यंत्र - Yantra

यंत्र (Yantra) एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है एक उपकरण। यह एक रहस्यमय आरेख माना जाता है जिसका उपयोग प्राचीन काल से ध्यान और मानसिक शांति पाने के लिए एक सहायता के रूप में किया जाता रहा है। यन्त्रों का उपयोग करने की प्रथा नई नहीं है, इसके बजाय, इसका उपयोग वर्षों से विभिन्न प्रयोजनों के लिए कई रूपों में किया जाता रहा है। प्रत्येक यंत्र को एक विशेष देवता या भगवान के साथ जुड़ने और विशिष्ट लाभों को पाने के लिए बनाया गया है। या तो इसे ध्यान के माध्यम से या किसी विशेष स्थान पर यंत्र को रखकर किया जाता है।
यंत्र न केवल देवताओं से जुड़े होते हैं बल्कि जन्म कुंडली के अनुसार शासित ग्रह के लिए भी होते हैं। प्रत्येक ग्रह अद्वितीय लक्षण और व्यवहार का मालिक है जो इसे एक दूसरे से अलग करता है। इसी तरह, हम उनके साथ व्यवहार करते हैं वह भी भिन्न होता है। इस प्रकार, विभिन्न प्रयोजनों के लिए सभी प्रकार के यंत्र हैं।

यंत्रों का महत्व

प्रत्येक व्यक्ति के जन्म चार्ट के अनुसार, ग्रहों को अलग-अलग भावों में रखा जाता है, जिन्हें जीवन के विविध पहलू भी कहा जाता है। पत्रिका के घरों में धन, स्वास्थ्य, कैरियर, परिवार, प्रेम जीवन आदि शामिल हैं। वैदिक ज्योतिष कहता है कि प्रत्येक ग्रह की एक विशिष्ट प्रकृति होती है। कुछ को सकारात्मकता फैलाने के लिए जाना जाता है जबकि कुछ से नकारात्मकता फैलाने की आशंका होती है। दूसरी ओर, कुछ ग्रह स्थान के अनुसार अपना स्वभाव बदलते हैं। जन्म कुंडली में ग्रहों की निरंतर बदलाव और प्रवास इनके सकारात्मक और नकारात्मक दोनों को प्रभावित करते हैं। आपके जीवन में किसी भी ग्रह पर बुरे प्रभाव को कम करने के लिए, ज्योतिषी यंत्र से ग्रह को शांत करने का सुझाव देते हैं और जीवन में व्याप्त नकारात्मकता को कम करता है जो समृद्धि में बाधा बनती है।

यंत्रों का महत्व

यह प्रार्थना की तीव्रता को बढ़ाने में मदद करता है। सामान्य लोगों के रूप में, हमें हमेशा अधिक कुशलता से काम करने के लिए सहायता या एक प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है। इसी तरह, यंत्र एक साधन है जो आपकी गंभीरता को बढ़ाने और प्रार्थना की ओर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है।
यंत्र प्रतिध्वनि प्राप्त करने में मदद करता है। यह शरीर में ऊर्जा, कंपन और ब्रह्मांड के प्रभाव के प्रवाह को बढ़ाता है और गहनतम सत्य तक पहुंचने में मदद करता है। यंत्र की सहायता से प्रार्थना करने से ब्रह्मांड से लाभकारी ऊर्जा को आकर्षित करने और जीवन में नकारात्मक ऊर्जाओं के दुष्प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है। यंत्र आपको मानसिक अव्यवस्था को सुलझाने में सहायता करते हैं और समस्याओं को एक-एक करके हल करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। यह आपको जीवन में एक उद्देश्य को आगे बढ़ाने और उसकी ओर काम करने में मदद करता है।

यंत्र किस लिए उपयोग होते हैं?

यंत्र तीन मुख्य उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं।

  1. यंत्रों का उपयोग अनुष्ठान के लिए किया जाता है। एक विशेष पूजा या किसी अनुष्ठान के दौरान, सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए यंत्र रखा जाता है।
  2. यंत्रों का उपयोग नियमित पूजा के लिए भी किया जाता है। आप यंत्र मंदिरों में पा सकते हैं जो अभिमंत्रित होते हैं। उनमें से कुछ यंत्रों पर मंत्रों को लिखा गया होता है।
  3. यंत्र का उपयोग इच्छे उन्मुख उद्देश्यों के लिए किया जाता है। ये विशेष सामग्री जैसे फूल, चावल के पेस्ट और यहां तक ​​कि राख से बने होते हैं।


राशि रत्न

यह आपको जीवन में ग्रहों के बुरे प्रभाव से छुटकारा पाने या में मदद करता है।
यह सफलता, समृद्धि और सौभाग्य को आकर्षित करता है।
यह घर, कार्यालय या जहां भी रखा जाता है, वहां सकारात्मक ऊर्जा फैलाता है।
यह व्यवसाय में लाभप्रदता को बढ़ाता है।
यह मानसिक मंत्र, गतिविधियों और अन्य बुरे प्रथाओं से बचाता है।
यह आंतरिक सद्भाव प्रदान करता है।
यह एक मशीन की तरह काम करता है जो जीवन को बेहतर बनाने के लिए ध्यान और सामर्थ्य को बढ़ाता है।

यंत्र की संरचना

यंत्र (Yantras) अधिकतर एक त्रिभुज, वृत्त, षट्भुज, अष्टभुज या प्रतीकात्मक कमल की पंखुड़ियों के आकार में पाए जाते हैं। इसे सपाट सतह पर भी बनाया जा सकता है क्योंकि यह कागज पर तीन आयामी या धातु पर उकेरा जा सकता है।
यंत्र कलात्मक पक्ष प्रदर्शित करने के लिए नहीं बने हैं। इसके बजाय, बनाने में केवल विशिष्ट रंगों का उपयोग किया जाता है। प्रत्येक रंग विचार, उद्देश्य को दर्शाता है और इसका उपयोग चेतन से जुड़ने के लिए किया जाता है क्योंकि प्रत्येक रंग का महत्व है। बिन्दु यन्त्र का केंद्र बिंदु है, जो यन्त्र से जुड़े मुख्य देवता का प्रतिनिधित्व करता है।

यन्त्र के प्रकार

ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह के यन्त्र (Yantra) बाजार में उपलब्ध हैं। यन्त्र को उद्देश्य के अनुसार अनुकूलित किया जाता है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए यन्त्र की तरह ही, करियर के लिए यन्त्र उपलब्ध है, एक आम आदमी के रूप में, आपको नहीं पता होगा कि कौन सा यंत्र प्रयोग किया जाना है और आपके लिए सबसे अच्छा है। सुनिश्चित करें कि आप उचित परामर्श के बिना एक यंत्र नहीं खरीदते हैं। क्योंकि यंत्र का महत्व है इसे धारण करने के पीछे वजह भी होती है। इसके साथ ही समस्या के अनुसार ही यंत्र पहनना कारगर होता है।
विशेषज्ञ ज्योतिषी के पास पहुँचें, और उसे ग्रहों की स्थिति के साथ अपने जन्म चार्ट का विश्लेषण करने दें। एक बार यह पूरा हो जाने पर, वह आपको एक उपयुक्त यन्त्र सुझाएँगे, जो आपके जीवन में सकारात्मकता और समृद्धि को आकर्षित करने की दिशा में काम करेगा।
कुछ लोकप्रिय यंत्र हैं:

श्री यंत्र

यह मूल रूप से किसी व्यक्ति के नाम, प्रसिद्धि और समग्र व्यक्तित्व और मान्यता को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है।

कुबेर यंत्र

इसका उपयोग वित्तीय लाभ और धन पर पकड़ के लिए किया जाता है।

नवग्रह यंत्र

यह सभी नौ ग्रहों के प्रभाव को शांत करता था और जीवन में शांति प्राप्त करता है।
नोट: एक विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा परामर्श के बगैर और किसी भी ऊर्जा के बिना लिया गया यन्त्र किसी काम का नहीं है।




एस्ट्रो लेख

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜

परशुराम जयंती 2...

भगवान परशुराम वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन अवतरित हुए भगवान विष्णु के छठे अवतार थे। इन्हें विष्णु का आवेशावतार भी कहा जाता है क्योंकि इनके क्रोध की कोई सीमा नहीं थी। अपने पिता की हत्य...

और पढ़ें ➜