गुरु-मंगल योग

सौरमंडल के प्रमुख ग्रहों में से एक है बृहस्पति ग्रह। इस ग्रह को शुभ माना जाता है क्योंकि यह हमेशा शुभ परिणाम ही देता है। बृहस्पति को गुरु का स्थान प्राप्त है और इसे ज्योतिष में शिक्षा, संतान, धार्मिक कार्य, धन, दान और पुण्य आदि  का कारक माना जाता है। वैदिक ज्योतिष में गुरु धनु और मीन राशि का स्वामी है और इसकी उच्च राशि कर्क है। वहीं गुरु के साथ अन्य ग्रहों की युति से बन रहे योग भी काफी शुभ होते हैं।

 

गुरु-मंगल योग का निर्माण

एस्ट्रोलॉजर के मुताबिक, गुरु मंगल की युति शुभ योगों की श्रेणी में आती है। गुरु-मंगल योग (Guru Mangal Yoga in Astrology) तब बनता है जब कुंडली में मंगल और बृहस्पति की युति हो रही होती है। इस योग के बनने से जातक को उच्चपद प्राप्त होता है और इस योग से धनलाभ भी होता है।

गुरु मंगल योग वाला व्यक्ति हस्तकला में निपुण, वैदिक ज्योतिषी, तर्कशील, बुद्धिमान, भाषण में निपुण, खेल और एथलेटिक गतिविधियों में अच्छा होता है।

गुरु मंगल की युति जातक में नेतृत्व गुण और विशाल ज्ञान लाता है। ऐसे जातक अपने ज्ञान से लोगों को आकर्षित करते हैं और इनका क्रोध अक्सर लोगों को अचंभित कर देता है।

गुरु मंगल योग वाले जातक उच्च शिक्षा हासिल करते हैं और पढ़ाई के प्रति सदैव जागरूक रहते हैं। इनका धार्मिक कार्यों और पूजा पाठ में मन लगता है।कुंडली में गुरु न्याय का और मंगल क्रूर ग्रह माना जाता है ऐसे में गुरु-मंगल की युति जातक को कानून और पुलिस से सहयोग दिलवाती है।

यदि आप कुंडली मे योग के बारें मे व्यक्तिगत परामर्श के लिए, आप Astroyogi.com पर ज्योतिषियों से परामर्श कर सकते हैं। 

 

12 भावों पर गुरु-मंगल की युति का प्रभाव

प्रथम भाव

जातक की शक्ति और स्थिति लगातार बढ़ेगी लेकिन जब बुध मंत्री बन जाएगा, तो यह दोनों को नष्ट कर देगा।

द्वितीय भाव

जातक को अपनी पत्नी, दोस्तों, रिश्तेदारों और ससुराल से अच्छा समर्थन प्राप्त होगा।

तृतीय भाव

हो सकता है कि जातक बहुत सारा पैसा न बचाए। यदि वह धार्मिक रहता है, तो वह अच्छी संपत्ति प्राप्त करेगा और उसका आनंद लेगा।

चतुर्थ भाव

जातक के पास पर्याप्त धन नहीं हो सकता है और परिवार में अधिक पुरुष सदस्य होंगे।

पंचम भाव

पुत्र के जन्म से जातक समृद्धि प्राप्त करेगा और दान से उसका धन बढ़ेगा। यदि वह किसी दान को स्वीकार करता है तो यह योग फलदायी नहीं होगा।

षष्ठ भाव

जातक परिवार में सबसे बड़ा सदस्य होगा और पिता पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। दूसरे भाव में भी बुध अच्छे परिणाम देगा।

सप्तम भाव

जातक ऋणग्रस्त हो सकता है, भले ही उसके पास आय का एक अच्छा स्रोत हो।

अष्टम भाव

जातक के परिवार में परेशानी आने पर गुरु-मंगल अपना अच्छा परिणाम देंगे जिसकी वजह से जातक की रक्षा होगी।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

Chat now for Support
Support