धन योग

जब बच्चा परिवार में जन्म लेता है, तो जन्म कुंडली या बर्थचार्ट बनाया जाता है। ज्योतिषाचार्य द्वारा कुंडली में बने योगों का पता लगाया जाता है। शुभ या अशुभ योगों के अलावा, धन या वित्त योगों(Dhanyog in Astrology) का भी विश्लेषण किया जाता है। आखिर हर कोई धन के लिए उत्सुक है। इसलिए आइए जानते हैं कि इन योगों का निर्माण और विश्लेषण कैसे किया जाता है।

 

कैसे बनता है जन्म कुंडली मे धन योग

जन्म कुंडली के दूसरे घर को वित्त के घर के रूप में जाना जाता है और ग्यारहवां घर वित्तीय लाभ का घर है। इन दोनों घरों का संबंध एक धन योग बनाता है। लग्न कुंडली में द्वितीय भाव, पंचम भाव, नवम भाव और एकादश भाव या इनका स्वामी कुंडली में जुड़ा हो तो यह धन योग का निर्माण करता है। इसके अलावा कुंडली में द्वितीय भाव का स्वामी एकादश भाव में और एकादश भाव का स्वामी द्वितीय भाव में हो तो धन योग का निर्माण होता है। इन घरों के अलावा, बृहस्पति और शुक्र जैसे ग्रह भी क्रमशः धन और भौतिक लाभ हासिल करने में बड़ी भूमिका निभाते हैं। इन ग्रहों और भावों के कई संयोजन हैं जो आपकी कुंडली में धन योग के निर्माण को जन्म देते हैं।

 

धन योग का सकारात्मक प्रभाव

  • यदि लग्न का स्वामी 10 वें भाव में हो तो जातक अपने माता-पिता से अधिक धनवान होगा।

  • यदि जातक के 7 वें भाव में मंगल या शनि और 11 वें भाव में केतु को छोड़कर किसी भी ग्रह के साथ हो तो जातक व्यापार से बहुत धन कमाएगा।

  • यदि केतु को 11 वें भाव में रखा जाए तो जातक विदेश में कमाएगा।

  • जातक अपनी कड़ी मेहनत और प्रयासों से समृद्ध होगा यदि दूसरे भाव का स्वामी 8 वें घर में है।

  • बुध कर्क या मेष राशि में हो तो जातक समृद्ध होगा।

  • यदि जातक कुंडली में सूर्य पांचवे घर में, चौथे में मंगल या 11 वें भाव में बृहस्पति हो तो जातक पैतृक संपत्ति से कमाएगा।

  • यदि जातक की कुंडली के सभी केंद्रों पर ग्रहों का कब्ज़ा है, तो जातक धनवान होगा।

  • जातक धार्मिक साधनों के माध्यम से कमाएगा यदि बृहस्पति, बुध और शुक्र किसी भी घर में एक साथ हैं।

  • 7 वें घर में शनि या मंगल होने पर जातक जुए और खेल के माध्यम से कमाई करेगा।

  • कुंडली के 10 वें भाव का स्वामी वृष, तुला या शुक्र में आ जाए तो जातक पत्नी की कमाई से धनवान बनेगा।

  • 7 वें घर में मंगल, शनि और राहु होने पर जातक कमीशन लेकर अमीर बनेगा।

  • कुंडली के छठे, आठवें और बारहवें घर के स्वामी का छठें, 8 वें, 12 वें या 11 वें घर के साथ जुड़ने पर जातक अचानक धन लाभ होगा।

  • यदि जातक तुला, मकर और कुंभ राशि से चौथे भाव में हो तो जातक गणितज्ञ, लेखाकार या सांख्यिकीविद बन सकता है।

  • यदि 10 वें घर में पांचवें घर का स्वामी हो तो जातक अपने पुत्र / पुत्री के माध्यम से धनवान होगा।

  • यदि जातक 10 वें या 11 वें घर में हो या 4 वें या 5 वें घर में सूर्य / बुध हो तो प्रशासनिक चालाकी से धन कमाएगा।

 

कुंडली मे धन योग शुभ योग

धन योग एक शुभ योग है और यदि किसी के पास कुंडली में यह योग है, तो यह जातक के लिए बहुत अधिक धन लाएगा। यह योग जातक की आर्थिक स्थिति को बढ़ाएगा। कुंडली में धन योग वाला व्यक्ति धनवान, दानशील, दयालु होता है और जीवन के सभी सुखों को अपने पास रखता है। ऐसा व्यक्ति ईश्वर में आस्था और विश्वास करने वाला होता है। यह योग न केवल आपको धन प्राप्ति के बारे में बताता है बल्कि पैसे बचाने और अनावश्यक खर्चों से बचने की आपकी क्षमता को भी मजबूत करता है। साथ ही, यह आपको उचित निवेश करने में मदद करता है जो भविष्य में फलदायी परिणाम लाते हैं। 

 

कुंडली में धन योग फलदायी नहीं होगा

कुंडली में यदि ग्रहों के बीच एक धन योग बनता है, तो ग्रहों की स्थिति का विश्लेषण करना अति आवश्यक है। यदि एक धन योग हालांकि केंद्र और त्रिकोण के स्वामी के साथ बनता है, लेकिन यह दुर्बल ग्रहों के प्रभाव में है, तो धन योग इच्छित परिणाम देने में सक्षम नहीं होगा। यदि योग बनाने वाले गृह स्वामी लाभकारी प्रभाव में हैं तो वे निश्चित रूप से अच्छे परिणाम देंगे।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

Chat now for Support
Support