सूर्य की चतुर्थ भाव में युति आपके लिये कार्योन्नति के संकेत कर रही है। यदि आपने किसी को धनराशि उधार दी हुई है जिसे लेकर आप चिंतित भी हों तो वह आपको मिल सकती है। छोटे भाई-बहनों का भी आपको सहयोग मिलने के पूरे आसार रहेंगें। माता का स्नेह भी आप पर बना रहेगा। पैतृक संपत्ति से भी लाभ की उम्मीद बुध के परिवर्तन से कर सकते हैं। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि बुध का यह परिवर्तन आपके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में सुख शांति व समृद्धि लेकर आ सकता है।

कर्क

आपकी राशि से बुध का राशि परिवर्तन तीसरे स्थान में हो रहा है। जो कि आपके पराक्रम का स्थान है। पराक्रम में सूर्य के साथ बुध की युति आपके कार्यक्षेत्र के लिये बहुत अच्छी कही जा सकती है। आप आत्मविश्वास से भरे रह सकते हैं। हालांकि इसकी भी संभावनाएं बन सकती हैं कि आप अति आत्मविश्वास में कोई गलत कदम उठा लें जिसका खामियाज़ा आपको भुगतना पड़े। विशेषकर रोमांटिक जीवन में गलत निर्णय लेना आपके स्थापित संबंधों के लिये हानिकारक हो सकता है। परिजनों के साथ संबंध में भी आप गलतफहमी का शिकार हो सकते हैं। कुल मिलाकर अपने विवेक से काम लें, संयम का परिचय दें, वाणी में विनम्रता रखें, चीज़ें अपने आप सही होती चली जायेंगी।

सिंह

आपकी राशि से दूसरे यानि धन भाव में बुध सूर्य के साथ गोचर करेंगें। यह समय आपके लिये धन प्राप्ति के योग बना रहा है। इस समय आपको पैतृक संपत्ति से लाभ मिलने की संभावनाएं प्रबल हैं। इस समय आप अपने संचार कौशल से भी अपने आस-पास के लोगों को अपना मुरीद बना सकते हैं। कम्यूनिकेशन के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये तो यह समय विशेष रूप से सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं। विद्यार्थियों के लिये भी समय अच्छा रहने के आसार हैं।

कन्या

कन्या राशि के स्वामी बुध ही हैं जो कि आपकी ही राशि में आ रहे हैं। स्वराशि के बुध सूर्य के साथ मिलकर आपकी ही राशि में बुधादित्य योग का निर्माण कर रहे हैं। यह समय आपके लिये विविध रूप से लाभकारी रह सकता है। आप अपने आत्मविश्वास में वृद्धि तो महसूस करेंगें ही साथ ही यह भी देख सकते हैं कि घर से लेकर दफ्तर तक आपको नोटिस किया जा रहा है। आपकी कार्यकुशलता को दर्ज़ किया जा रहा है। कार्यस्थल पर आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने की उम्मीद है। सुदूरवर्ती क्षेत्र में यात्रा भी कर सकते हैं। व्यावसायिक ही नहीं आपके व्यक्तिगत जीवन में भी उत्साह बना रहेगा। रिश्तों में मधुरता आने के आसार हैं।

तुला

आपकी राशि से बुध का परिवर्तन 12वें भाव में हो रहा है जहां सूर्य पहले से गोचररत हैं। इस समय कार्यक्षेत्र में आप पर काम का दबाव बढ़ सकता है। कामकाज के सिलसिले में नई जिम्मेदारियां भी आपको मिल सकती हैं। व्यय भाव में बुध का परिवर्तन होने से आपके खर्च भी अक्समात बढ़ने की संभावना है। इस समय आपको भाग्य के बरोसे बैठने की बजाय अपनी मेहनत पर यकीन रखना चाहिये। कार्यदबाव से तनाव तो रहेगा लेकिन थोड़े अतिरिक्त प्रयासों से आप इस स्थिति पर नियंत्रण भी पा सकते हैं।

वृश्चिक

आपकी राशि से 11वें स्थान में बुध का परिवर्तन हो रहा है। लाभ घर में बुध व सूर्य का एक साथ गोचर करना आपके लिये धन प्राप्ति के योग बना रहा है। यदि आप पिछले कुछ समय से जमा धन में वृद्धि नहीं कर पा रहे थे तो इस समय भविष्य के लिये कुछ धन बचाने का प्रयास कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र में भी आप अपने लक्ष्यों को तय समयावधि में पूरा कर सकते हैं। हालांकि आपको अपनी सेहत के प्रति थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता हो। खान-पान के साथ-साथ अपने विश्राम का ध्यान भी अवश्य रखें। यात्रा के योग भी आपके लिये बन सकते हैं। रोमांटिक जीवन की बात करें तो आपको थोड़ा सचेत रहने व समझदारी के साथ स्थिति को संभालने की आवश्यकता पड़ सकती है। दरअसल साथी के साथ स्थित थोड़ी तनावपूर्ण हो सकती है हालांकि आप यह बखूबी जानते हैं कि इस स्थिति से कैसे निपटना है।

धनु

धनु जातकों के लिये बुध का परिवर्तन कर्मक्षेत्र यानि दसवें स्थान में हो रहा है। यह समय कार्यक्षेत्र में आपकी उन्नति के संकेत कर रहा है। यदि आप वर्तमान कार्यक्षेत्र से असंतुष्ट हैं तो आपको कार्य, नौकरी आदि में परिवर्तन करने का अच्छा अवसर मिल सकता है। स्वास्थ्य के मामले में भी समय आपके लिये अनुकूल रहने के आसार हैं। पारिवारिक माहौल भी शांतिपूर्ण रहने की उम्मीद कर सकते हैं साथ ही रोमांटिक जीवन में भी साथी का भरपूर साथ आपको मिल सकता है।

मकर

आपकी राशि से बुध भाग्य स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। भाग्य का साथ तो इस समय आपको मिलेगा ही साथ ही बुधादित्य योग होने से आपको पैतृक संपत्ति में लाभ मिलने की संभावनाएं भी बनेंगी। आपकी सेहत भी दुरुस्त रहेगी। इस समय आपकी स्मरणशक्ति भी लाजवाब रहने के संकेत हैं। रोमांटिक जीवन का भी आपको भरपूर आनंद मिल सकता है। व्यावसायिक रूप से इस समय आपको अति आत्मविश्वास (ओवर कॉन्फिडेंस) से बचने की आवश्यकता रहेगी। साथ ही व्यावसायिक सौदेबाजी करते हुए या किसी से बातचीत करते हुए अपनी वाणी में विनम्रता व व्यवहार में संयम रखें तो लाभकारी रहेगा।

कुंभ

आपकी राशि से आठवें स्थान में बुध व सूर्य का गोचर आपके लिये मिलेजुले परिणाम लेकर आ सकता है। स्वास्थ्य व संतान को लेकर आपकी चिंताएं बढ़ सकती हैं। प्रेम जीवन में भी हालात सामान्य बने रह सकते हैं लेकिन प्रेम विवाह के मामले में स्थिति तनावपूर्ण भी हो सकती है। पिता के साथ वैचारिक मतभेद समाप्त हो सकते हैं। परिजनों का पूरा सहयोग आपको मिलने के आसार हैं। हालांकि अनपेक्षित स्त्रोत से धन लाभ हो सकता है।

मीन

बुध आपकी राशि से सातवें भाव में प्रवेश कर रहे हैं। सप्तम घर में बुध का आना आपको सेहत के प्रति सचेत रहने के संकेत कर रहा है। विशेषकर बदलते मौसम की मार आप पर पड़ सकती है। कामकाज के मामले में समय सामान्य रहने के आसार हैं लेकिन यदि नौकरी या व्यवसाय में परिवर्तन करने की इच्छा रखते हैं तो फिलहाल इस तरह का कोई कदम न उठाएं समय अनुकूल नहीं है। हालांकि यह भी हो सकता है काम का दबाव अचानक से बढ़ जाये और विकट परिस्थिति में आपकी मेहनत व लगन का सिला आपको पदोन्नति के रूप में मिले। अविवाहित जातकों के लिये विवाह के योग बन सकते हैं। रोमांटिक जीवन में साथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करने का अवसर भी मिल सकता है।


आपकी कुंडली के अनुसार बुध ग्रह आपके लिये किस तरह लाभकारी हो सकते हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |   वक्री हुए बुध क्या पड़ेगा प्रभाव?

बुध का राशि परिवर्तन – वृषभ से मिथुन में जायेंगें बुध जानें राशिफल   |   बुध गोचर – बुध का परिवर्तन मेष से वृषभ राशि में   |   

मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल   |   बुध बदलेंगे राशि - कुंभ से मीन में होगा बुध का गोचर





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...