शश योग

किसी व्यक्ति का जीवन कुंडली में ग्रह-नक्षत्रों की दशाओं से बनने वाले योग और दोषों से प्रभावित होता है। शुभ और योग के अशुभ प्रभाव जीवन में निर्णायक भूमिका निभाते हैं। जब कोई व्यक्ति अपने जीवन में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त करता है, तो हम यह सोचना शुरू कर देता है कि यह कैसे संभव है? इसी तरह, कई बार, कड़ी मेहनत करने के बावजूद आपको सफलता हाथ नहीं लगती है। वहीं समान स्तर की कड़ी मेहनत करके दूसरा व्यक्ति सफलता प्राप्त कर लेता है, वो कैसे? इस प्रश्न का एक बहुत प्रभावी उत्तर यह है कि सफल व्यक्ति की कुंडली में एक निश्चित योग होगा जो सफलता प्राप्त करने में सहायक होगा। कुंडली में उपस्थित योगों के अलावा, किसी व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता भी उस व्यक्ति के भाग्य और कर्म के आधार पर निर्धारित की जाती है।

कुंडली में बनने वाला शश योग(Sasa yoga in Astrology) सबसे शुभ और प्रभावशाली योग में से एक है, जो पंच महापुरुष योग की श्रेणी में आता है। इस योग वाले जातक शनि से शुभता प्राप्त करेंगे और शनि से संबंधित वर्क असाइनमेंट प्राप्त करेंगे। यह योग शनि के कारण बनता है और इसलिए इन जातकों के जीवन में होने वाली सभी घटनाएं शनि पर निर्भर करती हैं।

यदि आप कुंडली मे योग के बारें मे व्यक्तिगत परामर्श के लिए, आप Astroyogi.com पर ज्योतिषियों से परामर्श कर सकते हैं। 

 

शश योग कैसे बनता है?

शश योग तब बनता है जब कुंडली के लग्न या चंद्रमा से पहले, चौथे, सातवें और दसवें घर में शनि अपने स्वयं की राशि (मकर, कुंभ) में या उच्च राशि तुला में मौजूद होता है। वैदिक ज्योतिष में शनि को क्रूर ग्रह माना जाता है। इसके साथ ही ये न्याय के देव भी कहे जाते हैं। ज्योतिष में शनि ग्रह को आयु, दुख, तकनीकी का कारक माना जाता है।

 

शश योग में जन्म लेने वाले जातक

शश योग को शशका योग के नाम से भी जाना जाता है। इस योग में जन्म लेने वाले बच्चों का छोटा चेहरा, फुर्तीली आंखें और मध्यम ऊंचाई वाले छोटे दांत हो सकते हैं। उन्हें यात्रा करना पसंद होता है। ऐसे जातक कई यात्राओं की योजना बनाएंगे। उन्हें वादियां और पहाड़ों पर जाना पसंद होता हैं। शश योग के जातक जल्द क्रोधित होने वाले, जिद्दी और साहसी हो सकते हैं। इसके अलावा वे पार्टियों की मेजबानी करना और लोगों को घर पर आमंत्रित करना पसंद करते हैं। वे मेहनती हैं और अपने प्रयासों से सफलता प्राप्त करते हैं।

यह दूसरों की सेवा करने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। वे धातु की वस्तुओं को बनाने में कुशल होते हैं। ऐसे जातक विपरीत लिंग की तरफ सबसे ज्यादा आकर्षित होते हैं। वे दूसरों पर बहुत सारा पैसा भी बर्बाद कर सकते हैं। वे अपनी मां से बिना शर्त प्यार करते हैं। फिट बॉडी के साथ वे आकर्षक दिखाई देते हैं। हालांकि वे काफी बुद्धिमान होते हैं इसलिए दूसरों में अक्सर दोष ढूंढते रहते हैं। 

 

शश योग के परिणाम

शश योग शनि के प्रभाव को सुधारने में मदद करता है और शुभ परिणाम देता है। यह योग जातक को शनि के कुप्रभाव से बचाने में अत्यधिक लाभदायक है। 'शनि साढे़साती' और 'शनि ढैय्या' के बुरे प्रभाव को भी कम कर देता है। शनि के प्रभाव के कारण जातक मेहनती होगा। 

 

शश योग के लाभ

  • कुंडली में बना शश योग जातक किसी बड़ी बीमारी से उबर सकेंगे और उनकी प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी। 

  • कुंडली में बने शश योग से जातकों का जीवन लंबा होता है।

  • ऐसै जातक बहुत व्यावहारिक होते हैं।

  • शश योग वाले जातक केवल आवश्यकतानुसार बात करना पसंद करते हैं।

  • ऐसे जातक बहुत सारा ज्ञान प्राप्त करते हैं और कई रहस्यों का खुलासा करते हैं।

  • शश योग वाले जातक बहुत सफल होते हैं और राजनीति के क्षेत्र में नई ऊँचाइयों को प्राप्त करते हैं। 

 

शश योग का करियर पर प्रभाव

  • ये जातक कानूनी क्षेत्र में अच्छा कर सकते हैं।

  • ऐसे जातक सरकारी क्षेत्र में पैसा कमाएंगे और लाभान्वित होंगे।

  • ये जातक संपत्ति के लेन-देन से भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

  • ऐसे जातक आध्यात्मिक क्षेत्र में योगदान देंगे।

  • शश योग वाले जातक शिक्षक, सलाहकार या कहानीकार भी बन सकते हैं।

  • ऐसे जातक वित्तीय क्षेत्र में भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

 

शश योग कब और कैसे परिणाम देता है?

अपने आप में शश योग की उपस्थिति शुभता की गारंटी नहीं देती है, ऐसे कई कारक हैं जो इस योग की शुभता में गिरावट का कारण बन सकते हैं जैसे कि कुंडली में शुभ शनि पर दो या दो से अधिक अशुभ ग्रहों का प्रभाव हो तो बनने वाला शश योग शुभ फलदायी नहीं होता है।

यदि कोई दुर्बल ग्रह शनि से प्रभावित होता है, तो यह योग शुभ फल नहीं देता है। जातक को शुभ परिणामों के बजाय अशुभ फल मिलते हैं। यदि प्रथम भाव में शनि अशुभ है, तो जातक शारीरिक और मानसिक समस्याओं का सामना कर सकता है। यदि शनि चतुर्थ भाव में अशुभ है, तो जातक के आध्यात्मिक, पारिवारिक जीवन में परेशानी पैदा करेगा। यदि शनि सातवें घर में कमजोर है, तो यह वैवाहिक सुख को प्रभावित करेगा। जातक किसी के साथ ठीक से पार्टनरशिप नहीं कर सकेगा। यदि शनि दशम भाव में अशुभ है, तो जातक को बहुत अधिक परिश्रम करना होगा और उसका करियर भी समाप्त हो सकता है।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

Chat now for Support
Support