शकट योग

जन्मकुंडली में जिस प्रकार लाभकारी योग लाभकारी परिणाम प्रदान करते हैं, उसी तरह अशुभ योग की उपस्थिति जातक को अशुभ परिणाम ही देती है। कुंडली में बनने वाले अशुभ योगों में से एक योग है शकट योग(Shakata Yoga in Astrology)। कुंडली में इस योग के निर्माण से जातक को जीवन के सभी क्षेत्रों में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और उसे अपमान, भय, दंड, चोरी, रिश्तों में दरार और आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा यह योग जातक को भोग-विलासिता का जीवन जीने वाला और व्यभिचारी बना देता है।

 

कुंडली में शकट योग का निर्माण

शकट का अर्थ है एक गाड़ी जो पहियों पर चलती है। जिस तरह पहिए ऊपर-नीचे होते हैं उसी तरह व्यक्ति के जीवन में भी उतार-चढ़ाव बने रहते हैं। ज्योतिष के अनुसार जब सभी ग्रह 1 और 7 वें घर में मौजूद होते हैं, तो जन्म योग-चार्ट में शकट योग बनता है। इसके अलावा, बृहस्पति और चंद्रमा की स्थिति भी इस योग की घटना को प्रभावित करती है। जब बृहस्पति 6 वें या चंद्रमा से 8 वें घर में स्थिति हो और बृहस्पति को लग्न या फिर अन्य तीन केंद्र स्थानों से बाहर हो तो यह जन्म चार्ट में शकट योग बनाता है। शकट योग के कारण व्यक्ति को आर्थिक, शारीरिक और मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जो लोग इस योग से पीड़ित हैं, उन्हें उनके अच्छे गुणों के लिए समर्थन और सम्मान नहीं मिल सकता है।

यदि आप कुंडली मे योग के बारें मे व्यक्तिगत परामर्श के लिए, आप Astroyogi.com पर ज्योतिषियों से परामर्श कर सकते हैं। 

 

व्यक्ति के जीवन पर शकट योग का प्रभाव

  • शकट योग तब बनता है जब एक कुंडली में सभी ग्रह पहले और सातवें घर में हों।

  • 'शकट' शब्द का अर्थ है बैलगाड़ी। इसलिए, यदि आप इस योग में जन्म लेते हैं तो जीवन बहुत धीमी गति से आगे बढ़ता है। हालाँकि, आपको धीमी गति के कारण निराश नहीं होना चाहिए क्योंकि जीवन अंततः अपनी गति से आगे बढ़ेगा।

  • इस योग के प्रभाव के कारण, आपको अपने बचपन और बुढ़ापे के दौरान काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

  • आपके दांपत्य जीवन में कुछ समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। इसलिए, आपको छोटी-छोटी चीजों पर अपने जीवनसाथी के साथ नहीं लड़ना चाहिए।

  • यदि आप शकट योग में पैदा हुए हैं, तो आप अपने दोस्तों या करीबी लोगों से अलग हो सकते हैं। आप आमतौर पर उन लोगों के साथ झगड़े या बहस में पड़ सकते हैं जो आपके लिए सबसे ज्यादा मायने रखते हैं।

  • इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति विभिन्न रोगों से पीड़ित हो सकता है। इस बात की भी संभावना है कि व्यक्ति चालाक और स्वार्थी हो।

  • यदि आप शकट योग में पैदा हुए हैं, तो यह योग स्वास्थ्य और व्यवसाय को प्रभावित कर सकता है।

  • शकट योग को अशुभ माना जाता है क्योंकि इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति आमतौर पर गरीब होता है और उसका जीवन धीमी गति से आगे बढ़ता है।

  • ऐसे व्यक्ति के पास एक परेशान जीवन होता है और अपने जीवन यापन के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है। लेकिन, उसे निराश नहीं होना चाहिए क्योंकि एक योग के परिणाम एक कुंडली में विभिन्न अन्य कारकों पर निर्भर करते हैं।

 

शकट योग का निवारण

शकट योग आपके जन्म-चार्ट में होने पर आपको चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। यदि आपके चार्ट में शकट योग का अशुभ प्रभाव मौजूद है, तो एक सकारात्मक संयोजन भी हो सकता है जो आपको इसके प्रभावों से निपटने में मदद करेगा। वैदिक ज्योतिष के अनुसार यदि चंद्रमा मजबूत स्थिति में है, तो यह शकट योग के कारण आने वाली कठिनाइयों को दूर करने की शक्ति देता है और शांति, सम्मान और गरिमा के साथ अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं।

  • यदि लग्नेश और 12वें घर का स्वामी लग्न में हैं, तो जातक एक समृद्ध जीवन जीता है, भले ही उसे कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़े।

  • यदि मंगल चंद्रमा से प्रभावित होता है तो शकट योग रद्द हो जाएगा।

  • शदबल में, यदि बृहस्पति को चंद्रमा से बेहतर रखा गया है या चंद्रमा को उच्च या अपने स्वयं की राशि में रखा गया है तो शकट योग कम प्रभावी हो जाता है।

  • जब राहु जन्म-चार्ट में चंद्रमा के साथ संयोजन बनाता है या राहु बृहस्पति से प्रभावित होता है तो शकट योग का दुष्प्रभाव रद्द हो जाएगा।

यदि चन्द्रमा या बृहस्पति लग्न से केंद्र में हों या जन्म-चार्ट में शुक्र और चंद्रमा की युति हो तो भी शकट योग होने पर व्यक्ति को सफलता और धन की प्राप्ति होगी। स्थिति तब है जब चंद्रमा मिथुन, कन्या, वृषभ या तुला राशियों में है और कर्क में बुध और शुक्र का संयोग है।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

Chat now for Support
Support