ग्राहक सेवा
9999 091 091

बृहस्पति गोचर 2022

ज्योतिष शास्त्र में गुरु यानि बृहस्पति ग्रह का बहुत बड़ा दर्जा है। इन्हें समस्त देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरु ज्ञान के सलाह के दाता हैं। बड़े बुजूर्गों, वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा गुरु की कृपा से ही संभव हैं। यदि आपकी कुंडली में गुरु शुभ हैं तो आपको विकट परिस्थितियों में भी सहयोग मिलता रहता है। कर्क राशि में बृहस्पति उच्च के होते हैं तो मकर राशि में इन्हें निकृष्ट माना जाता है। ये धनु व मीन राशि के स्वामी हैं। सूर्य, चंद्रमा व मंगल के साथ इनकी मित्रता है।  तो शुक्र व बुध के साथ ये शत्रुवत संबंध रखते हैं। राहु-केतु व शनि के साथ इनका तटस्थ संबंध है। बृहस्पति में एक खास बात यह भी है कि इनकी भले ही किसी ग्रह से शत्रुता हो लेकिन जो ग्रह इनके साथ मित्रता नहीं रखते वे इनके शत्रु भी नहीं है यानि अधिकतर ग्रहों का बृहस्पति से तटस्थ रिश्ता है। गुरु विवेकशील ग्रह माने जाते हैं और चीज़ों को एक विस्तृत पटल पर समझने के लिये सद्बुद्धि गुरु से ही मिलती है। इसलिये इन्हें संपत्ति व ज्ञान का कारक भी माना गया है। गुरु यानि बृहस्पति का परिवर्तन ज्योतिष के नज़रिये से व्यापक प्रभाव डालने वाली घटना मानी जाती है। इस पेज पर आपको बृहस्पति के राशि परिवर्तन से लेकर गुरु गोचर की समस्त जानकारी मिलेगी व साथ ही आप जान पायेंगें कि गरु का गोचर आपके लिये कैसे परिणाम लेकर आ सकता है। गुरु के राशि परिवर्तन के दौरान आपका राशिफल क्या रहेगा?

आपकी कुंडली के अनुसार ग्रहों की दशा क्या कहती है, जानें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करें।
कुंभ से मीन 13 अप्रैल 2022 04:58 पूर्वाह्न

एस्ट्रो लेख

द्रौपदी मुर्मू या यशवंत सिन्हा, जानिए किसको मिलेगी 2022 में राष्ट्रपति की कुर्सी?

वक्री शनि करेंगे मकर राशि में गोचर, किन राशियों को करेंगे प्रभावित

सावन में शिव पूजा से पूरी होगी मनोकामना, बन रहे हैं ये शुभ योग

अखंड सौभाग्य के लिए करें मंगला गौरी व्रत

Chat now for Support
Support